Search

CAT 2019 में बेहतरीन मार्क्स पाने के कारगर टाइम मैनेजमेंट टिप्स

दुनिया के अन्य सभी कामों की तरह ही अब CAT एग्जाम में शानदार सफलता हासिल करने के लिए आपको एग्जाम के दौरान सटीक टाइम मैनेजमेंट आनी चाहिए. इस आर्टिकल में कुछ कारगर टाइम मैनेजमेंट टिप्स दिए जा रहे हैं ताकि आप आगामी CAT एग्जाम में बेहतरीन मार्क्स हासिल कर सकें.

Oct 12, 2019 16:37 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Effective Time Management Tips for CAT 2019 Exam
Effective Time Management Tips for CAT 2019 Exam

CAT एग्जाम में लागू किया गया सेक्शनल टाइम लिमिट काफी चुनौतीपूर्ण मॉडिफिकेशन है. इस वजह से CAT एग्जाम देश के अन्य सभी MBA एंट्रेंस एग्जाम्स से मुश्किल हो गया है. कुछ MBA कैंडिडेट्स ने इस कदम का स्वागत किया है लेकिन कुछ अन्य MBA कैंडिडेट्स का कहना है कि इससे स्टूडेंट्स को परेशानी होगी और CAT एग्जाम के माध्यम से किसी अच्छे बी-स्कूल में एडमिशन लेना होना काफी मुश्किल हो जायेगा.

CAT आस्पिरेंट कैंडिडेट्स को CAT एग्जाम 2019 देने से पहले नीचे दिए गए पॉइंट्स पर जरुर गौर करना चाहिए ताकि यह एग्जाम वे काफी अच्छे मार्क्स लेकर पास कर सकें:

  1. CAT 2019 फॉर्मेट में तीन सेक्शन होंगे और हरेक सेक्शन में 30 से 35 प्रश्न शामिल होंगे.
  2. CAT 2019 में आने वाले क्वेश्चन पेपर में अगले खंड में जाने से पहले किसी विशेष सेक्शन में लगभग 30 विषम प्रश्नों का उत्तर देने के लिए कैंडिडेट्स को 60 मिनट मिलेंगे.
  3. ऐसे में, अगर हम बेसिक मैथ पर विचार करते हैं तो कैंडिडेट्स को एक प्रश्न हल करने के लिए लगभग 2 मिनट का समय मिलेगा. वास्तव में यह स्टूडेंट्स के लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य होगा तथा इससे CAT एग्जाम का डिफिकल्टी लेवल भी बढ़ सकता है.
  4. आमतौर पर एक्सपीरियंस्ड और खूब मेहनती स्टूडेंट्स को भी प्रत्येक प्रश्न का उत्तर देने के लिए 3-4 मिनट की आवश्यकता होती है.

दरअसल, सेक्शनल टाइम लिमिट एक लिमिटेशन की तरह लगता है लेकिन यह वास्तव में सभी MBA कैंडिडेट्स के लिए एक वरदान है. CAT कैंडिडेट्स द्वारा खुद को भविष्य के बिजनेस लीडर्स के रूप में तैयार करने की दिशा में यह चुनौती मददगार साबित हो सकती है. इसलिए, इस चुनौती का सामना करने के लिए कारगर टाइम मैनेजमेंट की बहुत जरूरत है और हम आपके लिए यहां कुछ उपयोगी टिप्स पेश कर रहे हैं जैसेकि:

सेक्शनल टाइम लिमिट का फायदा उठाएं

अगर आप ऐसा सोच रहे हैं कि, आप किस प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं या उसका उत्तर कब दें आदि चुनने की आपकी स्वतंत्रता पर सेक्शनल टाइम लिमिट अनावश्यक प्रतिबन्ध लगा रहा है तो यह बिलकुल गलत है. पहले के फॉर्मेट में कैंडिडेट्स बिना किसी समय सीमा के एक सेक्शन से दूसरे सेक्शन में जाकर उस सेक्शन के प्रश्न को हल करने लगते थे. इस प्रोसेस में कई कैंडिडेट्स नये सेक्शन को समझने तथा उसके प्रश्नों को हल करने में ज्यादा समय लेकर अपना समय बरबाद कर देते थे. वास्तव में वे इतने समय में और अधिक प्रश्नों को हल कर सकते थे.

CAT एग्जाम में फ्रीडम ऑफ़ चॉइस हटाने के लिए सेक्शनल टाइम लिमिट को लागू करने से कैंडिडेट्स का एक तरह से भला ही हुआ है.

CAT 2019 का फॉर्मेट बहुत सिंपल है जिसमें 30+ प्रश्नों के जवाब देने के लिए आपको एक घंटा दिया जाता है. इसलिए, ‘इस पूरे एग्जाम को तीन घंटे में पूरा करना है’ कुछ ऐसा सोचने की बजाय आप यह सोंचे कि हमें हरेक सेक्शन को 1 घंटा में पूरा करना है.

 

CAT 2019 फॉर्मेट के संबंध में ध्यान रखने योग्य एक और महत्वपूर्ण बात है इसमें हल किये जाने वाले प्रश्नों की संख्या.

नेगेटिव मार्किंग के कारण कैंडिडेट्स के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे सही उत्तरों पर अपना पूरा फोकस रखें. हल किए गए प्रश्नों की संख्या के बजाय यदि हम इसे इस तरह देखें तो आसानी होगी. औसतन कैंडिडेट्स सिर्फ 20 प्रश्नों का सही उत्तर दे पाएंगे. इस बात को ध्यान में रखा जाय तो कैंडिडेट्स को हरेक प्रश्न के लिए औसतन 3-4 मिनट का समय मिलेगा जो कि सटीक समय है. अगर आप सेक्शनल टाइम लिमिट के भीतर 1 घंटे में एक सेक्शन से 20 से 22 प्रश्नों का आसानी से जवाब देने में सक्षम हैं तो इस एग्जाम में आप 98 या 99 प्रतिशत स्कोर हासिल कर सकते हैं.

नॉन MCQ क्वेश्चन्स के लिए नेगेटिव मार्किंग नहीं होती इसलिए उनके आंसर्स दें

कैंडिडेट्स के लिए CAT 2019 के लिए अपना समय बेहतर तरीके से मैनेज करने का यह एक और बेहतरीन तरीका है कि, पहले उन प्रश्नों के आंसर्स दें जिनके लिए नेगेटिव मार्किंग नहीं की जाती है. CAT 2019 फॉर्मेट में प्रत्येक सेक्शन में MCQ और नॉन-MCQ प्रश्न पूछे जाते हैं. आमतौर पर नॉन-MCQ प्रश्नों के लिए नेगेटिव मार्किंग नहीं की जाती है तथा कॉन्सेप्ट से परिचित होने के कारण ऐसे प्रश्नों का उत्तर देना अपेक्षाकृत आसान होता है. इसलिए इसे सुरक्षित माना जाता है.

कैंडिडेट्स को सबसे पहले अपनी रुचि के विषयों या किसी अन्य आधार पर पूछे गए ऐसे नॉन-MCQ प्रश्न को चुनना चाहिए जिन्हें वे पहले हल करने में सक्षम हों. एक बार जब कैंडिडेट्स ऐसे प्रश्नों के समुचित उत्तर लिख लें, तब MCQ प्रश्नों को हल करने की कोशिश करें और उनमें से प्रत्येक प्रश्न के लिए समय सीमा निर्धारित करें. इसमें भी पहले आसान प्रश्नों को हल करें फिर मुश्किल प्रश्नों को हल करने की कोशिश करें.

लंबे समय तक बैठने का पेशेंस

आमतौर पर, CAT कैंडिडेट्स को शॉर्ट स्टडी सेशन में पढ़ने की आदत होती है. MBA कैंडिडेट्स के  कोचिंग इंस्ट्रक्टर्स समेत लगभग अन्य सभी लोग स्टूडेंट्स शॉर्ट स्टडी सेशन्स को फ़ॉलो करने की सिफारिश करते हैं. लेकिन यह तरीका तैयारी के शुरूआती दिनों में तो लाभदायक होता है परंतु CAT एग्जाम में इससे गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है.

दरअसल, CAT कैंडिडेट्स को लगातार तीन घंटे तक अपना पूरा एग्जाम देना होगा. लेकिन अधिकतर CAT कैंडिडेट्स को इसकी आदत नहीं होती है. ऐसे में, कैंडिडेट्स के लिए अपने दिमाग पर कठिन से कठिन सवालों को हल करने के लिए जोर डालना काफी मुश्किल साबित हो सकता है और इस वजह से कैंडिडेट्स के लिए CAT एग्जाम 2019 में शानदार सफलता हासिल करना मुश्किल हो सकता है. इसका सबसे सरल समाधान है तो यह है कि, CAT आस्पिरेंट्स पिछले कुछ वर्षों के क्वेश्चन पेपर और/ या सैंपल पेपर्स सेक्शनल टाइम लिमिट के भीतर 3 घंटे में पूरा करने की कोशिश करें. ऐसा करने पर CAT एग्जाम में शानदार सफलता हासिल करने की काफी अधिक संभावना हो जायेगी. हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं. 

Related Stories