Search

विद्यार्थियों द्वारा NCERT किताबों से जुड़े अक्सर पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण सवाल व उनके जवाब

May 18, 2018 12:34 IST
FAQs regarding importance of NCERT books

जब बात बोर्ड परीक्षा या अन्य किसी प्रतियोगी परीक्षा के लिए मजबूत व असरदार तैयारी की हो तब छात्रों को केवल एन.सी.ई.आर.टी. की किताबें फॉलो करने का सुझाव दिया जाता है.  सिविल सर्विसेस से लेकर कई अन्य प्रतियोगी परीक्षा के पेपर्स का आधार एन.सी.ई.आर.टी. की किताब ही होती है.   

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान व प्रशिक्षण परिषद (एन.सी.ई.आर.टी.) कक्षा 1 से 12 तक के लिए किताबें प्रकाशित करती है. ये किताबें छात्रों की बुद्धिमत्ता के स्तर की परवाह किए बगैर सभी प्रकार के छात्रों के लिए डिजाइन की गयी हैं जो आपके संदेहों, अवधारणाओं को स्पष्ट करने और जटिल विषयों की गहन समझ देने में बेहद कारगर साबित होती हैं.

एन.सी.ई.आर.टी. की किताबों की महत्ता के संबंध में छात्रों के मन दिमाग में कुछ सवाल हैं जिनके बारे में हम यहाँ  चर्चा करेंगे और उन सवालों के जवाब देंगे जिससे छात्रों के भीतर चल रही दुविधा को ख़त्म किया जा सके और वे बेहतर परिणाम हासिल करने के लिए सही अध्ययन सामग्री का चुनाव कर सकें.

एन.सी.ई.आर.टी. से संबंधित छात्रों के सवाल व उनके जवाब नीचे पढ़ें:

1. क्या केवल एन.सी..आर.टी. की किताबें पढ़कर ही कक्षा 10वीं और 12वीं में 80% से ज़्यादा अंक प्राप्त किये जा सकते हैं?

उत्तर: किसी भी परीक्षा में प्राप्त किए जाने वाले अंक छात्र की तैयारी व परीक्षा में किए प्रदर्शन पर निर्भर करते हैं. बेशक एन.सी.ई.आर.टी. की किताबें कॉन्सेप्ट्स क्लियर करने और किसी भी विषय का आधार मज़बूत बनाने में सबसे ज़्यादा असरदार स्रोत साबित होती हैं जिसकी मदद से आप परीक्षा में दिए विभिन्न प्रकार के प्रश्नों के जवाब आसानी से दे सकते हो. लेकिन एन.सी.ई.आर.टी. में दी गई महत्वपूर्ण जानकारी को ग्रहण करने के लिए इन किताबों में दी हर लाइन का गहन अध्ययन करना बेहद ज़रूरी है.

जानें एन.सी.ई.आर.टी. की किताबों को पढ़ने के 10 फायदे

2. एन.सी.ई.आर.टी. बुक्स को पढ़ने का सबसे सही तरीका क्या है?

उत्तर: एन.सी.ई.आर.टी. की किताबों को प्रभावशाली तरीके से पढ़ने के लिए नीचे लिखी तकनीक का प्रयोग करें:

  • किताब में दिए हर टॉपिक के एक-एक शब्द और लाइन का मतलब व महत्त्व समझें व प्रत्येक टॉपिक का गंभीर अध्ययन करें.
  • पढ़ते समय जो भी चीज़ आपको महत्वपूर्ण या थोड़ी जटिल लगे उसे अलग से नोट करलें ताकि बाद में आप उन चीज़ों को दोहराया जा सके.
  • एनसीईआरटी की किताबों में प्रत्येक अध्याय के अंत में कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न दिए गए होते हैं। ये खाली स्थान भरो, मिलान करो, विवरणात्मक प्रश्न या सिर्फ एक शब्द में उत्तर दें, वाले प्रश्न होते हैं। इन सभी प्रश्नों को हल ज़रूर करें क्योंकि अक्सर इन प्रश्नों को ही तोड़– मरोड़ कर बोर्ड की परीक्षाओं में पूछा जाता है। 

3. क्या मुझे एन.सी.ई.आर.टी. बुक्स से नोट्स बनाने चाहिए?

उत्तर: दरअसल नोट्स का सबसे ज़्यादा महत्त्व परीक्षा के दिनों के लिए होता है जब आपको कम समय में ही सम्पूर्ण पाठ्यक्रम का अभ्यास करना होता है. इस समय किताब से हर लाइन पढ़ना काफी मुश्किल होगा. इसलिए बेहतर है कि जब आप एन.सी.ई.आर.टी. की किताब से कोई अध्याय पढ़ते हैं तो उस पाठ में आने वाले सभी महत्वपूर्ण टॉपिक्स, परिभाषाएँ, फ़ॉर्मूले या डायग्राम आदि को साथ-साथ रिवीजन नोट्स के रूप में एकत्र करते रहें ताकि परीक्षा की तैयारी को आसान व व्यवस्थित बनाया जा सके.

4. एन.सी.ई.आर.टी. की किताबों से परीक्षा के लिए अच्छे व उपयोगी नोट्स कैसे बनाएं?

उत्तर: जब नोट्स बनाने की बात करते हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि किताब में जो भी पढ़ा उस ज्यों का त्यों नोटबुक में लिखलें बल्कि नोट्स बनाने से पहले प्रत्येक टॉपिक का अर्थ व महत्त्व समझें तब ही उन्हें अपनी नोटबुक में उतारें.

नोट्स बनाते समय नीचे लिखी चीज़ों का ध्यान रखें:

  • किताब में दिए किसी एक गद्यांश, पेज या ख़ास टॉपिक को अच्छे से पढ़ें.
  • इनमें दिए कॉन्सेप्ट को समझें.
  • जो आपको समझ आए उसे संक्षेप में अपनी खुद की भाषा में नोटबुक में लिखें.
  • जहाँ ज़रूरत हो वहाँ डायग्राम का इस्तेमाल करें जिससे आपको क्विक लर्निंग में मदद मिले.
 

5. क्या एन.सी.ई.आर.टी. की किताब में दिए सभी प्रश्नों को हल करना चाहिए?

उत्तर: जैसे की हमने ऊपर भी बात की है कि एन.सी.ई.आर.टी. की किताब में प्रत्येक अध्याय के अंत में दिए जाने वाले सभी प्रश्न हल करना या उनके जवाब जानना छात्रों के लिए बहुत ज़रूरी है क्योंकि यही सब सवाल बोर्ड परीक्षा में या अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में घुमा-फिरा कर पूछे जाते हैं. इसके आलावा इन प्रश्नों को हल करने का दूसरा फ़ायदा यह भी है कि इससे छात्रों को अध्याय में पढ़े कॉन्सेप्ट्स समझने में मदद मिलती है और साथ ही उनकी सीख और समझ का टेस्ट भी हो जाता है.

एन.सी.ई.आर.टी. बुक्स में दिए प्रश्नों के कुछ ख़ास फ़ायदे इस प्रकार हैं:

  • आप पाठ में पढ़े कॉन्सेप्ट्स व फ़ॉर्मूले समझ पाते हैं और अन्य प्रश्नों में भी उनका उपयोग करना सीखते हैं.
  • आप विभिन्न प्रकार के प्रश्नों से परिचित होते हैं जो परीक्षा में पूछे जा सकते हैं.
  • इससे आपको पर्याप्त अभ्यास का मौका मिलता है जो किसी भी विषय में सफ़ल होने के लिए बेहद ज़रूरी है.
  • उत्तर लिखते समय यथार्थता व गति में सुधार आता है.

6. एन.सी.ई.आर.टी. की किताबें JEE और AIPMT जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कितनी फ़ायदेमंद हैं?

उत्तर: देश में होने वाली ज्यादातर प्रवेश परीक्षाएं जैसे कि JEE, NEET, आदि सभी में पूछे जाने वाले प्रश्नों का आधार एन.सी.ई.आर.टी. की किताबें ही हैं. दरअसल ज़्यादातर प्रतियोगी परीक्षाएं माध्यमिक व उच्च माध्यमिक कक्षाओं में पढ़े जाने वाले सीबीएसई सिलेबस पर आधारित होती हैं और एन.सी.ई.आर.टी. की किताबों में सीबीएसई सिलेबस का सख्ती से पालन किया जाता है. इसके आलावा सभी प्रतियोगी या प्रवेश परीक्षाएं छात्रों की कॉन्सेप्ट्स और टॉपिक्स पर पकड़ को टेस्ट करती हैं जिसके लिए एन.सी.ई.आर.टी. से बेहतर और कोई स्रोत नहीं है. इन किताबों का गहन अध्ययन करने से छात्र हर विषय के बेसिक्स यानि आधार पर मजबूत पकड़ बना पाते हैं जो कि उससे जुड़े विभिन्न प्रश्नों का सही हल निकलने की लिए ज़रूरी है.

7. एन.सी.ई.आर.टी. की किताबों में दिए प्रश्नों के सही व सरल उत्तर कहाँ मिल सकते हैं?

उत्तर: कक्षा 9वीं और 10वीं में विज्ञान व गणित विषय के लिए एन.सी.ई.आर.टी. प्रश्नों के सही उत्तर आप jagranjosh.com/cbse पर पा सकते हैं. इसके आलावा यहाँ आप कक्षा 11वीं और 12वीं के भी सभी महत्वपूर्ण विषयों के लिए एन.सी.ई.आर.टी. सोल्यूशन पा सकते हैं.

बोर्ड परीक्षा के लिए एनसीईआरटी किताबों का क्या है महत्त्व?