Search

ऑफिस में प्रोडक्टिविटी के लिए क्यों ज़रूरी हैं गेम्स

आज के डिजिटल युग मेंगेम हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है. कॉलेज स्टूडेंट्स और प्रोफेशनल्स को अक्सर कैंडी क्रश या कई अन्य लोकप्रिय गेम खेलते हुए आसानी से देखा जा सकता है.

Feb 20, 2019 11:58 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
How playing games can help you succeed at work?
How playing games can help you succeed at work?

आज के डिजिटल युग मेंगेम हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है. कॉलेज स्टूडेंट्स और प्रोफेशनल्स को अक्सर कैंडी क्रश या कई अन्य लोकप्रिय गेम खेलते हुए आसानी से देखा जा सकता है. आमतौर पर, ये गेम एंटरटेनमेंट के नजरिये से देखे जाते हैं. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि गेम खेलना ऑफिस में आपकी परफॉरमेंस को भी बेहतर कर सकता है? एक स्टडी के अनुसार गेमिंग मनोविज्ञान, परफॉरमेंस बेहतर करने में यंग वर्किंग प्रोफेशनल्स की मदद कर सकता है. ज्यादातर नए गेम्स ऑफिस जाने वाले यंग वर्किंग प्रोफेशनल्स को ध्यान में रखकर मोबाइल के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. यह गेम्स अलग-अलग तरीकों से परफॉरमेंस सुधारने में मदद कर सकते हैं.

टारगेट पर फोकस करने में सहायता करता है

असाइनमेंट्स और टारगेट्स ऑफिस लाइफ के दो महत्वपूर्ण हिस्से हैं. दिये गये असाइनमेंट को पूरा करने और रूटीन टारगेट को हासिल करने की एक निश्चित समय सीमा होती है. यह एकदम गेम्स जैसा ही होता है जिसमें प्लेयर को अपना टारगेट एक निश्चित समय सीमा में हासिल करना होता है. लक्ष्य के प्रति एकाग्रता औरचुनौतियों और अवरोधों का सामना करने की क्षमता, इन गेम्स में सफल होने के लिए आवश्यक है और इनका  विकास, गेम खेलते रहने से, धीरे धीरे होता है.

काम में रूचि बढ़ता है

सामान्यतया लोग घंटों खेलते रहने के बाद भी नहीं थकते. न ही गेम में रूचि लेना बंद करते हैं. इतना ही नहीं, कुछ गेम्स तो ऐसे हैं जिनसे दूर होना भी गेमर्स के लिए कठिन होता है. एक खास तरह के गेम मैकेनिक्स और गेम मनोविज्ञान की वजह से ऐसा होता है. जो अंततः प्लेयर्स की टास्क और टारगेट में रूचि को बढ़ाता है और लक्ष्य को समय सीमा के भीतर पूरा करने के लिए प्रेरित करता है. अंतर्निहित प्रेरणा प्रदान करता है गेम्स में हम नई नई चुनौतियों का सामना करते हैं जिससे टारगेट पूरा करने की स्किल्स और एबिलिटीज का विकास होता है. खेल के विभिन्न स्टेजज में, हम प्रैक्टिस करते हैं और हर असफलता के बाद हम परफॉरमेंस सुधारते हैं. इसी तरह,यदि आप अपने काम और प्रोफेशनल लाइफ में चुनौतियों का सामना करते हैं तो आपकी परफॉरमेंस सुधर सकती है.

प्रोडक्टिविटी बढ़ता है

लगातार अभ्यास से परफॉरमेंस अच्छी होती है. खासकर तब जब आप वर्किंग प्रोफेशनल हों और एक ही तरह के रूटीन टास्क हैंडल करते हों. यह किसी भी काम में दक्षता हासिल करने का सीधा और सरल फार्मूला है. लेकिन,अगर हम उस खास में रूचि नहीं लेते हैं तो इसका परिणाम नेगेटिव भी हो सकता है. इसलिए, अपने काम के उस पहलू पर ध्यान दें जो आपके के लिए लाभदायक हो . बिलकुल गेम्स की तरहही हमेशा उन पहलुओं पर केन्द्रित रहें. इससे काम में आपकी रूचि बढ़ने के साथ साथ प्रोडक्टिविटी भी बढ़ेगी.

आखिरकार

बचपन से हमें बताया जाता है कि ऑफिस में काम करना आसान नहीं होता है. लेकिन, वास्तव में यह पूर्णतया सच नहीं है. खासकर ऐसे समय में जब गेम्स यंग वर्किंग प्रोफेशनल्स के बीच इतना लोकप्रिय हो गया हो. मोबाइल गेम्स ने न केवल लक्ष्य के प्रति एकाग्रता बल्कि चुनौतियों का सामना करने की क्षमता का भी विकास किया है. इस लेख में हमने गेम्स खेलने से होने वाले चुनिन्दा फायदों को साझा किया है जो परफॉरमेंस सुधरने में आपकी मदद करेंगे.

Related Stories