Search

मुश्किलों को करें आसान

Aug 16, 2018 15:41 IST
    How to build a successful startup
    How to build a successful startup

    आज दुनिया से लेकर हमारे देश तक स्टार्टअप की धूम है। ज्यादातर युवा अपने मन का काम करते हुए नौकरी करने की बजाय देने वाला बनना चाहते हैं। पर भरपूर उत्साह होने के बावजूद स्टार्टअप की राह में तमाम मुश्किलें भी होती हैं। इन मुश्किलों को कैसे बनाएं आसान, बता रहे हैं युवा सामाजिक उद्यमी शलभ सहाय...

    तो आपने भी ठान लिया है कि आपका अपना खुद का स्टार्टअप होगा। और क्यों न हो, कैलिफोर्निया से ले लेकर बेंगलुरु और ईलॉन मस्क (टेस्ला व स्पेसेक्स के संस्थापक) से लेकर हमारे प्रधानमंत्री तक हर कोई आजकल स्टार्टअप की ही बात करता है। और फिर आपके अड़ोस-पड़ोस में कोई न कोई स्टार्टअप से कुछ न कुछ ताल्लुक रखता ही होगा। तो हमने भी मान लिया कि भई अब तो आपको अपना स्टार्टअप शुरू करना ही है। लेकिन अब क्या? सिर्फ आपके ठान लेने से या हमारे मान लेने से तो कुछ खास होगा नहीं। तो अब से यह कॉलम आपको स्टार्टअप से जुड़ी कुछ उपयोगी बातें, जरूरी टिप्स और कुछ आम गलतियों से रूबरू कराता रहेगा...

    मूल सवाल सबसे पहले कि क्यों करें स्टार्टअप? कुछ देर के लिए दोस्त, बेंगलुरु वाले चाचा और मंत्री जी को छोड़ दीजिए और अपनी बात कीजिए कि आखिर आप क्यों करना चाहते हैं स्टार्टअप। इसके लिए यहां दिए गए कुछ सवालों से खुद को टटोलिए:

    1. क्या आपको किसी और के लिए काम करना पसंद नहीं? आप पढ़ाई में अच्छे थे या नहीं, लेकिन हमेशा कुछ नया करने की फिराक में रहते हैं।

    2. क्या आप जल्द ही धन और शोहरत कमाना चाहते हैं? या चाहते हैं कि आप भी बड़े व दिलचस्प लोगों से वास्ता रखें? हालांकि ऐसा कर पाने के और भी कई तरीके हो सकते हैं?

    3. क्या आप सिर्फ अपने लिए ही नहीं, बल्कि कई लोगों के लिए रोजगार उत्पन्न करना चाहते हैं?

    4. क्या आप बहुत जल्दी काम व बिजनेस के विषय में बहुत कुछ सीखना चाहते हैं? क्योंकि आपका स्टार्टअप अगर चल निकला तब तो बढ़िया है ही, लेकिन अगर कुछ खास बात नहीं बनी, तब भी अपने और काम के बारे में सीखने का यह एक अनूठा जरिया है।

    5. क्या आप लंबे समय तक खुद ही अपने लक्ष्य की तरफ लगन से काम कर सकते हैं? और इसके लिए आपको किसी और के प्रोत्साहन की खास जरूरत नहीं? ध्यान रहे कि यह मूल्यांकन आपको खुद ही करना होगा। अगर इनमें से कुछ सवालों पर आप खरे उतरते हैं, तो शायद स्टार्टअप का सफर आपको रास आएगा। तो खुद को इन मानकों पर आंकिए। चाहें तो कुछ करीबी लोगों, जैसे-मित्र, परिवार, टीचर, सहयोगी या अपने बॉस से भी मशविरा करके देखिए। फिर लगता है कि भई हां, कुछ तो ऐसी बात है आपमें, तो हो जाइए सफर के लिए तैयार।

    (www.iVolunteer.in व www.jobsforgood.com के फाउंडर)

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    X

    Register to view Complete PDF