Search

पहले ही प्रयास में SSC CHSL परीक्षा को कैसे क्रैक करें?

Jan 23, 2019 14:01 IST

कर्मचारी चयन आयोग (SSC) हर साल विभिन्न सरकारी विभागों और मंत्रालयों में विभिन्न पदों के लिए CHSL परीक्षा को आयोजित करता है। लाखों इच्छुक उम्मीदवार, जो सरकारी नौकरियों को पाना चाहते हैं, इस प्रविष्टि में आवेदन करते हैं। हर साल SSC CHSL पदों के लिए प्रतियोगिता दिन-पे-दिन कठिन होती जा रही है क्योंकि हर साल अधिक से अधिक उम्मीदवार लिखित परीक्षा दे रहे हैं| इसमें चयन के चार स्तर सम्मिलित हैं। सबसे पहले, अभ्यर्थियों को टियर -1 और टियर -2 लिखित परीक्षा के तहत जाना होता है|  इसके बाद आयोग वर्णनात्मक पेपर और कंप्यूटर प्रवीणता परीक्षा के आधार पर पदों के लिए अंत में चयन करता है। अत:, उम्मीदवार इस परीक्षा के इन चरणों को पूरे ध्यान और तैयारी के साथ पार करके सफल उम्मीदवारों की सूची में अपने नाम को दर्ज कर सकते है| यह सूची हर साल भर्ती प्रक्रिया के अंत में आयोग द्वारा तैयार की जाती है।

SSC CHSL परीक्षा फॉर्म भरने के बाद, उम्मीदवारों को तदनुसार लिखित परीक्षा की तैयारी शुरू करनी चाहिए। टीयर -1 परीक्षा का स्तर, टियर -2 परीक्षा के स्तर से थोड़ा कम होता है। कई उम्मीदवार टियर-1 की परीक्षा को लापरवाही से लेते हैं संभवत: यह उम्मीदवारों की मूर्खतापूर्ण गलती हो सकती है क्योंकि टियर -1 इस भर्ती में आगे बढ़ने के लिए सबसे पहला और महत्वपूर्ण चरण है। टीयर -1 के अलावा, टीयर -2 भी महत्वपूर्ण है क्योंकि दोनों चरणों के अंक अंतिम मेरिट सूची में सम्मिलित किये जाते हैं। इन दोनों चरणों के बाद के स्तर केवल क्वालीफाइंग प्रकृति के होते हैं.

SSC CHSL परीक्षा को क्रैक करने की 100 दिन की योजना

पहले प्रयास में SSC CHSL को क्रैक करने की युक्तियां

अधिसूचना का सावधानीपूर्वक मूल्यांकन

उम्मीदवारों को SSC CHSL के नवीनतम पाठ्यक्रम, परीक्षा पैटर्न और अन्य चयन मानदंडों के बारे में अधिक जानने के लिए आवेदन पत्र के साथ उपलब्ध आधिकारिक अधिसूचना को भी पढ़ना चाहिए। तदानुसार तैयारी शुरू करने के लिए उन्हें टियर-1 और टियर -2 दोनों के सिलेबस को देखना चाहिए। पाठ्यक्रम के अलावा, इसमें कुछ अनिवार्य दिशानिर्देश भी सम्मिलित होते हैं. जिनमें आपको सतर्कता अपनानी चाहिए। यदि आप इन नियमों / विनियमों और दिशानिर्देशो, जिसमे विशेष रूप से परीक्षा में भाग लेने से पहले के आयु-मापदंड, रियायती और गैर-रियायती मानदंड, डेटा टाइपिंग की गति, प्रदत्त पद और उनके संबंधित वेतनमान सम्मिलित है, का पालन नहीं करते है, तो आपकी पात्रता को किसी भी चरण में स्थगित किया जा सकता है|

पुस्तकों का चयन

जैसा कि कहा जाता है, "किताबें हर किसी के लिए सबसे अच्छी दोस्त होती हैं"| इसलिए, श्रेष्ठतम तैयारी के लिए हमेशा सर्वोत्तम पुस्तकें को ही चुनें। इसलिए बाजार में उपलब्धता के आधार पर सभी विषयों के लिए अलग-अलग स्टैण्डर्ड पुस्तकों को या सभी विषयों की संयुक्त पुस्तकों को भी अध्ययन के लिए चुना जा सकता है। स्टैण्डर्ड पुस्तकों की सबसे महत्वपूर्ण गुणवत्ता यह है कि इनमें टॉपिक्स और अवधारणाओं का विवेचन सबसे आसान प्रश्नों से लेकर कठिन प्रश्नों के माध्यम से किया जाता हैं।

पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्र

SSC CHSL परीक्षा के किसी भी चरण में आने से पहले प्रयास हेतु पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। यदि आप पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र का अभ्यास नहीं करते हैं, तो आप निम्नलिखित चीजों से वंचित हो सकते हैं-

बिना कोचिंग के SSC CHSL की तैयारी कैसे करें?

- SSC, पाठ्यक्रम के प्रत्येक सूचीबद्ध टॉपिक्स से CHSL परीक्षा में कितने सवालों पूछे जाते हैं?

- आगामी परीक्षा में इन सवालों का कठिनाई स्तर क्या होगा?  इससे आप किसी विशेष अनुभाग के उस टॉपिक पर बहुत समय आवंटित कर सकते हैं।

- सबसे ज्यादा दोहराए जाने वाले प्रश्नों से अनजान भी रह सकते है क्योंकि कभी-कभी SSC अपनी आगामी परीक्षा में पिछले साल के प्रश्नों का प्रयोग भी करता है।

- आप अपने मजबूत और कमजोर क्षेत्रों की जानकारी से वंचित हो सकते हैं।

- आप कम अंकों वाले टॉपिक्स तैयार करने में अपना समय बर्बाद कर सकते हैं और अधिक महत्वपूर्ण विषयों को तैयारी के दौरान छोड़ सकते हैं।

मॉक टेस्टस और ऑनलाइन टेस्ट सीरीज

अधिक सुधार के लिए अपने ज्ञान के स्तर का टेस्ट करना हमेशा सबसे अच्छा तरीका होता है। मॉक टेस्टस या ऑनलाइन टेस्ट सीरीज के लिए नियमित रूप से समय आवंटित करें। आप बाजार या ऑनलाइन मीडिया में उपलब्ध किसी भी मॉक टेस्ट को खरीद सकते हैं। मॉक टेस्ट / ऑनलाइन टेस्ट सीरीज का अभ्यास करना, आपको कमजोर क्षेत्रों में अपनी तैयारी और सुधार का एक विचार देता है। अधिक तर्कसंगत और सार्थक तरीके से तैयार करने के लिए ये बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। यह आपके आत्म-विश्वास को बढ़ाता है और आपकी अवधारणाओं और मौजूदा ज्ञान को भी निखारता है।

गलत उत्तर देने से बचें

लिखित परीक्षा देने के दौरान, पहला और सबसे महत्वपूर्ण नियम यह है कि आपको उन प्रश्नों के गलत जवाब देने से बचना चाहिए जिसके बारे में आप निश्चित नहीं हैं। गलत उत्तर देने पर आपके अंतिम प्राप्तांकों में से गलत जबावों की संख्या के आधे अंको की कटौती की जाएगी। इसके फलस्वरूप, आपके टियर-1 राउंड में सफल होने की संभावना कम हो सकती है और आप परीक्षा के दूसरे चरण तक नहीं पहुच पाएंगे। इसलिए, केवल उन सवालों का जवाब देना उचित है, जिनके बारे में आप अधिक आश्वस्त हो. इसके अलावा सफलता सुनिश्चित करने के लिये 'अनुमान लगाने से बचें'.

SSC CHSL परीक्षा में सफलता हेतु पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों की भूमिका

प्रश्नों का आत्मविश्वास से उत्तर दें

किसी विशेष प्रतिस्पर्धी परीक्षा के लिए सफलता की सबसे बड़ी कुंजी आत्मविश्वास होता है यह किसी भी स्तर पर चयन की संभावना को कम या ज्यादा कर सकता है। यदि आपमें पर्याप्त आत्मविश्वास नहीं हैं, तो आप परीक्षा में लंबे समय तक किसी एक ही प्रश्न के साथ प्रयासरत हो सकते हैं और आखिर में आप गलत जवाब को भी चुन सकते हैं। अत:- सदैव खुश रहें और आत्मविश्वास से भरे रहे.