Search

कैसे चुने कॉलेज में सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन ?

Jul 26, 2018 12:50 IST

    जीवन की सबसे जरुरी आवश्यकता होती है रोटी, कपड़ा और मकान. इन आवश्यकताओं को पूरा करने में  शिक्षा का महत्वपूर्ण योगदान है . शिक्षा का सम्बन्ध व्यक्ति के रोजगार से होता है. इसलिए छात्र स्कूल में सभी विषयों की थोड़ी बहुत जानकारी हासिल करते हैं लेकिन ज्योंहि वे कॉलेज में एडमिशन लेने जाते हैं उन्हें एक स्पेशलाइजेशन सब्जेक्ट का चुनाव करना पड़ता है. स्पेशलाजेशन सब्जेक्ट चुनने का मुख्य कारण अपने इन्ट्रेस्ट और  टैलेंट के अनुसार जीवन में बेहतर करने की क्षमता को और विकसित करना है.

    आइये कुछ कॉलेज स्टूडेंट्स से बात करके यह जानने की कोशिश करते हैं कि वे स्पेशलाइजेशन सब्जेक्ट का चुनाव करते समय किन किन बातों का ध्यान रखते हैं ?

    छात्र के लिए सवाल - सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन क्यों जरुरी है ?

    छात्र का जवाब - सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन से हमें यह पता चलता है कि हमें इसी फील्ड में अपना करियर बनाना है और हम उसी के अनुरूप अपनी स्टडी या अन्य प्रोजेक्ट पर काम करते हैं. सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन भटकाव से बचाते हुए कम समय में बेहतर रीजल्ट देने में उपयोगी होता है.

    छात्र के लिए सवाल - सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन का चुनाव करते समय आप किन किन बातों का ध्यान रखते हैं ?

    छात्र का जवाब – किसी भी सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन का चुनाव करते समय हमें भविष्य में जो बनना है या फिर जिस फील्ड में काम करना है उसी से जुड़े हुए सब्जेक्ट्स का चुनाव करना चाहिए.इतना ही नहीं कॉलेज में एडमिशन लेते समय भी हमें उसी स्ट्रीम या सब्जेक्ट का चुनाव करना चाहिए जिसमें हम कुछ करना चाहते हैं या फिर करने की इच्छा रखते हैं. ऐसा करने से हम अपने गोल को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं.

    छात्र के लिए सवाल - सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन का चुनाव करते समय आप अपने इन्ट्रेस्ट तथा स्किल्स को कितना महत्व देते हैं ?

    छात्र का जवाब – सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन का चुनाव करते समय इन्ट्रेस्ट तथा स्किल्स दोनों समान रूप से महत्वपूर्ण है. अगर आप किसी सब्जेक्ट का चुनाव करते हैं और आपका इन्ट्रेस्ट ही उसमें नहीं है तो आप चाहकर भी उसमें अपना 100 परसेंट नहीं दे सकते. ठीक उसी तरह अगर आपके पास उस सब्जेक्ट से जुड़े जरुरी स्किल्स नहीं है तो आपको उसमें बेहतर करने में बहुत परेशानी होगी और आप सही और मनमुताबिक रीजल्ट नहीं प्राप्त कर सकेंगे. इसलिए इन दोनों का समान रूप से ध्यान रखना जरुरी है.

    छात्रों के जवाब से यह स्पष्ट है कि कॉन्फिडेंस के साथ साथ जॉब मार्केट की डिमांड, सब्जेक्ट पर अपनी पकड़ और इन्ट्रेस्ट आदि को ध्यान में रखते हुए यदि सब्जेक्ट स्पेशलाइजेशन का चुनाव किया जाए, तो करियर में सफलता बड़ी आसानी से प्राप्त की जा सकती है.

    अगर आपको हमारा यह वीडियो अच्छा लगा तो इसे शेयर करना न भूलें. ऐसे ही कुछ रोचक और जानकारी पूर्ण वीडियो देखने के लिए हमारी वेबसाइट  www.jagranjosh.com पर लॉग इन करें.

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

    X

    Register to view Complete PDF