Search

ज़रूर जानें ये पांच मंत्रा अगर आप कर रहें हैं प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी

Sep 4, 2018 19:09 IST
    Tips for competitive exam preparation
    Tips for competitive exam preparation

    कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी के लिए हमें कड़ी मेहनत, लगन और अच्छी रणनीति के साथ तैयारी करनी होती है तभी हम सफल हो पते हैं. आज जिस तरह कई युवा कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी कर रहें हैं और इस तरह से सभी लोग सफलता हासिल करने की दौड़ में लगे हुए है. इस दौड़ में जो लोग कठिन परिश्रम और लगन से तैयारी करते है वो सफलता प्राप्त कर लेते है जो नहीं करते है तो वो इस दौड़ में पीछे रह जाते है और उन्हें असफलता हाथ लगती है. इसका यह कारण नहीं की जो लोग असफल रहे उन्होंने कड़ी मेहनत नहीं की या उनकी तैयारी अच्छी नहीं थी, इसका कारण यह भी हो सकता है कि शायद उनकी रणीनीति एग्जाम की तैयारी को लेकर उनके लिए उतनी प्रभावशाली साबित न हो पाई हो.

    यदि आप भी प्रतियोगी परीक्षाओ में सफलता प्राप्त करना चाहते है तो उसके लिए आपको तैयारी करने में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाना होगा और उसके लिए सही रणीनीति भी अपनानी होगी. आज हम इस आर्टिकल के माध्यम आपको कुछ ऐसे ही टिप्स बतायेंगे जो आपके  Competition Exam की तैयारी में काफी सहायक साबित होगा और जिसके ज़रिये आपको  Competition Exam में सफलता प्राप्त करने में मदद मिलेगी. इसके लिए टिप्स कुछ इस प्रकार हैं :

    आत्मविश्वास है जरूरी :

    किसी भी काम को करने के लिए आत्मविश्वास होना बहुत ही ज़रूरी होता है. जब बात आ जाए बिना कोचिंग के कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी करने के लिए तो इसकी भूमिका और भी अहम हो जाती है. इसलिए कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी करते समय अपने अंदर आत्मविश्वास की कभी भी कमी न होने दें. आपके मन में विश्वास बनाकर रखें कि आप कॉम्पीटेटिव एग्जाम को क्रैक करने में ज़रूर सफलता प्राप्त करेंगे. आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए हमें बीच-बीच में मोटीवेट होते रहना चाहिए. आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए परिवार के सदस्यों, मोटिवेशनल बुक्स और किसी सफल व्यक्ति की सहायता से अपने अंदर आत्मविश्वास बढ़ाया जा सकता है.

    स्टडी के लिए सभी सामग्री है आवश्यक :

    किसी भी परीक्षा की तैयारी के लिए उससे जुड़ी विषय वस्तु का होना बहुत अहम होता है. यदि उससे संबंधित आपके पास सामग्री नहीं है तो आप कॉम्पीटेटिव एग्जाम कभी भी पास करने में सफलता नहीं प्राप्त कर सकते हैं. आप स्टडी रूम में कॉम्पीटेटिव एग्जाम से संबंधित सभी बुक्स और अन्य सामग्री को पास में ही रखना चाहिए, जिससे जब भी आपको ज़रूरत पड़े आप आसानी से उसका लाभ उठा सकते हैं.

    समय सारणी है जरूरी :

    अगर आप बिना कोचिंग क्लास किये कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी कर रहें है तो आपके लिए समय सारणी का प्रयोग प्रभावशाली सिद्ध हो सकता है. समय सारणी का प्रयोग करने से आपका कोई भी विषय पेंडिंग में नहीं होगा. इसका प्रयोग करने से आप सभी विषयों को एक समान समय दे सकेंगे. इस तरह आपका सभी विषयों पर फोकस बना रहेगा और आप अपने अनुसार सभी विषयों को सही तरीके से पढ़ भी सकते हैं. इस तरह से बिना कोचिंग के कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी करने हेतु समय सारणी की भी अहम भूमिका होगी. समय सारणी का प्रयोग कुछ इस प्रकार कर सकते हैं- इंग्लिश, हिंदी, मैथ्स, साइंस जैसे विषयों की तैयारी आप बेसिक रूप से कर सकते है. जैसे इंग्लिश में ग्राम्मर, हिंदी में व्याकरण, साइंस में कैमिस्ट्री, बायोलॉजी और मैथ्स में टेबल और बेसिक अर्थमेटिक ऑपरेशन जैसे जोड़, घटाव,गुना,भाग जैसे टॉपिक को तैयार करना चाहिए। जिससे आपको आगे के टॉपिक को समझने में आसानी हो। परीक्षा में अधिकतर प्रश्न इन्ही बेसिक टॉपिक्स से ही पूछे जाते हैं.

      Recommended Video: Know 4 Mantras of Success in Life by Mr. Anand Kumar

    नोट्स बनाना है ज़रूरी :

    अगर आप कॉम्पीटेटिव एग्जाम के लिए नियमित स्टडी कर रहे हैं तो नोट्स तैयार करना आपके लिए बहुत जरूरी होगा। कॉम्पीटेटिव एग्जाम की तैयारी करते समय यह ज़रूरी होता है जो भी आपने पढ़ा या समझा है उसके नोट्स बनाए, दरअसल यह कहने का मतलब यह है की आपने जो भी पढ़ा हैं वह कुछ समय बाद आप भूल सकते हैं। इसलिए कॉम्पीटेटिव एग्जाम के लिए नोट्स बनाना बहुत जरूरी होता है. नोट्स बनते समय कुछ बातों का ध्यान देना चाहिए जोकी कुछ इस प्रकार हैं-नोट्स को साफ़-सुथरे और आसान भाषा में बनाए, भाषा में ज्यादा जटिलता नहीं होनी चाहिए क्योंकि उससे आपको दोहराते समय समझने में परेशानी आ सकती है. आप चाहें तो चार्ट का भी इस्तेमाल नोट्स तैयार करते समय कर सकते हैं और उस  चार्ट को यदि आप अपने स्टडी रूम में लगाए तो बेहतर होगा. नोट्स बनते समय टॉपिक्स को पॉइंट वाइज लिखे वरना समझने में समस्या आ सकती है. वौइस् नोट्स भी आपके लिए फायदेमंद हो सकते है आप खुद के ज़रिये बनाए समय सरणी के अनुकूल उन्हें सुन कर याद कर सकते हैं. नोट्स बनाने के बाद तुरंत उन टॉपिक्स को एक बार ध्यान पूर्वक ज़रूर पढ़ें, जिससे याद करने में आसानी होगी.

    एग्जाम समय में ध्यान दें योग्य बातें :

    एग्जाम का समय पास आ जाने पर आप पुराने प्रश्न पत्रों को हल करें क्यूंकि यह आपके एग्जाम के लिए काफी सहायक साबित हो सकते हैं. खुद की कमियों को देखें, दिए गए समय में प्रश्न पत्र को हल करें. जिससे आपके अंदर प्रश्न पत्र को हल करने में टाइम मेनेजमेंट की समस्या भी हल होगी.परीक्षा हाल में समय प्रबंधन का विशेष महत्व होता है इसलिए परीक्षा देने के पहले ही टाइम मेनेजमेंट अच्छे से सिख लें और यह निश्चित कर ले कि आपको किस खण्ड में कितना समय देना है . सभी खण्डों में समय प्रबंधन के अनुसार ही समय दें और इसी तरह प्रैक्टिस करें. किसी भी परीक्षा में नेगेटिव मार्क से बचना सबसे अहम होता है इसलिए गलत प्रश्न न करें सही प्रश्नों के ही उत्तर दें.

    शुभकामनायें !!

    बढ़ाना चाहते हैं अपने आत्मविश्वास को तो ज़रूर जाने ये 10 तरीके

      DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

      X

      Register to view Complete PDF

      Newsletter Signup

      Copyright 2018 Jagran Prakashan Limited.
      This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK