Search

कामयाबी का रास्ता

Aug 8, 2018 19:00 IST
    Positivity – The Road to Success
    Positivity – The Road to Success

    अक्सर कहा जाता है कि सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता। यह सही भी है आपको सफलता पाने के लिए अपने हुनर में माहिर होना पड़ेगा और इसके लिए समय भी लगेगा। भले ही सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता, लेकिन जो भी रास्ता होता है, वह रास्ता पॉजिटिविटी का होता है। अगर आपने नकारात्मकता यानी निगेटिविटी का रास्ता पकड़ लिया है, तो तय जानिये कि अब रास्ता भूल गए हैं। यह रास्ता आपको सफलता की ओर तो नहीं ही ले जाएगा, उलटे हो सकता है कि आप विफलता के दरवाजे तक पहुंच जाएं...।

    नकारात्मकता के दुष्प्रभाव

    जब भी आप जीवन में या अपने प्रोफेशन में अपनी मंजिल तय करने निकलें, तो इस बात के लिए आश्वस्त हो जाएं कि आपने रास्ता सही अपनाया है या नहीं। नकारात्मक रास्ते पर चल कर यदि आपने स्वयं ही विफलता का वरण कर लिया, तो आप भावनात्मक रूप से टूट भी सकते हैं, जिसका प्रभाव आपके व्यक्तित्व पर भी पड़ता है। यदि आप अवसाद में चले गए, तो विफलता से सबक लेकर अगली बार सफलता का वरण करने के योग्य भी नहीं बचेंगे।

    खुद पर भरोसा

    पॉजिटिविटी के रास्ते पर अगर आप चल पड़े हैं, तो निश्चित है कि सफलता की मंजिल तक पहुंचेंगे, लेकिन हर चौराहे पर आपको निगेटिविटी के रास्ते मिलेंगे और वे आपको उन पर मुड़ जाने के लिए लुभाएंगे भी। इस बात के लिए आपको सतर्क रहना होगा कि निगेटिविटी के आकर्षक रास्ते कहीं आपको सफलता से डिगा न दें। कहने का अर्थ है कि आपको सकारात्मकता का दामन मजबूती से पकड़े रहना होगा। क्योंकि प्रोफेशनल दुनिया में तो पॉजिटिविटी का बहुत ज्यादा महत्व है। लेकिन आप पॉजिटिव तभी रह सकेंगे, जब आप खुद पर भरोसा करेंगे। कई अवसर आपके काम के बीच आएंगे, जब आपका मन डांवाडोल होगा और आप नकारात्मकता की ओर बढ़ने लगेंगे, जैसे-कहीं क्लाइंट मेरे प्रपोजल को न ठुकरा दे। कहीं मीटिंग में अपनी बात समझा न पाने के कारण मेरी किरकिरी न हो जाए। कहीं बॉस को मेरा आइडिया न पसंद आए। ये सवाल अगर आपके दिमाग में आ रहे हैं, तो तय जानिये आपका खुद पर भरोसा नहीं है। आपके मन में ये प्रश्न नहीं उठने चाहिए। क्योंकि आपको पूरा फोकस अपने आइडिया पर भरोसा करते हुए काम पर करना है। फिर भी यदि ऐसे सवाल आ ही रहे हैं, तो उनकी तह में जाकर उनके कारणों की तलाश करें और उन कारणों को सुधार लें।

      DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

      X

      Register to view Complete PDF

      Newsletter Signup

      Copyright 2018 Jagran Prakashan Limited.
      This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK