Search

SSC CGL 2018-19 इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन की अध्याय-वार सिलेबस के साथ तैयारी स्ट्रैटेजी

इस लेख में, हम इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन के सभी टॉपिक्स की तैयारी के लिए टिप्स और स्ट्रैटेजी का विस्तृत विवरण दिया गया है। अधिक जानकारी के लिए इसे पूरा करें-


May 7, 2019 17:16 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
SSC CGL 2018-19 English Language and Comprehension Preparation Strategy
SSC CGL 2018-19 English Language and Comprehension Preparation Strategy

इंग्लिश लैंग्वेज व कॉम्प्रिहेंशन को SSC CGL परीक्षा के टियर-1 और टियर-2 दोनों स्तरों में बहुत महत्वपूर्ण और उच्च अंक प्राप्त करने वाले अनुभागों में से एक माना जाता हैं. कर्मचारी चयन आयोग (SSC) द्वारा जारी नवीनतम अधिसूचना के अनुसार, SSC CGL 2018 टियर-1 परीक्षा को स्थगित कर दिया गया हैं जोकि पहले 25 जुलाई से 20 अगस्त 2018 को आयोजित होनी थी.

इस अनुभाग के प्रश्नों को उम्मीदवारों की इंग्लिश भाषा की समझ और उनके इस भाषा में ज्ञान का परीक्षण करने के लिए डिज़ाइन किया जाता हैं. इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन के प्रश्नों के उत्तर देने में अन्य अनुभागों की तुलना में कम समय लगता हैं. अत: यदि आपको इस भाषा में अच्छी समझ के कौशल के साथ-साथ इंग्लिश व्याकरण के नियमों और शब्दावली के उपयोग पर अच्छी पकड़ हैं तो SSC CGL परीक्षा में यह अनुभाग आपका मज़बूत क्षेत्र साबित हो सकता हैं.

यह अनुभाग SSC CGL 2018 परीक्षा के दोनों स्तरों यानि टियर-1 और टियर-2 में महत्वपूर्ण हैं. इसीलिए हमने इस विषय के विस्तृत सिलेबस का अध्याय-वार विश्लेषण करके संकलन किया हैं ताकि आप इस अनुभाग में उच्च स्कोर प्राप्त कर सकें. परन्तु इस विश्लेषण से पहले, आइये- SSC CGL 2018  परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग के पैटर्न पर एक नज़र डालते हैं-

SSC CGL परीक्षा को 30 दिनों में उत्तीर्ण करने हेतु विस्तृत स्टडी-प्लान

SSC CGL 2018: इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग का परीक्षा पैटर्न

तैयारी आरम्भ करने से पहले, परीक्षा पैटर्न को जानना अनिवार्य हैं. यह अनुभाग आपमें इंग्लिश भाषा के व्याकरण के नियमों, सही शब्दावली के उपयोग और बुनियादी बातों की समझ के कौशल का परीक्षण करता हैं.

आइये- SSC CGL 2018 परीक्षा के दोनों चरणों टियर-1 और टियर-2 में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन के परीक्षा पैटर्न पर एक नज़र डालते हैं-

 SSC CGL टियर-1 परीक्षा में, इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग में 25 बहुविकल्पीय प्रश्न होते हैं और प्रत्येक प्रश्न 2 अंकों का होता हैं. इस परीक्षा में, हर गलत उत्तर के लिए 0.50 अंकों का नकारात्मक अंकन भी होता हैं.

SSC CGL टियर-1 परीक्षा (वस्तुनिष्ठ)

प्रश्नों की कुल संख्या

अधिकतम अंक

समयावधि

जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग

25

50

60 मिनट (कुल)

सामान्य जागरूकता

25

50

क्वांटिटेटिव एपटीट्युड

25

50

इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन

25

50

कुल

100

200

 SSC CGL टियर-2 परीक्षा में, इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग में 200 बहुविकल्पीय प्रश्न होते हैं और प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का होता हैं. इस परीक्षा की कुल अवधि 2 घंटे की होती हैं. इस परीक्षा में, हर गलत उत्तर के लिए 0.25 अंकों का नकारात्मक अंकन होता हैं.

SSC CGL टियर-2 परीक्षा (वस्तुनिष्ठ)

प्रश्नों की कुल संख्या

अधिकतम अंक

समयावधि

पेपर – II: इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन

200

200

2 घंटे

SSC CGL 2018 क्वांटिटेटिव एपटीट्युड की तैयारी की नीति: अध्यायवार और वर्षवार विस्तृत विश्लेषण

SSC CGL 2018 परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग का अध्यायवार सिलेबस

परीक्षा पैटर्न को देखने के बाद, अगला कदम इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग के अध्यायवार सिलेबस को समझना हैं. SSC CGL टियर-1 और टियर-2 परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग से पूछे जाने वाले प्रमुख टॉपिक्स निम्न हैं-

SSC CGL Tier1 and 2 Syllabus

SSC CGL परीक्षा के दोनों चरणों यानि टियर-1 और टियर-2 में सिलेबस करीब-करीब एक समान ही हैं. टियर-1 परीक्षा में निम्नलिखित टॉपिक्स नहीं पूछे जाते है-

  • Cloze Test
  • Active-Passive Voice
  • Direct-Indirect Speech
  • Para-jumbles
  • Jumbled Sentence

अत: उम्मीदवार SSC CGL टियर-1 2018 की परीक्षा के लिए उपरोक्त टॉपिक्स का अभ्यास छोड़ सकते हैं-

ऊपर दी गयी सारिणी में, SSC CGL टियर-1 और टियर-2 परीक्षाओं में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग का संक्षिप्त सिलेबस दिया गया हैं. उम्मीदवारों को इस अनुभाग में उच्च अंक प्राप्त करने हेतु तथा उचित स्ट्रैटेजी बनाने हेतु विस्तृत विश्लेषण पर भी एक नज़र डालनी चाहिए-

SSC CGL 2018 जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग तैयारी की स्ट्रैटेजी: टॉपिक्स-वार विस्तृत सिलेबस

SSC टियर-1 और टियर-2 में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग का अध्यायवार विश्लेषण

परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले, उम्मीदवारों को SSC CGL टियर-1 परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग के उन महत्वपूर्ण टॉपिक्स की एक सूची अवश्य बनानी चाहिए जिससे अधिकतर प्रश्नों को पूछा जाता हैं. इसके अलावा, इस परीक्षा में हर साल उम्मीदवारों की बढती हुई संख्या भी एक गंभीर चुनौती है. इसीलिए पिछले वर्ष के प्रश्न-पत्रों का विश्लेषण व सम्बंधित स्कोरिंग क्षेत्रों के प्रश्नों के ब्रेकअप की तुलना करना बहुत आवश्यक हैं.

Strategy for SSC CGL exam

 

आइये- SSC CGL टियर-1 और टियर-2 परीक्षा के लिए इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग के टॉपिक्स विश्लेषण पर एक नज़र डालते हैं-

श्रेणी

टॉपिक्स

टियर-1 (पूछे गए प्रश्नों की संख्या)

टियर-2 (पूछे गए प्रश्नों की संख्या)

Vocabulary

Synonyms & Antonyms

2-3

0-5

Fill in the blanks

1-2

0-5

Cloze Test


10

Spelling Test

1-2

0-5

Idioms and Phrases

1-2

5

One-word substitution

1-2

5

Sentence or Phrase Improvement

1-2

5-10

Grammar

Sentence correction/ Spotting the error

2-3

10

Fill in the blanks

2-3

0-5

Sentence or Phrase Improvement

2-3

5-10

Active-Passive Voice


10

Direct-Indirect Speech


10

Comprehension

Reading Comprehension

5

25-30

Sentence Rearrangement

Para-jumbles


5

Jumbled Sentence


5-10

कुल

25

200

आइये- SSC CGL टियर-1 और टियर-2 दोनों परीक्षाओं में पूछे जाने वाले प्रश्नों की विभिन्न श्रेणियों के विवरण पर एक नज़र डालते हैं.

शब्दावली के अनुप्रयोग

  1. समानार्थी और विपरीतार्थी – समानार्थी का मतलब वे शब्द हैं जिनका बिलकुल समान या आस-पास अर्थ इसी भाषा या अन्य भाषा के किसी अन्य शब्द से मिलता हैं. विपरीतार्थी शब्द किसी शब्द के विपरीत अर्थ को दर्शाने के लिए प्रयोग किये जाते हैं जैसे कि ‘दिन’ का विपरीत ‘रात’ होता हैं.
  2. क्लोज़ टेस्ट – इस टेस्ट में एक पैराग्राफ खाली स्थानों के साथ दिया होता हैं और आपको इन खाली स्थानों को पैराग्राफ पढकर भरना होता हैं. उम्मीदवारों को पैराग्राफ पढ़ते समय बहुत सावधानी बरतनी चाहिए. ऐसा करने से, आप सही शब्द भरने में सफल हो पायेंगे.
  3. खाली स्थान भरें –इस टॉपिक के अंतर्गत, आपको सटीक शब्द ढूँढकर उसे भरने की आवश्यकता हैं. इसमें सिर्फ वे ही प्रश्न होते हैं जिसमें खाली स्थान हो. वक्तव्य को सावधानीपूर्वक पढने और उसमे से सही शब्द को चुनने का ध्यान रखें.
  4. वर्तनी परीक्षण – वर्तनी की स्किल्स को मुख्य रूप से उन शब्दों का अभ्यास करके सुधार सकते हैं जिनके अर्थ आपको नहीं पता हैं. इसके लिए आपको ऐसे शब्दों (जिनके अर्थ आप नहीं जानते हैं) की एक सूची एक तरफ और दूसरी तरफ इंग्लिश की डिक्शनरी रखकर प्रैक्टिस करनी चाहिए.
  5. मुहावरे और वाक्यांश – SSC परीक्षाओं में आम तौर पर मुहावरो और वाक्यांशो से प्रश्न पूछे जाते हैं. इस टॉपिक का इस परीक्षा में सामान्य रूप से अधिक भार हैं. अत: इसकी तैयारी अच्छे से करें.
  6. एक-शब्द प्रतिस्थापन – एक-शब्द प्रतिस्थापन का तात्पर्य उन शब्दों के समूह या वाक्यों से हैं जिनका यथार्थ अर्थ बदलें बिना या नया अर्थ बनाये बिना किसी अन्य शब्द से उनको प्रतिस्थापित किया जा सकता हैं.
  7. वाक्य या वाक्यांश में सुधार – इस टॉपिक के अंतर्गत आपको दिए गए वाक्य में शब्दावली का उपयोग करके, उपयुक्त शब्दों या वाक्यांशों का प्रयोग करके इसमें सुधार करना होता हैं.

SSC CGL परीक्षा को पहले ही प्रयास में कैसे पास करें?

व्याकरण का प्रयोग:

  1. वाक्य सुधार/ त्रुटि को पहचानना – इस अनुभाग से प्रश्नों को हल के लिए आपको- Verb-agreement , verb time sequences इत्यादि व्याकरण के नियमों का पालन करना होता हैं.
  2. खाली स्थान भरें – इस अनुभाग में आपको दिए गए वाक्य में रिक्त स्थान पर उचित शब्द भरना होता हैं. इसके अंतर्गत हर एक प्रश्न में एक खाली स्थान अवश्य होगा.
  3. वाक्य और वाक्यांश में सुधार- यह टॉपिक सिर्फ ‘सही व्याकरण प्रयोग’ का विस्तार हैं. परन्तु इस अनुभाग में उम्मीदवारों को न केवल सही व्याकरण के प्रयोग का ज्ञान होना आवश्यक हैं बल्कि सही और अद्वितीय उत्तर की भी जांच करनी होती हैं.
  4. Active/ Passive वाच्य- इस टॉपिक से, आपको एक्टिव/ पैसिव वाच्य में एक वाक्य दिया जायेगा. आपको बताये गए चारों विकल्पों में से, सबसे सटीक वाक्य को चुनना होगा जो कि प्रश्न में दिए गए एक्टिव/पैसिव वाक्य का अर्थ बिना बदलें उसके दूसरे रूप को दर्शाता हो.
  5. Direct/ Indirect वचन – इस टॉपिक के अंतर्गत आपको एक वाक्य प्रत्यक्ष/ अप्रत्यक्ष रूप में दिया जाएगा और आपको उस वाक्य के सही प्रत्यक्ष/ अप्रत्यक्ष रूप में चुनना होगा जो दिए गए प्रश्न का अर्थ सबसे सटीक निरुपित करता हो.

रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन

रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन, इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग के सबसे महत्वपूर्ण टॉपिक्स में से एक हैं. इसीलिए उम्मीदवारों को इस अनुभाग की तैयारी के लिए पर्याप्त समय देना चाहिए. ऐसा करने के लिए, आपको एक उचित स्ट्रैटेजी बनानी होगी व इसका अनुसरण करना होगा. इसके अलावा आपको तैयारी के दौरान प्रदत्त सीमित समय को श्रेष्ठतम तरीके से इस्तेमाल करना आना चाहिए.

वाक्य पुनर्विन्यास

वाक्य पुनर्विन्यास विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में इंग्लिश लैंग्वेज अनुभाग का एक महत्वपूर्ण भाग हैं. इसमें कुछ वाक्यों के समूह को गलत क्रम में दिया होता हैं और आपको इन वाक्यों को सही क्रम में व्यवस्थित करना होता हैं. इस अनुभाग से प्रश्नों को विभिन्न वाक्यों या पैराग्राफ्स के रूप में पूछा जा सकता हैं.

आइये- SSC CGL टियर-1 और टियर-2 परीक्षा में इस अनुभाग के विभिन्न टॉपिक्स के प्रतिशत वितरण पर एक नज़र डालते हैं-

 

Percentage Distribution of English SSC CGL Topic

यदि हम पाई-चार्ट को देखते हैं तो हमें पता चलता हैं कि SSC CGL टियर-1 परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग में शब्दावली के प्रयोग (48%) व व्याकरण के प्रयोग (32%) एक बड़े हिस्से हैं जबकि रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन (20%) एक छोटे से हिस्से को दर्शाता हैं. सामान्य रूप से, इस अनुभाग से पूछे गए प्रश्न सीधे और आसान होते हैं. इसीलिए उम्मीदवार इस अनुभाग में आसानी से अधिक अंक प्राप्त कर सकते हैं.  

SSC CGL 2018 को क्रैक करने के लिए 5 दैनिक रूटीन प्रैक्टिसेज

SSC CGL टियर-2 परीक्षा में, इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन दूसरा पेपर होता हैं. इस पेपर में, शब्दावली के प्रयोग (40%) व व्याकरण के प्रयोग (35%) एक बड़े हिस्से को जबकि रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन (15%) और वाक्य पुनर्विन्यास (10%) एक छोटे हिस्से को दर्शाता हैं. उम्मीदवार इस पेपर में बहुत अच्छा स्कोर कर सकते हैं क्योंकि इस पेपर में प्रश्न सीधे और बहुत आसान होते हैं.

उपरोक्त विश्लेषण, उन क्षेत्रों को ढूँढने में आपकी मदद करेगा जिनमें आपको अधिक अभ्यास और अधिक समय देने की आवश्यकता हैं ताकि आप अपने स्टडी प्लान को सही ढंग से तैयार कर सकें-

SSC CGL परीक्षा 2018 -इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग की तैयारी कैसे करें और इसमें उच्च अंक कैसे प्राप्त करें?

अध्यायवार विश्लेषण को देखने के बाद, उम्मीदवारों को अपने कमज़ोर क्षेत्रों को मज़बूत करने के लिए एक उचित स्ट्रैटेजी बनानी चाहिए. रणनीतिक रूप से, आपको आत्मविश्वास बढ़ाने और उच्च स्कोर करने के लिए पहले आसान टॉपिक्स की प्रैक्टिस करना शुरू करना चाहिए. जैसे जैसे आप प्रैक्टिस करते हुए आगे बढ़ते जायेंगे वैसे वैसे टॉपिक्स की कठिनाई भी बढ़ाते जायेंगे.

आइये- SSC CGL 2018 परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग को तेज़ी से हल करने के विभिन्न तरीके पर एक नज़र डालते हैं-

Preparation Strategy for SSC CGL English

  • शब्दावली सुधारें: आइये- उन तरीकों पर नज़र डालते हैं जिनसे आप अपनी शब्दावली को सुधार सकते हैं-
  1. थिसॉरस (डिक्शनरी): यह शब्दों को पढने और याद रखने का सबसे आसान तारीका हैं. कई ऑनलाइन डिक्शनरी उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से आप किसी शब्द के समानार्थी और विपरीतार्थी शब्दों को याद और पढ़ सकते हैं
  2. शब्द सूची: अपने पास एक पॉकेट नोटबुक हमेशा रखें और उसमे कुछ शब्दों (10-20 शब्दों) को प्रतिदिन लिखते रहें. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको इस सूची को समय-समय पर दोहराते रहना चाहिए.
  3. ऑनलाइन फ़्लैशकार्ड्स: यदि आप मोबाइल फ़ोन या टेबलेट इस्तेमाल करते हैं तो आप नि:शुल्क फ़्लैशकार्ड्स को डाउनलोड कर सकते हैं इससे आपको नए शब्दों को सीखने और याद करने में बहुत सहायता मिलेगी.
  • इंग्लिश व्याकरण को सुधारें: ‘इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन’ अनुभाग के प्रश्नों को हल करने के लिए आपको व्याकरण के प्रयोग की सही समझ होनी चाहिए. इस प्रकार के प्रश्न सभी प्रतिस्पर्धात्मक परीक्षाओं में समान होते हैं और अधिकतर प्रश्न ‘त्रुटि ढूँढने’ के प्रारूप में पूछे जाते हैं. किसी वाक्य में त्रुटि ढूंढना एक क्रमिक प्रक्रिया हैं और इस प्रकार के प्रश्नों को हल करने के लिए, उम्मीदवारों को व्याकरण के नियमों का पालन करना होता हैं.
  • रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन स्किल्स को सुधारें: रीडिंग स्किल्स  को मात्र एक रात में पढकर नहीं समझा जा सकता है इसे समय के साथ व स्वाभाविक रूप से विकसित किया जाता है। रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन को क्लियर करने और इसे पढ़ने की स्किल्स को विकसित करने के लिए, यह बहुत ज़रूरी है कि आप हर दिन पढ़ने की आदत विकसित करें। अखबार पढना एक अच्छा विकल्प है लेकिन हमेशा कठिन तथ्यों की जानकारियों को ही पढ़ने से हर दिन आपकी पढ़ने की स्किल्स का विकास निर्धारित सीमा से ऊपर नहीं हो सकता। इसलिए बेहतर यह है कि आप फीचर कहानियों, संपादकीय, व्यापार पत्रिकाओं आदि को पढना पसंद करें इससे आपकी कॉम्प्रिहेंशन रीडिंग स्किल्स में भी तेजी सेसुधार होगा।
  • पिछले वर्ष के पेपर्स की प्रैक्टिस: जितना हो सकें पिछले वर्ष के पेपर्स की प्रैक्टिस करें. परन्तु परीक्षा के वर्तमान पैटर्न का अनुसरण करना न भूलें क्योंकि परीक्षा का पैटर्न समय-समय पर बदलता रहता हैं.
  • उचित स्टडी प्लान बनायें: प्रश्न –पत्र के सभी अनुभागों के लिए एक उचित स्ट्रैटेजी और टाइम टेबल का अनुसरण करें. इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग में बेहतर परिणाम के लिए, प्रतिदिन कम से कम 2 घंटे का समय दें.

SSC CGL 2018 को क्रैक करने के लिए 5 दैनिक रूटीन प्रैक्टिसेज

SSC CGL 2018 परीक्षा: इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग की तैयारी और प्रश्नों को हल करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन में एक दिन में निपुण नहीं बना जा सकता हैं. इसके लिए बहुत सुसंगत प्रैक्टिस की आवश्यकता हैं. अत: यदि आप इस अनुभाग में उच्च स्कोर प्राप्त करना चाहते हैं तो सूक्ष्म स्तरीय प्लान बनायें और निम्न टिप्स का अनुसरण करें:

  • पढने की आदत विकसित करें: अपनी पढने की आदत को सुधारने के लिए अखबार और मैगज़ीन पढ़ें. प्रतिदिन कम से कम 10 नए इंग्लिश के शब्दों और उनके अर्थ को याद करें.
  • अपने कमजोर क्षेत्रों पर ध्यान दें:सबसे पहले आप कमजोर क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करें और अधिक समय उन्हें सुधारने के प्रयास में बिताएं। अपने कमजोर क्षेत्रों के लिए अधिक समय और अपने मजबूत क्षेत्रों के लिए कम समय समर्पित करें।
  • नियमित अभ्यास: पिछले वर्ष के पेपर्स और मोक पेपर्स का हर दिन अभ्यास करने की आदत डालें इससे आपकीगति और सटीकता में सुधार होगा। पिछले वर्षों के पेपर्स को हल करें क्योंकि कई सवाल है जो बार-बार पूछ लिए जाते हैं।
  • महत्वपूर्ण विषयों का अभ्यास: छात्र ऊपर उल्लेख किये गए अध्याय-वार विश्लेषण को देख सकते है और पहले महत्वपूर्ण विषयों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
  • पहले प्रश्न पूरा पढ़ें: अधूरा सवाल पढ़ने और अंत में गलत उत्तर पर पहुंचने की गलती से बचने के लिए आवश्यक हैं कि छात्र सवाल को ध्यान से पढ़ें और जाँचे कि प्रश्न में क्या कहा जा रहा है?
  • उन्मूलन के नियम: भ्रामक विकल्पों में उन्मूलन की विधि का उपयोग करें और इसके द्वारा जवाब पाने की कोशिशकरें।
  • किसी भी अनुमान से बचें: अनुमान लगाने से आपको गलत जवाब प्राप्त हो सकता हैं और इससे आपकेनकारात्मक अंकन में वृद्धि होगी। इसके अलावा, यदि आप किसी उत्तर के लिए आश्वस्त नहीं है तो एक सवाल पर बहुत समय बर्बाद न करें और अगले प्रश्न पर जाएँ।

अत: समय आ गया हैं कि आप अपनी तैयारी व्यवस्थित ढंग से शुरू कर दें क्योंकि SSC CGL टियर-1 परीक्षा बहुत जल्दी आने वाली हैं. ऊपर बताए गये अध्यायवार विश्लेषण पर फोकस करें और इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग की संरचना को ध्यान में रखकर स्टडी प्लान बनायें.

SSC CGL 2018 Tier-1 परीक्षा: तैयारी की युक्तियाँ और रणनीति

यदि आपको SSC CGL 2018 इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन की तैयारी स्ट्रैटेजी: विस्तृत अध्याय-वार सिलेबस के बारे में दी गयी जानकारी उपयोगी लगी हो तो SSC परीक्षा 2018 के बारे में इस तरह की अधिक जानकारी के लिए https://www.jagranjosh.com/staff-selection-commission-ssc पर विजिट करें.

Related Stories