Search

जानें SSC CGL में विभागीय लेखाकार का पद कैसा होता है?

Sep 11, 2018 11:38 IST
ssc divisional accountant

CAG डिवीजनल एकाउंटेंट सरकारी इंजीनियरों का वित्तीय सलाहकार होता है। आपके पास विभागो के बिलों को पारित करने का एकमात्र अधिकार होगा। सीएजी, अर्थात "भारत के संविधान के तहत स्थापित एक स्वायत्त संस्था" में विभागीय एकाउंटेंट एक केंद्रीय सरकारी कर्मचारी है जो राज्य के स्वामित्व वाले कार्यालय और केंद्रीय सरकारी कार्यालयों में काम करने के लिए अनुबंधित होता है।

नौकरी प्रोफ़ाइल और जिम्मेदारियां

डिवीजनल एकाउंटेंट वह व्यक्ति है, जो विभिन्न सरकारी विभागों के लिए अकाउंटेंसी करता है और विशेष परियोजना पर होने वाले सभी लेनदेन और खर्चों की जांच करता है। आपके सत्यापन और अनुमोदन के बाद, ठेकेदारों को राशि मिल जाएगी। यह एकमात्र पद है जो वास्तव में आपको एक अधिकारी प्रोफाइल प्रदान करता है क्योंकि आपको अन्य विभागों की तरह यूपीएससी अधिकारी के साथ कोई समन्वय नहीं करना होता है। आपको आईएएस अधिकारी से आदेश या दिशानिर्देश नहीं लेना पड़ता है। यह एक स्वतंत्र कार्य प्रोफ़ाइल है जहां आपको अकेले सभी प्रमुख वित्तीय निर्णय लेने होंगे|

उपरोक्त तथ्य के अलावा, आपको काम करने के लिए एक अलग केबिन, चपरासी और खाता सहायक निश्चित रूप से मिलेंगे। आप पीडब्लूडी, सिंचाई के सहायक अभियंताओं से सम्मान प्राप्त करेंगे क्योंकि आपके पास उनकी तुलना में अधिक अधिकार होते है| कार्य ज्ञान और मानव प्रबंधन इस कार्य प्रोफ़ाइल में उत्कृष्टता हासिल करने और ज्यादा समय के लिए बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण कौशल है। कार्यालय में सम्मान आपके ज्ञान और विशेषज्ञता पर निर्भर करता है। अधिकांश अनुभवधारक इस प्रोफाइल को चुनते हैं क्योंकि वे कार्यालय में जागरूक वास्तविक स्थितियों से अच्छी तरह से परिचित होते हैं।

Strategy for SSC CGL exam

 

विदेश मंत्रालय में SSC CGL अधिकारी को प्राप्त होने वाले लाभ

इस नौकरी में एकमात्र कमी यह है कि आपको पूरी सेवा में एक ही तरह का काम करना है, जो कुछ अवधि के बाद नीरस दिखाई दे सकता है।

वेतन और वेतनमान

हाल ही में, एसएससी सीजीएल 2017 अधिसूचना के अनुसार, इस पद को निम्नलिखित वेतनमान के तहत रखा गया है।

अ.    वेतनमान – रु०9,300-34, 800

आ.  ग्रेड वेतन- रु० 4200

कुल वेतन = प्रारंभिक वेतन + ग्रेड वेतन;

कुल वेतन = 9,300 + 4, 200 = रु० 13, 500;

जब आप सीएजी में विभागीय लेखाकार के रूप में नियुक्त किए जाते हैं, तो आप निम्नलिखित प्रमुख भत्तो के हकदार होंगे|

केंद्रीय ब्यूरो नारकोटिक्स में SSC CGL सब-इंस्पेक्टर की जॉब प्रोफ़ाइल

१.      परिवहन भत्ता

२.      घर किराया भत्ता

३.      महंगाई भत्ता

४.      पेट्रोल भत्ता

५.      सीमित मोबाइल बिल

इसलिए, उपरोक्त बिन्दुओ को लेते हुए गणना किए गए वेतन से आपको शुरू में लगभग 38,000 रुपये प्रति माह मिलेंगे। यह वेतन 7वें वेतन आयोग के तहत नहीं है। भावी वेतन आयोग को देखते है कि केंद्र सरकार के अधिकारी के लिए 7वें वेतन आयोग में नया क्या होगा।

कैरियर की वृद्धि और पदोन्नति

CAG कार्यालय में एक विभागीय लेखापाल के रूप में, आपको निम्नलिखित पदों पर पदोन्नत किया जाता है-

अ.    डिवीजनल खाता अधिकारी-ग्रेड II (जीपी- 4,600 रुपये)

आ.  डिवीजनल खाता अधिकारी-ग्रेड I (जीपी- 4,800 रुपये और राजपत्रित)

इ.      वरिष्ठ डिवीजनल लेखा अधिकारी (जीपी- 5,400 रुपये और राजपत्रित)

SSC CGL द्वारा सचिवालय में वरिष्ठ सहायक का वेतन, जॉब प्रोफाइल और प्रमोशन

प्रारंभिक दो वर्ष परिवीक्षा अवधि है। इसके बाद, आपको विभागीय परीक्षा को उत्तीर्ण करना होगा, जो बहुत विशेष होती है जिसमे संबंधित कार्य और प्रोफ़ाइल के पर्याप्त ज्ञान की आवश्यकता होती है। इसमें छह सब्जेक्टिव परीक्षाएं शामिल हैं और आपके पास इसे पास करने के तीन अवसर होंगे। वरिष्ठता का फैसला इस परीक्षा के स्कोर पर विशेष रूप से किया जाएगा। विभागीय परीक्षा में निम्नलिखित छह पत्र शामिल हैं।

१.      पुस्तक और लेखा-जोखा रखने

२.      सार्वजनिक कार्य खाते (व्यावहारिक)

३.      लोक निर्माण खाते (सिद्धांत)

४.      सामान्य हिंदी और अंग्रेजी (निबंध, प्रैसिस और पत्र लेखन)

५.      क्षेत्रीय भाषा में निबंध

६.      वित्तीय नियम, सेवा नियम, राजकोष के नियम और मौलिक नियम

उपरोक्त परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए न्यूनतम अंक 40% और छूट 45% है। पदोन्नति बहुत ही उन्नत व जल्दी होते है क्योंकि आपको कम समय में ही एक क्लास -1 अफसर के पद पर पदोन्नत किया जा सकता है क्योंकि इसके लिए कोई अलग परीक्षा नहीं होती, आपको केवल विभागीय परीक्षा को उत्तीर्ण करना होगा|

चाहिए अगर केंद्रीय मंत्रालयों (SSC CGL) में JOB तो इन 10 चीजों से बचें

इस पहलू के साथ एक कमी यह हैं कि आपको हर 3 सालों में स्थानांतरित कर दिया जाता हैं| साथ ही, बैंक और केंद्र सरकार के कार्यालयों की तुलना में बुनियादी ढांचा भी राज्य कार्यालयों में अच्छा नहीं होता है।

शुभ लाभ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK