Search

जानिये इंजीनियरिंग कॉलेजों में एग्जाम स्ट्रेस से कैसे बचें ?

Dec 6, 2017 15:47 IST
Surviving the exam stress in engineering colleges

यह तो हम सब अच्छी तरह जानते हैं कि छात्रों के लिए इंजीनियरिंग कॉलेजों में एग्जामिनेशन टाइम बहुत अधिक तनावपूर्ण और दहशत भरा टाइम होता है. जैसे – जैसे एग्जाम के दिन करीब आते जाते हैं, वैसे – वैसे कैंपस में तनाव या स्ट्रेस और नर्वसनेस के घने बादल मंडराने लगते हैं. अब कैंटीन में पहले जैसी चहलकदमी नहीं रहती और बास्केटबॉल कोर्ट्स के साथ ही दूसरे सभी स्पोर्ट्स ग्राउंड्स भी सूने दिखते हैं. जहां कुछ स्टूडेंट्स शांति से पढ़ने के लिए अपने कमरों में बंद हो जाते हैं, वहीं दूसरी ओर कुछ और स्टूडेंट्स दिन-रात लाइब्रेरी में नोट्स और रेफेरेंस बुक्स में खोये रहते हैं. लेकिन क्या ऐसा तनाव उन्हें अपने एग्जाम्स की तैयारी करने में मददगार सिद्ध होता है या क्या इस तनाव की वजह से स्टूडेंट्स का ध्यान अपनी पढ़ाई से हट जाता है? यह बहुत जरुरी है कि तनाव को अपने से दूर रखा जाये तथा अपनी पढ़ाई पर निश्चिंत और ठंडे दिमाग से ध्यान लगाया जाये. इस एग्जाम स्ट्रेस का मुकाबला करने के लिए नीचे कुछ उपयोगी टिप्स और जानकारियां दी जा रही हैं.

एग्जाम्स के दौरान होने वाले स्ट्रेस से बचने के लिए उपयोगी टिप्स और ट्रिक्स -

अपना स्टडी शेड्यूल बनायें 

एग्जाम्स के लिये अपनी तैयारी शुरू करने से पहले यदि आप अपने लिए एक बढ़िया-सा स्टडी शेड्यूल बना लें तो आपके लिए यह बहुत अच्छा रहेगा. शेड्यूल बनाते समय आप इस बात का भी खास ख्याल रखें कि एग्जाम शुरू होने से पहले आपके पास कितने दिन शेष हैं और इन दिनों में आपको अपना कितना सिलेबस कवर करना है. एक बार स्टडी शेड्यूल बन जाने के बाद चाहे कैसी भी मुसीबतें आयें लेकिन आप अपने स्टडी शेड्यूल को अवश्य फ़ॉलो करें. यदि आपने अपने लिए एक सूटेबल स्टडी शेड्यूल बनाया है तो आपको उसे फ़ॉलो करने में ज्यादा कठिनाई नहीं होगी.

वास्तविक टारगेट्स निर्धारित करें

अपना स्टडी शेड्यूल बनाते समय वास्तविक टारगेट्स सेट करना ही सफलता की कुंजी है. यदि आप निर्धारित समय सीमा के भीतर पूरे किये जाने वाले कार्यों से अधिक कार्यों का भार अपने ऊपर उठा लेते हैं तो नतीजतन आप निर्धारित समय सीमा के भीतर वे कार्य पूरे नहीं कर पायेंगे या आसान शब्दों में कहें तो आप अपने स्टडी शेड्यूल को फ़ॉलो नहीं कर पायेंगे. अगर आप एक बार ऐसा करने में विफल हो जाते हैं तो निराशा और अवसाद आपको घेर लेंगे जिससे आप अपनी पढ़ाई पर फोकस नहीं कर पायेंगे. बेहतर होगा कि अपनी क़ाबलियत और शक्ति के बारे में स्पष्ट समझ रख कर ही आप उनके अनुसार अपना स्टडी शेड्यूल बनायें.

छोटे ब्रेक्स लें

कई घंटो तक लगातार पढ़ते रहने से बहुत अधिक थकावट और स्टडी बर्न-आउट हो सकते हैं. एग्जाम टाइम के दौरान ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए यह बहुत जरुरी है कि आप हर बार कुछ घंटे पढ़ने के बाद स्मॉल रिफ्रेशिंग ब्रेक्स लेते रहें. वॉक पर जायें, अपने भाई-बहन या किसी फ्रेंड से बात करें, कॉफ़ी ब्रेक लें. इससे आपका दिमाग तनावमुक्त और तरोताजा महसूस करेगा और जैसे ही आप फिर से अपनी पढ़ाई शुरु करेंगे तो आप पढ़ी जाने वाली सामग्री को खूब अच्छे से समझ सकेंगे और याद रख पायेंगे. लेकिन इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि आपको केवल छोटे ब्रेक्स लेने हैं ताकि आपके स्टडी शेड्यूल में कोई फर्क न पड़े. इस समय आप ऐसे काम न करें जिनसे आपका ध्यान अपनी पढ़ाई से हट जाये जैसे आप इस समय अपने स्मार्ट फ़ोन पर कोई गेम न खेलें या सोशल मीडिया पर कोई न्यूज़फीड या मेसेज न पढ़ें क्योंकि ऐसा करने से आपका बहुत समय बर्बाद हो सकता है.

अपने आराम के समय में कटौती न करें 

एग्जाम्स के दौरान अधिकांश स्टूडेंट्स अपनी नींद छोड़कर सारी रात जागकर पढ़ाई करते रहते हैं और सोचते हैं कि कम सोने से उनको कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा. वे यह भूल जाते हैं कि उनके शरीर को पूरा आराम चाहिये. जैसे कोई भी व्यक्ति किसी मशीन को 24/7 नहीं चला सकता क्योंकि ऐसा करने से मशीन टूट जायेगी या चलना बंद कर देगी. मानव शरीर की हालत भी बिलकुल एक मशीन जैसी ही है. मानव शरीर आखिरकार एक जैविक मशीन ही तो है. अगर आप अपने शरीर को पर्याप्त आराम दिये बिना इससे काम लेते रहेंगे तो आपका शरीर अपने तरीके से आपको आराम करने के लिए मजबूर कर देगा जैसे कि आप बीमार भी पड़ सकते हैं. इसका सबसे बूरा प्रभाव यह पड़ेगा कि ज्यादा थकावट और आराम की कमी से आपका स्ट्रेस काफी बढ़ जायेगा और नतीजतन आप पूरा ध्यान लगा कर अपनी पढ़ाई नही कर सकेंगे.

न्यूट्रीशियस मील्स या पौष्टिक आहार लें

एग्जाम के दिनों में आपके शरीर को अपनी पूरी क्षमता और ताकत से काम करना पड़ता है. बिना थके कई घंटों तक लगातार पढ़ने के लिए आपको तेज़ दिमाग और शारीरिक बल की आवश्यकता होती है. आपको एग्जाम के दिनों में ऐसा आहार लेना चाहिए जिससे आपकी कंसंट्रेशन पॉवर और यादाश्त बढ़े. इस समय जंक फ़ूड और तले-भुने खाने से किनारा कर लेना बहुत बढ़िया रहेगा. हम सब यह अच्छी तरह जानते हैं कि जंक फ़ूड और तले-भुने खाने से सुस्ती आती है. इस समय आप ज्यादा से ज्यादा फ्रेश फ्रूट्स, सलाद, बादाम, अखरोट, काजू और ऐसे दूसरे हेल्थी फ़ूड आइटम्स खायें. बहुत ज्यादा चाय – कॉफ़ी न पीयें और इनके बजाय पानी और फ्रेश जूस अधिक पीयें.

रोज़ एक्सरसाइज करें

एग्जाम के दिनों में स्टूडेंट्स को एक ही जगह पर कई घंटों तक रहना पड़ता है. उनकी शारीरिक गतिविधियां तकरीबन न के बराबर हो जाती हैं लेकिन उनके दिमाग को दिन-रात काम करना पड़ता है. इन दिनों स्टूडेंट्स के लिये शारीरिक क्रियाकलाप या फिजिकल एक्सरसाइज करना उन्हें तनावमुक्त करने के लिये रामबाण सिद्ध होता है. सुबह या शाम के समय, जो भी समय आपको ठीक लगे, दौड़ पर जायें या जॉगिंग करें. पढ़ते समय आप कुछ छोटी – छोटी गले और कंधों की एक्सरसाइज भी कर सकते हैं ताकि आपके मसल्स में ऐंठन न आये.

निष्कर्ष

बहुत ही कम लेकिन महत्वपूर्ण शब्दों में हम यह कह सकते हैं कि एक शांत और तनाव रहित दिमाग से आप खूब मन लगा कर पढ़ सकते हैं. अपनी सोच को सकारात्मक बनाये रखें और अपने द्वारा बनाये हुए स्टडी शेड्यूल का दृढ़ता से पालन करें. अपने टारगेट्स को प्राप्त करने के लिए समुचित टारगेट्स निर्धारित करना कभी न भूलें. असल में जैसे ही आप अपना कोई टारगेट प्राप्त करते हैं तो आपका हौसला बढ़ जाता है और फिर आप एक के बाद एक अपना दूसरा टारगेट प्राप्त करते चले जाते हैं. आपको पता चलने से पहले ही आप बड़ी आसानी से एग्जाम की जंग जीत लेते हैं और यहां तक कि आपका रिजल्ट भी आपके मन के अनुरूप निकलता है. यदि आप ऊपर दिए गए टिप्स पर ध्यान दें, उन्हें फ़ॉलो करें तो अवश्य ही कॉलेज में आप ‘एग्जाम स्ट्रेस’ से कोसों दूर रहेंगे.

क्या आपको यह आर्टिकल अच्छा और उपयोगी लगा?.....तो देर किस बात की है. अपने दोस्तों और सहपाठियों या कलीग्स के साथ ये आर्टिकल शेयर करें ताकि उन्हें भी एग्जाम स्ट्रेस का मुकबला करने में सहायता मिले. कॉलेज लाइफ और कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट पर ऐसे अन्य आर्टिकल्स के लिये www.jagranjosh.com/college पर विजिट करें. इसके अलावा आप अपने इनबॉक्स में सीधे ऐसे आर्टिकल भी प्राप्त कर सकते हैं जिसके लिए आपको नीचे दिये गये फॉर्म में अपनी ई-मेल आईडी सबमिट करनी होगी.

Loading...