अपने बैंक लॉकर को सुरक्षित रखने के लिए यहां पढ़ें महत्त्वपूर्ण टिप्स

अगर आपके पास कोई बैंक लॉकर है या आप अपने लिए या फिर, अपने परिवार के किसी सदस्य के लिए बैंक लॉकर की सुविधा लेना चाहते हैं तो पहले, अपने बैंक लॉकर की सुरक्षा के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स के बारे में जानने के लिए इस आर्टिकल को बड़े ध्यान से पढ़ें.

Created On: Jul 15, 2021 21:11 IST
Tips for Bank Lockers safety for you
Tips for Bank Lockers safety for you

देश-दुनिया में सभी लोगों के लिए अपने महत्वपूर्ण दस्तावेजों और सभी किस्म के कीमती सामान - गहने, हीरे, मोती और अन्य सभी कीमती वस्तुओं की सुरक्षा के लिए बैंक लॉकर सुविधा का लाभ उठाना काफी आसान है. निस्संदेह! आपका बैंक लॉकर आपकी समस्त कीमती वस्तुओं और दस्तावेजों - आभूषण और गोपनीय दस्तावेजों - को हिफाजत से रखने के लिए सबसे सुरक्षित विकल्पों में से एक है. अगर आप भी अपने लिए या अपने परिवार के किसी सदस्य के लिए बैंक लॉकर की सुविधा हासिल करना चाहते हैं तो, बैंक लॉकर से संबंधित सुरक्षा मुद्दों, इन सेवाओं के लिए लागत/ शुल्क और बैंक लॉकर सुविधा का लाभ उठाने की आवश्यकता के बारे में आपको पहले से ही जरुर पता होना चाहिए.

आप किसी बैंक में बैंक लॉकर सुविधा का लाभ उठाने से पहले, इसे जुड़े सभी नियम और शर्तों का पता जरुर करें. हम इस आर्टिकल में आपके लिए भारत में बैंक लॉकर से जुड़ी सारी महत्त्वपूर्ण जानकारी प्रस्तुत कर रहे हैं ताकि आप भी अपनी जरुरत के मुताबिक, अपने मनचाहे बैंक में लॉकर की सुविधा का पूरा लाभ उठा सकें. आइये आगे पढ़ें यह आर्टिकल:

बैंक लॉकर के बारे में जरुरी जानकारी

आभूषण, नकदी और महत्वपूर्ण दस्तावेजों सहित आपके सभी किस्म के क़ीमती सामान की सुरक्षा के लिए बैंक लॉकर सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है. चूंकि सभी बैंकों में सीमित संख्या में बैंक-लॉकर्स उपलब्ध होते हैं, इसलिए ‘पहले आओ, पहले पाओ’ के आधार पर हरेक बैंक अपने लॉकर्स आवंटित करता  है. अगर कोई बैंक लॉकर सुविधा प्रदान करने में असमर्थ होता है तो, ऐसे बैंक अपने बैंक लॉकर लेने के इच्छुक सभी ग्राहकों को प्रतीक्षा सूची संख्या जारी करते हैं.

बैंक लॉकर कैसे संचालित करें?

प्रत्येक बैंक-लॉकर में चाबियों के दो सेट होते हैं, एक ग्राहक को प्रदान किया जाता है, दूसरी चाबी बैंक के पास रहती है. इस बैंक-लॉकर को तभी खोला जा सकता है जब दोनों चाबियों का उपयोग किया जाए. हालांकि, ग्राहकों को यह सलाह दी जाती है कि, वे पहले लॉकर से संबंधित सभी दिशा-निर्देशों को अच्छी तरह से पढ़ लें.

बैंक लॉकर कैसे खोलें?

किसी बैंक की बैंक-लॉकर सुविधा का लाभ उठाने के लिए, ग्राहक को एक फॉर्म भरना होगा और इस फॉर्म में अपना समस्त्त आवश्यक विवरण (व्यक्तिगत जानकारी और बैंक विवरण) प्रदान करना होगा. इसके अलावा, बैंक ग्राहक द्वारा हस्ताक्षरित 'मेमोरेंडम ऑफ लेटिंग' प्राप्त करता है और बैंक लॉकर सुविधा को सौंपने से पहले, अपने नियम और शर्तों पर हस्ताक्षर करना ग्राहक के लिए अनिवार्य बनाता है. किसी बैंक में अपना लॉकर खोलने के लिए ग्राहकों को अपनी नवीनतम फोटोग्राफ के साथ ‘नो योर कस्टमर’ (KYC) दस्तावेज भी जमा करने होंगे.

बैंक लॉकर सुविधा का शुल्क

प्रत्येक बैंक में बैंक लॉकर सुविधा का लाभ उठाने का शुल्क अलग-अलग होता है. लॉकर सेवाओं का लाभ उठाने के लिए RBI द्वारा निर्दिष्ट कोई निश्चित राशि नहीं है. हालांकि, RBI का यह कहना है कि, बैंक ऐसे लोगों को अपने बैंक की लॉकर सुविधा से वंचित नहीं कर सकते हैं जो लोग उनके बैंक के मौजूदा ग्राहक नहीं हैं.

कुछ मामलों में, ग्राहक से संबंधित सर्विस चार्ज लेने के साथ-साथ, बैंक लॉकर के किराए के तौर पर, तीन साल तक की जमानत राशि का शुल्क लिया जाता है. जिन ग्राहकों का बैंक में खाता नहीं होता है, उन्हें इन सेवाओं का लाभ उठाने के लिए एक निश्चित राशि का सावधि जमा खाता खोलने के लिए भी संबद्ध बैंक द्वारा कहा जा सकता है.

बैंक लॉकर की सुविधा से लाभ उठाने के नियम

अगर कोई ग्राहक एक वर्ष की अवधि पूरी होने तक अपने बैंक लॉकर को नहीं खोलता है, तो कुछ मामलों में, बैंक ग्राहक की इस लॉकर सुविधा को रद्द भी कर सकता है. इसके अलावा, बैंक लॉकर में ग्राहक कितनी बार यात्रा कर सकता है, इसके लिए भी प्रत्येक बैंक के अपने नियम हैं. उदाहरण के लिए, SBI एक वर्ष में 12 मुफ्त यात्राओं/ फ्री विजिट्स की अनुमति देता है और अतिरिक्त यात्राओं के लिए 51 रुपये चार्ज करता है. सभी लाभार्थियों को यह सलाह दी जाती है कि, वे हरेक साल के भीतर, अपने बैंक लॉकर विजिट्स के नंबर का पूरा ध्यान रखें ताकि वे अनावश्यक चार्जेज देने से बच सकें.  

सुरक्षा चिंताएं

RBI ने यह उल्लेख किया है कि, अगर आपके बैंक लॉकर में रखी सामग्री/ सामान चोरी/ सेंधमारी या डकैती के कारण चोरी हो जाता है, तो बैंक को इसके लिए किसी भी तरह से जिम्मेदार/ उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है. लेकिन, RBI देश के सभी बैंकों को भी ग्राहकों के हितों की रक्षा के लिए सर्वोत्तम श्रेणी की सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने की सलाह देता है.

आपके बैंक लॉकर के लिए नॉमिनी या जॉइंट होल्डिंग की सुविधा

प्रत्येक बैंक अपने ग्राहकों को नॉमिनी रखने की अनुमति देता है और वे ग्राहक अपने बैंक लॉकर की सुविधा को संयुक्त धारकों (जैसे पति और पत्नी) के तौर पर या 'दोनों में से कोई एक या उत्तरजीवी' मोड में संचालित कर सकते हैं.

अगर ग्राहक का कोई नॉमिनी है, तो बैंक लॉकर की सामग्री को लॉकर लाभार्थी की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु के बाद ही, संबद्ध नॉमिनी को जारी करेगा.

*अस्वीकरण - यह जानकारी केवल आपके वित्तीय ज्ञान और समझ को बढ़ाने के लिए प्रस्तुत की गई  है. इसे किसी भी व्यक्ति के द्वारा वित्तीय सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए.

ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने या फिर, इस बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के साथ ही सभी  लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर रोजाना विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

इन्वेस्टमेंट बैंकिंग: भारत में टॉप कोर्सेज और करियर स्कोप

हरेक इंडियन को जरुर पता होने चाहिए ये सेफ बैंकिंग टिप्स

बैंकिंग एग्ज़ाम्स के इंटरव्यू में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

 

Related Categories