Search

JEE की तैयारी करने वाले आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को IIT Delhi के छात्रों की सौगात “आरोहण”

Aug 27, 2018 15:43 IST
Aarohan by IIT Delhi students

IIT Delhi में पढ़ रहे विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) के तहत 'आरोहण' नाम से कक्षाएं शुरू की हैं. इस मिशन के अंतर्गत IIT दिल्ली के आसपास रहने वाले आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चों को (जो विज्ञान विषय से पढ़े रहें हैं) मुफ्त में JEE Main के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है. Facebook पर “NSS IIT Delhi” नाम से एक पेज फेसबुक भी बनाया गया है जहाँ पर इस कक्षा में शामिल होने वाले इच्छुक विद्यार्थी “आरोहण” से  सम्बंधित सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

आरोहण मिशन के अंतर्गत IIT JEE की तैयारी करने वाले बच्चे 3 batches (11th, 12th और Dropper) में दाखिला ले सकते हैं. इसमें बच्चों को सप्ताह के पांच दिन (सोमवार से शुक्रवार) शाम 4 बजे से 7 बजे तक पढ़ाया जाता है. कक्षाएं attend करने के लिए विद्यार्थियों को IIT Delhi के कैंपस में जाना पड़ेगा. आज हम इस लेख में बताएँगे कि कैसे यह मिशन IIT JEE की तैयारी करने वाले बच्चों के लिए लाभकारी होगा.

1. IIT Delhi के छात्र व् प्रोफेसर देंगे बच्चों को कोचिंग:

जैसा कि हम जानते हैं कि IIT Delhi में पढ़ने के लिए विद्यार्थियों को JEE Main और JEE Advanced में अच्छी रैंक हासिल करनी पड़ती है. आरोहण मिशन के अंतर्गत IIT Delhi में B.Tech, M.Tech और Phd. कर रहे छात्र बतौर शिक्षक बच्चों को पढ़ाएंगे. बच्चों को इससे बहुत ही फ़ायदा होगा क्योंकि इंजीनियरिंग उम्मीदवारों को होने वाली सभी परेशानियों का इन छात्रों को निश्चित ही अच्छा अनुभव होगा. इसके साथ-साथ IIT के कुछ प्रोफेसर भी बच्चों को पढ़ाते हैं.

2. कोचिंग सेंटर की ज़रूरत नहीं:

अक्सर हम सुनते हैं कि  IIT JEE की तैयारी करवाने वाले कोचिंग सेंटर में पढ़ाने वाले टीचर IITian होते हैं. इसमें कोई संदेह नहीं कि IITian द्वारा पढ़ाये जाने पर विद्यार्थी किसी भी कांसेप्ट को आसानी से समझ लेते हैं लेकिन कोचिंग सेंटर की अधिक फ़ीस होने के कारण गरीब बच्चे IIT की तैयारी से वंचित रह जाते हैं. किन्तु आरोहण मिशन में पढ़ने वाले बच्चों को IITian द्वारा मुफ्त में JEE की तैयारी के लिए पढ़ाया जाता है.

कोई भी कर सकता है मुफ्त में JEE Main और Advanced 2019 की तैयारी और वह भी IITs के प्रोफेसर से

3. Subject/Topic wise experts:

इसमें कोई संदेह नहीं कि “Mathematics और Computing” ब्रांच से इंजीनियरिंग करने वाले छात्रों की Maths, Mechanical Engineering वाले छात्रों की Mechanics, Chemical Engineering वाले छात्रों की Chemistry, Electrical Engineering करने वाले छात्रों की Electronics बहुत ही स्ट्रोंग होती है. आरोहण मिशन में सभी  टॉपिक के experts बच्चों को शिक्षा देते हैं, जिससे बच्चों को छोटे से छोटा Doubt भी आसानी से क्लियर हो जाता है और बच्चों द्वारा JEE में अच्छा प्रदर्शन करने की सम्भावना बढ़ जाती है.

4. To the point preparation:

कभी-कभी कोचिंग सेंटर कोर्स को लम्बा खींचने के लिए विद्यार्थियों के सिलेबस में extra टॉपिक भी जोड़ देते हैं. ऐसा करने से वो अपने द्वारा ज़्यादा फ़ीस लेने को आसानी से Justify कर देते हैं. किन्तु वास्तव में ऐसे एक्स्ट्रा टॉपिक्स से IIT JEE की परीक्षा में प्रश्न पूछे ही नहीं जाते. आरोहण मिशन के अंतर्गत कंडक्ट की जाने वाली कक्षा में विद्यार्थियों को महव्तपूर्ण टॉपिक्स IIT Delhi के छात्र पढ़ाते हैं जिससे बच्चों का समय बर्बाद नहीं होता है और विद्यार्थी उस समय को प्रैक्टिस पेपर्स को हल करने में उपयोग कर लेते हैं.

5. आने वाली कॉलेज लाइफ़ का पता चल जाएगा:

IIT Delhi के छात्रों से पढ़ने के कारण बच्चों को IITs में स्टूडेंट्स लाइफ के बारे में पता चल जाता है. बच्चों के लिए यह जानना बहुत ही ज़रूरी है कि जिस कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए वे दिन-रात कड़ी मेहनत कर रहें है वहाँ दाखिला पाने के बाद उनकी लाइफ कैसी होगी. इससे बच्चों का मन पढ़ाई में लगा रहेगा और वह अपने सपने को साकार करने के लिए कड़ी मेहनत कर सकेंगे.

निष्कर्ष:

निश्चित ही, IIT Delhi के छात्रों द्वारा शुरू किया गया “आरोहण” मिशन आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चों को IITs में दाखिला लेने के उनके सपने को साकार करने में सहायता करेगा. इंजीनियरिंग उम्मीदवार इस मिशन के तहत IIT Delhi में B.Tech, M.Tech और Phd. कर रहे छात्रों से मुफ़्त में JEE Main और Advanced की कोचिंग ले सकते हैं.

जानें कब और क्यों करना चाहिए JEE Main के लिए 1 साल ड्राप?