आईटीआई के बाद यंग इंडियन्स के लिए करियर ऑप्शन्स

हमारे देश में आईटीआई के स्टूडेंट्स के मन में हमेशा एक सवाल आता है कि आखिर आईटीआई करने के बाद हमें जॉब मार्केट में किस तरह के जॉब ऑफर मिलेंगे? इस आर्टिकल में हमने आपके इस सवाल का सटीक जवाब देने की कोशिश की है और आईटीआई से कोई कोर्स करने के बाद यंग इंडियन्स के लिए अनेक सूटेबल करियर ऑप्शन्स की चर्चा की है.

Created On: Feb 24, 2021 22:06 ISTModified On: Feb 24, 2021 22:06 IST

Different Disciplines After ITI

आईटीआई स्टूडेंट्स के लिए हायर स्टडीज़ के अवसर

डिप्लोमा कोर्सेज

उन स्टूडेंट्स के लिए जिन्होंने टेक्नीकल बिजनेस या इंजीनियरिंग डोमेन में आईटीआई प्रशिक्षण लिया है,कई इंजीनियरिंग डिप्लोमा कोर्सेज उपलब्ध हैं. आईटीआई पाठ्यक्रमों के विपरीत, डिप्लोमा इंजीनियरिंग कोर्सेज डोमेन में विषय के सैद्धांतिक और व्यावहारिक दोनों ही पहलुओं के विवरण पर जोर दिया जाता है.

स्पेशलाइज्ड शॉर्ट टर्म कोर्सेज

कुछ विशिष्ट व्यापारों से आईटीआई स्टूडेंट्स के लिए, उन्नत प्रशिक्षण संस्थान (एटीआई) विशेष अल्पकालिक कोर्सेज प्रदान करती है. ये कोर्सेज स्टूडेंट्स को अपने कौशल और अधिक बढ़ाने में मदद करते हैं, इससे संबंधित डोमेन में अपने नौकरी प्रोफाइल या उद्योग की आवश्यकताओं की पूर्ति आसानी से की जा सकती है.

ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट

आईटीआई कोर्सेज के पूरा होने के बाद आईटीआई स्टूडेंट्स के लिए एक और विकल्प एआईटीटी या ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट के लिए जाना है. ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट एनसीवीटी (व्यावसायिक प्रशिक्षण के लिए राष्ट्रीय परिषद) द्वारा आयोजित किया जाता है. यह परीक्षा वस्तुतः एक स्किल टेस्ट है जो  आईटीआई स्टूडेंट्स को सर्टिफाई करता है. एआईटीटी पास करने के बाद, स्टूडेंट्स को एनसीवीटी द्वारा संबंधित व्यापार में राष्ट्रीय व्यापार प्रमाणपत्र (एनटीसी) से सम्मानित किया जाता है. बहुत सारे इंजीनियरिंग ट्रेड्स में एनटीसी डिप्लोमा, डिग्री के बराबर है.

भारत में आईटीआई कोर्सेज के बाद रोजगार के अवसर

अन्य प्रोफेशनल्स और व्यावसायिक कोर्सेज संस्थान की तरह आईटीआई का भी एक समर्पित  प्लेसमेंट सेल है जो स्टूडेंट्स की नियुक्ति की देखभाल करता है. इन प्लेसमेंट सेलों में विभिन्न सरकारी संगठनों, निजी कंपनियों और यहां तक ​​कि विदेशी कंपनियों के साथ समझौता किया जाता है जिसके तहत स्टूडेंट्स को कई सारे बिजनेस तथा ट्रेड्स में हायर किया जाता है.

भारत में पब्लिक सेक्टर में जॉब्स

आईटीआई स्टूडेंट्स का सबसे बड़ा नियोक्ता सार्वजनिक क्षेत्र/ पब्लिक सेक्टर या सरकारी एजेंसियां ​​है. जिन स्टूडेंट्स ने अपना आईटीआई पूरा कर लिया है वे रेलवे, टेलीकॉम / बीएसएनएल, आईओसीएल, ओएनसीजी, राज्यवार पीडब्ल्यूडी और अन्य जैसे विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों / पीएसयू में रोजगार की तलाश कर सकते हैं. इसके अलावा, वे भारतीय सशस्त्र बलों यानी भारतीय सेना, भारतीय नौसेना, वायुसेना, बीएसएफ, सीआरपीएफ और अन्य अर्धसैनिक बलों में भी अपना करियर बना सकते हैं.

भारत में प्राइवेट सेक्टर में जॉब्स

निजी या प्राइवेट क्षेत्र, विशेष रूप से विनिर्माण और मैकेनिक्स में काम करने वाले लोग व्यापार विशिष्ट नौकरियों के लिए आईटीआई स्टूडेंट्स की तलाश करते हैं. इसके अतिरिक्त निर्माण, कृषि, कपड़ा, ऊर्जा आदि जैसे प्रमुख क्षेत्रों में आईटीआई स्टूडेंट्स को आकर्षक करियर के अवसर मिल सकते हैं. जहां तक ​​विशिष्ट नौकरी प्रोफाइल का संबंध है तो  इलेक्ट्रॉनिक्स, वेल्डिंग प्रशीतन और एयर कंडीशनर मैकेनिक निजी क्षेत्र में आईटीआई स्टूडेंट्स के लिए सबसे अधिक मांग किए जाने वाले स्किल्स हैं.

स्व रोजगार का विकल्प

यह शायद आईटीआई कोर्सेज का चयन करने का सबसे महत्वपूर्ण लाभ है, क्योंकि यह किसी को भी अपना व्यवसाय शुरू करने और स्वयं-नियोजित होने की अनुमति देता है.

आजकल हमें प्रशिक्षित और योग्य प्लंबर, कारपेंटर, निर्माण कार्यकर्ता, कृषि श्रमिकों आदि की बहुत  कमी देखने को मिलती है. आईटीआई प्रमाण पत्र वाले स्टूडेंट्स के लिए यह एक सुनहरा अवसर है कि वे अपना खुद का व्यवसाय शुरू करें और स्वयं-नियोजित रहें.

विदेशों में नौकरी की संभावना

आईटीआई छात्र अपने कोर्सेज के पूरा होने के बाद विदेशों में भी रोजगार के अवसर तलाश सकते हैं. भारत की भांति ही अन्य देशों में भी इस तरह के टेक्नीकल स्किल्स वाले लोगों की बहुत ज्यादा मांग है.

कुछ विशेष ट्रेड्स फ्रिटर्स आदि के लिए अंतरराष्ट्रीय तेल और गैस कारखानों तथा शिपयार्ड इत्यादि में  नौकरी के भरपूर अवसर उपलब्ध हैं.

यंग इंडियन्स के लिए आईटीआई कोर्स के बाद करियर ऑप्शंस

देश-दुनिया की जॉब मार्केट में इन दिनों आजकल एकेडमिक डिग्री के सामान ही स्किल्स को भी वरीयता दी जाती है. भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे स्किल इंडिया जैसे प्रोग्राम की वजह से भी देश के युवाओं द्वारा स्किल डेवेलपमेंट पर विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता महसूस की गयी है. ऐसे स्किल्स डेवेलपमेंट प्रोग्राम्स की वजह से युवाओं और संस्थाओं की उत्पादक क्षमता बढ़ी है. यही कारण है कि भारत के किसी भी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (आईटीआई) में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे या फिर प्रशिक्षण ले रहे स्टूडेंट्स के पास रोजगार के भरपूर अवसर के साथ बेहतरीन करियर की आशाजनक संभावनाएं मौजूद हैं.

भारत में आईटीआई कोर्सेज की लोकप्रियता

आमतौर पर, आईटीआई कोर्सेज ज्यदातर ग्रामीण परिवेश के स्टूडेंट्स के बीच अधिक लोकप्रिय है. इस कोर्सेज की लोकप्रियता का मुख्य कारण इंजीनियरिंग या गैर-इंजीनियरिंग ट्रेडों में इसके द्वारा डिजाइन स्किल डेवेलपमेंट से जुड़े सिलेबस तथा कोर्सेज पर विशेष रूप से ध्यान देना है.

वैसे पिछले कुछ दशकों से आईटीआई पाठ्यक्रमों की लोकप्रियता में विभिन्न कारकों के कारण भारी गिरावट आई है. इसने कई स्टूडेंट्स को आईटीआई कोर्सेज लेने की व्यवहार्यता के बारे में सोचने के लिए मजबूर किया है. आज कल, स्टूडेंट्स को अक्सर ऐसे सवाल सुनने को मिलते हैं - जैसे 'आईटीआई प्रशिक्षण कार्यक्रमों ने अपनी पुरानी शाख खो दी है? क्या ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रम वर्तमान में उपयोगी हैं? आइये ऐसे ही कुछ सवालों का जवाब तलाशते हैं.

भारत में आईटीआई कोर्सेज के बाद यंग प्रोफेशनल्स के लिए करियर्स

21 वीं शताब्दी कौशल और ज्ञान की सदी है; ऐसे प्रोफेशनल्स जिनके पास विशेष कौशल है या उनके पास सही ज्ञान है और उन्हें लागू करने का सही तरीका पता है,आई टी आई को अन्य टेक्नीकल कोर्सेज की तुलना में कम आंकते हैं तो वे सर्वथा गलत हैं. आजकल के बढ़ते बेरोजगारी के दौर में  सही कौशल सेट और प्रशिक्षण आईटीआई स्टूडेंट्स के पास उच्च शैक्षणिक योग्यता रखने वाले उम्मीदवारों के वनिस्पत रोजगार के अधिक अवसर उपलब्ध हैं.

अब यदि करियर अवसर की बात की जाय तो आईटीआई के स्टूडेंट्स के पास मुख्यतः दो विकल्प मौजूद हैं. पहला या तो हायर एजुकेशन के लिए जाएं या फिर किसी नौकरी की तलाश करें.

Comment ()

Just Now