Search
  1. Home > 

पोषण एवं आहारिकी (न्यूट्रीशन एंड डायटेटिक्स) में करियर

Sep 11, 2018 12:49 IST

    Nutrition and Dietetics

    परिचय

    बारहवीं के उपरान्त ही पोषण एवं आहारिकी का कोर्स आपको एक रोमांचक करियर प्रदान कर सकता है. गृह विज्ञान अथवा होटल प्रबंधन में डिग्री आपको पोषण एवं आहारिकी का उच्च-स्तर का ज्ञान करा सकती हैं. भारत में पारंपरिक रूप से इस क्षेत्र में वैसे तो महिलाएं ही पदार्पण करती हैं परन्तु आजकल अवसरों की अधिकता होने के कारण पुरुष भी इस क्षेत्र में करियर बनाने लगे हैं.

    चरणबद्ध प्रक्रिया

    1. साधारणतः पोषण एवं आहारिकी कोर्स का मुख्य उद्देश्य होता है- पोषण एवं आहार से जुड़ी परेशानियों को जनसँख्या के एक तबके को लेकर चिह्नित करना. 
    2. देश में मौजूद पोषण एवं आहार से जुडी समस्याओं के नियंत्रण के लिए सामाजिक, आर्थिक एवं तकनीकी रूप से सक्षम विधिओं का विकास करना.
    3. पोषण एवं आहार से जुडी योजनाओं के प्रबंधन व प्रशासन के लिए नयी तकनीकों का विकास करना तथा उन्हें ज़मीनी स्तर पर लागू करना.
    4. पोषण के क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देकर भावी वैज्ञानिकों की एक पौध तैयार करना.
    5. पोषण से जुड़े मुद्दों पर सरकार एवं अन्य स्वस्थ्य संस्थानों को समय-समय पर सलाह देते रहना. 

    पदार्पण

    स्कूली शिक्षा ख़त्म करने के पश्चात आप पोषण एवं आहारिकी में स्नातक कोर्स में दाखिला ले सकती हैं पर तभी जब आपके पास इसमें दाखिले के लिए न्यूनतम अंक हों. अन्यथा इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आप किसी भी प्रसिद्ध संस्थान के एक-वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में दाखिला ले सकते हैं.

    हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय पोषण संस्थान इस क्षेत्र का सबसे प्रसिद्ध संस्थान है. यह कॉलेज पोषण में सर्टिफिकेट कोर्स तथा डिग्री कोर्स प्रदान करता है. पोषण के क्षेत्र में अनुसंधान के कारण इस कॉलेज की प्रतिष्ठा सम्पूर्ण विश्व में है. एसएनडीटी कॉलेज (मुम्बई) तथा मैंगलोर विश्वविद्यालय भी इस क्षेत्र में कोर्स संचालित करते हैं.

    क्या यह मेरे लिए सही करियर है?

    यदि आपको बचपन से ही खाना पकाना एवं विभिन्न देशों के विभिन्न व्यंजनों की खोज करना पसंद है तो पोषण एवं आहारिकी विषय आपके लिए है जहां आप नियंत्रित खान-पान की रूप-रेखा बनाना जान सकते हैं. शरीर के भार और माप पर आधारित बॉडी-मास इंडेक्स के अनुसार शरीर के लिए प्रतिदिन ज़रूरी वसा,  कार्बोहाईड्रेट व प्रोटीन की मात्रा का निर्धारण करने के लिए किसी व्यक्ति के खान-पान का चार्ट बनाया जाता है.

    शुरूआती तौर पर यह करियर कम पारिश्रमिक देने वाला होता है परन्तु अनुभव लेने के बाद इस क्षेत्र में बहुत अवसर हैं तथा यहाँ आपके विदेश जाने के भी अवसर हैं.

    खर्चा कितना होगा?

    कॉलेज के चयन के आधार पर स्नातक कोर्स की फीस 10000 रूपये तथा इससे अधिक भी हो सकती है. डिप्लोमा कोर्स की फीस इससे हालांकि अधिक हो सकती है पर यह एक-वर्षीय कोर्स में दो वर्ष का कॉन्टेंट समाहित होने पर यह ज्यादा आकर्षित होता है.

    छात्रवृत्ति

    स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया व अन्य कई बैंक भारत में शिक्षा के लिए 7.5 लाख रूपये तक का ऋण व विदेश में पढ़ाई के लिए 15 लाख रूपये तक का ऋण देते हैं . यह धनराशि छात्र आसान किश्तों में अदा कर सकते हैं.

    रोज़गार के अवसर

    करियर बनाने की दृष्टि से देखें तो आज होटल, क्रूज़ लाइंस, अस्पताल और सरकारी स्वास्थ्य विभाग भी पोषण एवं आहारिकी विशेषज्ञ को अच्छे-खासे वेतन पर नियुक्त करते हैं. यदि आप शेल, मर्स्क जैसी शिपिंग कंपनियों अथवा उनकी सहायक कंपनियों में जॉब का अवसर प्राप्त करते हैं तो आपको विश्वभ्रमण का मौका भी मिल सकता है.

    वेतनमान

    पोषण एवं आहारिकी में कोर्स करने वाले फ्रेशर को किसी अच्छे अस्पताल या नर्सिंग होम में 10 से 20 हज़ार की नौकरी आसानी से मिल जाती है. बहुत सी खेल संस्थाएं, कम्पनियाँ और कारखाने अपने आहार-गृह के लिए व्यंजन-सूची बनाने वाले पोषण एवं आहारिकी विशेषज्ञों की सेवाएं लेती हैं. स्पा और कई क्लीनिक भी अपने ग्राहकों के लिए स्वस्थ एवं कम-कैलोरी वाला फ़ूड-चार्ट बनाने के लिए आहार विशेषज्ञों की सेवाएं लेते हैं. यदि इस कोर्स के साथ होटल मैनेजमेंट का कोर्स भी कर लिया जाए तो वेतन 20 से 25 हज़ार भी हो सकता है.

    मांग एवं आपूर्ति

    स्वस्थ रहने तथा ज़्यादा कैलोरी वाले भोजन जो कि मोटापा और हाइपर-टेंशन जैसी बीमारियों को निमंत्रण देता है, के प्रति लोगों को जागरूक होने की वजह से पोषण एवं आहारिकी विशेषज्ञों की मांग बढ़ गयी है. जबकि मांग की तुलना में आपूर्ति कम है.

    शुरूआती वेतन कम होने की वजह से केवल महिलाएं ही इस्क्षेत्र में करियर बनाने के बारे में सोचती हैं चूंकि यह एक कम थकावट व कम व्यस्तता वाला प्रोफेशन है. हालांकि आज इस क्षेत्र के कई डॉक्टर एवं पोषण विशेषज्ञ जाना-पहचाना नाम बन गए हैं. ये टीवी पर आकर लोगों को डाईट-चार्ट के बारे में समझाते हैं. कई बड़े नाम बड़ी कंपनियों में भी कार्यरत हैं.

    मार्केट वॉच

    डॉक्टर या इंजीनियर की तरह यह एक मुख्यधारा का करियर न होकर सहायक (सपोर्टिंग) करियर माना जाता है .हालांकि उपभोक्ता सामान बनाने वाली लगभग सभी कम्पनियां जैसे कॉलगेट,  क्लोज़-अप,  अमूल,  बॉर्नविटा,  कॉम्प्लान इत्यादि अपने अनुसंधान से जुड़े कार्यों के लिए आहार विशेषज्ञों को नौकरी देती हैं.

    अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शन

    विकसित देशों में डाईट-मास्टर का बहुत महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है तथा अब भारत में भी इनकी ज़रुरत महसूस की जाने लगी है. यूएस जैसे देशों में औषधीय आहार विशेषज्ञों को 20 से 40 हज़ार अमेरिकी डॉलर मासिक वेतन मिल जाता है पर उसके लिए उन्हें उन कंपनियों द्वारा वांछित विशेषज्ञता हासिल करनी होती है.

    सकारात्मक/नकारात्मक पहलू

    सकारात्मक

    1. यदि स्कूल में आपके ज़्यादा अंक नहीं हों तो चिंता की कोई बात नहीं है चूंकि पोषण एवं आहारिकी पाठ्यक्रम में आसानी से दाखिला मिल जाता है.
    2. परास्नातक डिग्री के अलावा, कॉलेज पीजी डिप्लोमा तथा एक-वर्षीय एडवांस डिप्लोमा भी प्रदान करते हैं.
    3. यह विषय बहुत ही रोचक तथा हमारी ज़िंदगी से जुडा है. आप ग्राहकों के अलावा अपने परिवार के लिए भी डाईट-चार्ट बना सकते हैं. यह विषय आपके व्यक्तिगत अनुसंधान के लिए भी महत्वपूर्ण होता है .

     

    नकारात्मक

    1. शुरूआती वेतन अन्य प्रोफेशन के मुकाबले कम होता है.
    2. यदि आप अपने ही क्षेत्र, शहर या गाँव में उच्च वेतनमान वाली अच्छी नौकरी की चाह रखते हैं तो आपको निराशा हाथ लग सकती है. दूसरी ओर यदि आपको यात्रा करना पसंद है तो आपको उच्च वेतन वाले जॉब मिल सकती है.
    3. बड़े जहाज़ों और क्रूज़-लाइंस में जॉब करने पर आपको कई हफ़्तों या महीनों तक घर से दूर रहना पड़ सकता हैI 

    भूमिका और पदनाम

    पोषण एवं आहारिकी कोर्स होटल मैनेजमेंट जितना ही अच्छा है पर ऐसा तभी हो सकता है जब खान-पान,  उसके औषधीय गुण और उनके मापने के तरीकों के बारे में लगातार आप अपने आपको अपडेट करते रहे. यदि आप किसी अस्पताल के लिए काम करते हैं तो आपको परिचर्या एवं औषधि विज्ञान की भी जानकारी हो जाती है जोकि आपके आहारिकी के करियर के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है.

    अग्रणी कंपनियों की सूची

    पोषण विशेषज्ञों को नौकरी देने वाली हॉस्पीटेलिटी उद्योग की पांच अग्रणी कम्पनियां निम्न हैं:

    1. हयात कॉर्पोरेशन
    2. एकॉर हॉस्पीटेलिटी
    3. ताज ग्रुप ऑफ़ होटल्स
    4. वाटिका ग्रुप
    5. ला मरेदियन

    इनके अलावा अपोलो ग्रुप ऑफ़ हॉस्पीटाल्स, एम्स तथा अन्य निजी नर्सिंग होम्स भी पोषण एवं आहारिकी विशेषज्ञों की सेवाएं लेते हैं. कुछ अग्रणी स्पोर्ट्स-क्लब और फिटनेस सेंटर भी इन प्रोफेशनल्स को नियुक्त करते हैं.

    रोज़गार प्राप्त करने के लिए कुछ सुझाव

    आहारिकी विशेषज्ञ के रूप में नौकरी पाने के लिए निम्न सुझाव दिए जाते हैं:

    1. भोजन में कैलोरी तथा विभिन्न पोषक तत्वों (वसा, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन) की मात्रा मापने की नयी-नयी तकनीकों के बारे में अपने आपको अपडेट करते रहें. इसके लिए आप विभिन्न पात्र-पत्रिकाओं में प्रतिष्ठित आहारिकी विशेषज्ञों के लेखों को पढ़ सकते हैं.
    2. आपकी संवाद-क्षमता अच्छी होनी चाहिए जिससे कि साक्षात्कार के दौरान आप आत्मविश्वासी तथा आशावादी लगें.

     

    Read more Careers on : पोषण , आहार , रोजगार , करियर , होम साईंस , गृह विज्ञान , nutrition , dietetics , diets , nutritionist , career , home science , hotel management
    CATEGORIESCategories

    Newsletter Signup

    Copyright 2018 Jagran Prakashan Limited.
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK