Search

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में करियर

Sep 14, 2018 10:34 IST

Human Resource Management

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट कोर्स क्यों करें?

किसी भी संगठन के सुचारु रूप से कामकाज करने और संचालन के लिए, उस संगठन में एचआर डिपार्टमेंट का कार्य बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है. कर्मचारियों की सैलरी, एम्पलॉयी रूल्स एंड रेगुलेशन्स, कंपनसेशन और लीव पॉलिसी आदि सभी पहलू एचआर डिपार्टमेंट के तहत आते हैं और ये सभी काम संगठन में व्यवस्था और डिसिप्लिन कायम रखने के लिए अत्यंत जरुरी हैं. चाहे वह कोई स्मॉल स्केल इंडस्ट्री हो या फिर, कोई मल्टीनेशनल कंपनी, उस संगठन को 24x7 सुचारु रूप से संचालित रखने के लिए एचआर डिपार्टमेंट एक बैकबोन की तरह काम करता है. इस कोर्स को करने पर आप संगठन का अभिन्न हिस्सा बन जाते हैं जो संगठन की लाभप्रदता के साथ ही एम्पलॉयीज की भलाई के लिए भी काम करता है.

एचआर मैनेजर का रोल

एक ह्यूमन रिसोर्स कर्मी होने के कारण आपकी काफी जिम्मेदारी और जवाबदेही बनती है क्योंकि यह विभाग मूल्यवान ह्यूमन कैपिटल की देखभाल करता है और ह्यूमन कैपिटल ही कोर बिजनेस चलाती है. जिस दिन से किसी एम्पलॉयी को रिक्रूट किया जाता है और जब तक वह एम्पलॉयी संगठन में काम करता है, एम्पलॉयी की सभी जरूरतें जैसेकि, सैलरी, वेलफेयर प्रोग्राम्स, ट्रेनिंग, अप्रेजल, प्रमोशन, ग्रीवयेंसिज आदि की जिम्मेदारी एचआर विभाग की होती है. एचआर मैनेजर संगठन के रोजमर्रा के कामकाज की देखरेख करते हैं और एम्पलॉयीज को लंबे समय तक अपने संगठन में कार्यरत रखने के लिए एचआर मैनेजर्स को इस संबंध में पॉलिसी और प्लान्स भी बनाने होते हैं.

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट कोर्सेज कितने प्रकार के होते हैं?

छात्र कम आयु में ही एचआर कोर्सेज कर सकते हैं. आप किसी डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेकर एचआर कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं और आगे डॉक्टोरल डिग्री तक अपनी इस शिक्षा को बढ़ा सकते हैं. तेजी से बढ़ती हुई फील्ड ने कॉरपोरेट सेक्टर के साथ ही अन्य कई इंडस्ट्रीज में भी जॉब्स के ढेरों अवसर प्रदान किये हैं. आइये अब उन विभिन्न कोर्सेज की चर्चा करें जो आप ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट के तहत कर सकते हैं: 

डिप्लोमा कोर्सेज

छात्र 10+2 क्लास पास करने के तुरंत बाद डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं. इस कोर्स की अवधि 1 वर्ष से 1 वर्ष और  6 महीने है.

अंडरग्रेजुएट कोर्सेज

एचआरएम में अंडरग्रेजुएट कोर्स को एचआर में बीबीए या एचआरएम में बीए के तौर पर जाना जाता है. आमतौर पर किसी अंडरग्रेजुएट कोर्स की अवधि 3 वर्ष होती है.

पोस्टग्रेजुएट कोर्सेज

ह्यूमन रिसोर्स में पोस्टग्रेजुएट कोर्स पूरा कर लेने पर, आपको ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में एमए/ एमबीए/ पीजीडीएम की डिग्री प्रदान की जाती है. आमतौर पर किसी पोस्टग्रेजुएट कोर्स की अवधि 2 वर्ष होती है.

डॉक्टोरल कोर्सेज

कोई डॉक्टोरल डिग्री प्राप्त करने के बाद आप अपने नाम के आगे डॉ. का टाइटल लगा सकते हैं. ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में डॉक्टोरल प्रोग्राम को पीएचडी अर्थात डॉक्टरेट ऑफ़ फिलोसोफी के नाम से जाना जाता है. डॉक्टोरल कोर्स की अवधि 3-4 वर्ष है. यह अवधि थीसिस सबमिशन गाइडलाइन्स पर भी निर्भर करती है.

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट (एचआरएम) कोर्सेज में एडमिशन कैसे लें?

कई छात्रों के लिए एडमिशन प्रोसेस काफी मुश्किल काम है. हालांकि, आप बी-स्कूल्स में एडमिशन लेने की प्रोसेस को फ़ॉलो करने में आने वाली कठिनाइयों से बच सकते हैं. टॉप इंस्टिट्यूट्स में एडमिशन लेने की प्रक्रिया के दो प्रमुख आधार या पिलर्स हैं. इनमें से एक पिलर एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया है और दूसरा पिलर एंट्रेंस एग्जाम है. इन दोनों के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त करने पर आपको किसी भी बी-स्कूल में एडमिशन लेने में बड़ी आसानी होगी.

एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

एचआरएम कोर्सेज में शॉर्टलिस्ट होने के लिए पहला कदम एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को अच्छी तरह समझना है. जब आप अपने पसंदीदा इंस्टिट्यूट में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देने हेतु  एलिजिबल बन जाते हैं तो आप एडमिशन लेने की अगली प्रक्रिया पूरी करने के लिए आगे कदम बढ़ा सकते हैं. प्रत्येक लेवल पर प्रत्येक कोर्स के लिए बेसिक एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को जानने के लिए आगे पढ़ें:

डिप्लोमा लेवल

छात्र 10+2 क्लास पास करने के तुरंत बाद डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं.

अंडरग्रेजुएट लेवल

छात्र किसी मान्यताप्राप्त बोर्ड या यूनिवर्सिटी से 10+2 क्लास कम से कम 50% मार्क्स के साथ पास करने के बाद अंडरग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं.

पोस्टग्रेजुएट लेवल

पोस्टग्रेजुएट कोर्स करने के लिए, आपके पास एआईसीटीई से मान्यताप्राप्त किसी इंस्टिट्यूट या यूनिवर्सिटी से अंतिम वर्ष में कम से कम 50% कुल प्रतिशत के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए.

डॉक्टोरल लेवल

किसी डॉक्टोरल डिग्री के लिए, आपके पास एआईसीटीई से मान्यताप्राप्त किसी इंस्टिट्यूट या यूनिवर्सिटी से अंतिम वर्ष में कम से कम 50% कुल प्रतिशत के साथ ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए.

एंट्रेंस एग्जाम्स

प्रोफेशनल कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए, एंट्रेंस एग्जाम के मार्क्स सभी इंस्टिट्यूट्स द्वारा स्वीकृत आपके मुल्यांकन का प्रमुख हिस्सा होते हैं. इसलिये, आपकी सहूलियत के लिए नीचे महत्वपूर्ण एंट्रेंस एग्जाम्स की लिस्ट दी जा रही है ताकि आपको एचआरएम कोर्सेज में एडमिशन लेने में मदद मिल सके: 

डिप्लोमा लेवल

एचआरएम कोर्सेज में एडमिशन देने के लिए, हरेक राज्य अपने अलग एंट्रेंस एग्जाम कंडक्ट करता है जो उस राज्य के पॉलिटेक्निक इंस्टिट्यूट्स द्वारा आयोजित किये जाते हैं.

अंडरग्रेजुएट लेवल

अंडरग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन लेने के लिए, आप नीचे पेश की जा रही यूनिवर्सिटीज के एंट्रेंस एग्जाम्स दे सकते हैं.

• डीयू जेएटी

• आईपीएमएटी 2018

• एनपीएटी 2018

• सिम्बायोसिस एंट्रेंस टेस्ट (एसईटी)

• एआईएमए यूजीएटी 2018

• जीजीएसआईपीयू सीईटी बीबीए 2018

पोस्टग्रेजुएट लेवल

पोस्टग्रेजुएट लेवल के कोर्सेज के लिए आप निम्नलिखित एमबीए एंट्रेंस एग्जाम्स दे सकते हैं:

• सीएटी (कॉमन एडमिशन टेस्ट)

• एआईएमए-एमएटी (मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट)

• एक्सएटी (जेवियर एप्टीट्यूड टेस्ट)

• आईआईएफटी (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ फॉरेन ट्रेड)

• एसएनएपी (सिम्बायोसिस नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट)

• जीएमएसी द्वारा एनएमएटी

• सीएमएटी (कॉमन मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट)

• आईबीएसएटी (आईबीएस एप्टीट्यूड टेस्ट)

• एमआईसीएटी (एमआईसीए एडमिशन टेस्ट)

• एमएएच - एमबीए/ एमएमएस सीईटी (महाराष्ट्र एमबीए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट)

डॉक्टोरल लेवल

पीएचडी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए, आप निम्नलिखित एग्जाम्स दे सकते हैं:  

• रिसर्च मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट (आर-मैट)

• सिम्बायोसिस यूनिवर्सिटी पीएचडी एंट्रेंस एग्जाम

• यूजीसी नेट

• एक्सआईएमबी-आरएटी (रिसर्च एप्टीट्यूड टेस्ट)

• आईआईआईटी दिल्ली पीएचडी एडमिशन टेस्ट

• फैकल्टी ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज (एफएमएस), दिल्ली यूनिवर्सिटी पीएचडी एंट्रेंस टेस्ट

• अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी पीएचडी एंट्रेंस एग्जाम

• इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) एंट्रेंस एग्जाम

एचआर मैनेजमेंट के तहत सब-स्पेशलाइजेशन कोर्सेज

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट की फील्ड में कई स्पेशलाइजेशन्स हैं जो आपको इस इंडस्ट्री में अपना शानदार करियर बनाने में काफी मदद करेंगे. यद्यपि कोई स्पेशलाइजेशन कोर्स करने पर आपके पास केवल उस कोर्स से संबद्ध सीमित अवसर ही मौजूद होते हैं, लेकिन इससे आपको उन जॉब ऑफर्स को हासिल करने के मौका मिल जाता है जहां स्किल्ड प्रोफेशनल्स की कमी होती है. इसलिये, यहां कुछ ऐसे स्पेशलाइजेशन्स का विवरण पेश है जिन्हें अक्सर एचआर रिक्रूटर्स ख़ास महत्व देते हैं.

रिक्रूटिंग और स्टाफिंग

एचआर डिपार्टमेंट का सबसे महत्वपूर्ण काम रिक्रूटिंग और स्टाफिंग के काम को पूरा करने के लिए लगातार अपना समय और श्रम लगाना है. इसलिये, अगर आप इस फील्ड में स्पेशलाइजेशन कोर्स करते हैं तो आप संगठन में खाली पोजीशन्स पर कुशल एम्पलॉयीज को हायर करने के लिए जिम्मेदार एक महत्वपूर्ण अधिकारी या कर्मचारी बन जायेंगे.

कंपनसेशन और रिवॉर्ड मैनेजमेंट

सैलरी और कंपनसेशन किसी भी संगठन में एम्पलॉयीज को रोके रखने के अन्य प्रमुख पहलू हैं. एचआर डिपार्टमेंट प्रत्येक महीने सैलरी बांटने में प्रमुख रोल अदा करता है. यही विभाग समय पर एम्पलॉयीज की सैलरीज भी रिवाइज करता है. कंपनी की फाइनेंशल कंडीशन के मुताबिक एम्पलॉयीज की सैलरी निर्धारित करना भी काफी महत्वपूर्ण होता है. इसलिये, अगर आप इस क्षेत्र में स्पेशलाइजेशन करना चाहते हैं तो एम्पलॉयीज द्वारा सैलरी, पीएफ, कंपनसेशन, बोनस, इन्क्रीमेंट और अन्य संबद्ध प्रश्नों के जवाब देने के लिए हमेशा तैयार रहें.

ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट

आपके करियर के विकास का एक आवश्यक हिस्सा ट्रेनिंग है जो एम्पलॉयीज को इंडस्ट्री के लेटेस्ट विकास से अपडेटेड रखती है. यह एचआर कर्मचारी का फर्ज़ है कि अपने संगठन के कर्मचारियों को पर्याप्त सहायता देने के लिए आवश्यक ट्रेनिंग दिलवाने की व्यवस्था करे. असल में एक ट्रेनिंग प्लानर उपलब्ध करवाने के लिए मैनेजमेंट से सहयोग करना आपका केआरए बन जाएगा.

लेबर एंड एम्प्लोयी रिलेशन्स

यह स्पेशलाइजेशन सभी एचआर कर्मियों के लिए उपयुक्त है क्योंकि कुछ कानून या नियम ऐसे होते हैं जिनका पालन सभी संगठनों को अपने कर्मचारियों की भलाई के लिए अवश्य करना होता है. सरकार ने कुछ नियम बनाये हैं जो प्रत्येक संगठन के काम करने का दायरा सुनिश्चित करते हैं. इस स्पेशलाइजेशन के तहत, आप अपने अधिकारों के प्रति जागरूक हो जायेंगे और एम्पलॉयीज को एम्पलॉयर के शोषण से बचा सकेंगे.

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट कोर्सेज करने के लिए टॉप इंस्टिट्यूट्स

प्रत्येक वर्ष एनआईआरएफ उन बेस्ट इंस्टिट्यूट्स के लिए रैंकिंग्स जारी करता है जो एक्सीलेंट प्लेसमेंट पैकेज, सुपीरियर फैकल्टी, उम्दा इन्फ्रास्ट्रक्चरल सपोर्ट और सबसे बढ़िया रिसर्च के अवसर ऑफर करते हैं. जो छात्र/ कैंडिडेट्स एचआर के डोमेन में अपना करियर बनाना चाहते हैं, कुछ टॉप इंस्टिट्यूट्स की लिस्ट पेश की जा रही है जहां एडमिशन लेकर आप एचआर की फील्ड में अपना शानदार करियर बना सकते हैं:

क्रम संख्या

इंस्टिट्यूट

लोकेशन

1

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट

अहमदाबाद

2

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट

बैंगलोर

3

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट

कलकत्ता

4

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट

लखनऊ

5

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी

बॉम्बे

6

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट

कोझीकोड़

7

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी

खड़गपुर

8

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी

दिल्ली

9

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी

रुड़की

10

ज़ेवियर लेबर रिलेशन्स इंस्टिट्यूट

जमशेदपुर

सोर्स: एनआईआरएफ रैंकिंग्स

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में करियर प्रॉस्पेक्ट्स

अगर आप ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में अपना करियर बनाने पर विचार कर रहे हैं तो आपको इस बारे में दुबारा सोचने की कोई जरूरत नहीं है. यह एक सही निर्णय है क्योंकि इस फील्ड में स्पेशलाइजेशन करने पर आपको जॉब डेसिग्नेशन और सैलरी इन्क्रीमेंट के सन्दर्भ में चौंकाने वाले विकास के अवसर मिलते हैं. इन दोनों ही पहलुओं पर विचार करें और फिर इस बारे में गंभीरता से विचार करें कि ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट में आपके लिए करियर ऑप्शन बेहतरीन हैं या नहीं.

ह्यूमन रिसोर्स ग्रेजुएट्स को ऑफर किये जाने वाले लोकप्रिय जॉब टाइटल्स

जॉब टाइटल्स संगठन के पदक्रम या हायरार्की में आपका क्रम दर्शाते हैं. ये संगठन के चार्ट में आपके रोल को भी इंडीकेट करते हैं. इसलिये, किसी फ्रेशर के लिए जॉब डेसिग्नेशन का काफी महत्व होता है क्योंकि यह वह स्थान या लेवल है जिससे आगे आने वाले 5 से 10 वर्षों में वे लोग अपने करियर के विकास की जांच कर सकेंगे. एचआर मैनेजमेंट की फील्ड में कुछ लोकप्रिय जॉब टाइटल्स नीचे दिए जा रहे हैं:

1. एचआर जनरलिस्ट

2. एचआर रिक्रूटर

3. एचआर स्पेशलिस्ट

4. कंपनसेशन मैनेजर

5. एम्पलॉयी रिलेशन्स मैनेजर

6. ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट मैनेजर

7. चेंज कंसलटेंट

8. टेक्निकल रिक्रूटर

ह्यूमन रिसोर्स ग्रेजुएट्स के लिए सैलरी प्रॉस्पेक्ट्स

सैलरी एक बेसिक फैक्टर है जो किसी भी करियर ऑप्शन को शानदार या फिर, महत्वहीन बनाती है. इस फैक्ट को ध्यान में रखते हुए, अगर आप एचआर कोर्सेज करते हैं तो आपको अपनी सैलरी को जानकार काफी प्रसन्नता होगी. इस फील्ड में सैलरी प्रॉस्पेक्ट्स काफी अच्छे हैं और आपके करियर के बाद के वर्षों में आपको बहुत ही अच्छी सैलरी मिलने लगती है. नीचे दिए गए सैलरी विवरण को अच्छी तरह पढ़ें:

कार्य अनुभव के वर्ष  

सैलरी (लाख रुपये)

एंट्री लेवल

रु. 176,839 - रु. 965,999

मिड-करियर

रु. 347,645 - रु. 1,306,762

अनुभवी

रु. 456,653 - रु. 1,790,997

लेट-करियर

रु. 295,655 - रु. 2,387,960

सोर्स: पेस्केल.कॉम

ह्यूमन रिसोर्स इंडस्ट्री में टॉप रिक्रूटर्स

ह्यूमन रिसोर्स की फील्ड में ढेरों अवसर मौजूद हैं. सर्विस और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से जुड़ी सभी इंडस्ट्रीज में एचआर डिपार्टमेंट अवश्य होता है और एचआर कर्मचारियों का प्रमुख काम अपने संगठन के एम्पलॉयीज की भलाई से संबद्ध सभी कार्यों की देखरेख करना होता है. किसी एचआर ग्रेजुएट के लिए, कुछ ऐसे टॉप ब्रांड्स हैं जो एचआर रिक्रूटिंग डोमेन में विशेष स्थान रखते हैं.

यहां कुछ टॉप ब्रांड्स दिए जा रहे हैं जो एचआर रिक्रूटिंग की फ़ील्ड में प्रमुख कारोबारी हैं और आपको एचआर में अपना शानदार करियर बनाने के लिए एक शानदार लॉन्च पैड मुहैया करवा सकते हैं.

1. कैली सर्विसेज

2. एडेको इंडिया

3. रैंडस्टैंड इंडिया

4. आईकेवाईए

5. एओएन

6. एबीसी कंसल्टेंट्स

7. मैनपॉवर ग्रुप

8. टीमलीज

9. आरएच फैक्टर

10. एचआर फुटप्रिंट्स

11. एस्के मैनेजमेंट सोल्यूशन्स

12. पीपलविज़ कंसल्टिंग

13. ओबीओएक्स एचआर सोल्यूशन्स

Read more Careers on : Human Resource Management course , Human Resource Management jobs , salary after Human Resource Management , Human Resource Management colleges

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

CATEGORIESCategories