आम बजट 2015-16: मुख्य तथ्य

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 28 फरवरी 2015 को वर्ष 2015-16 का आम बजट लोकसभा में पेश किया.

Created On: Feb 28, 2015 15:02 ISTModified On: Feb 28, 2015 16:03 IST

Union Budget 2015-16केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 28 फरवरी 2015 को वर्ष 2015-16 का आम बजट लोकसभा में पेश किया. वर्तमान मोदी सरकार का यह पहला आम बजट है. वित्त मंत्री ने निम्न बातों को अपने बजट भाषण में शामिल किया:

आम बजट 2015-16: सारांश
•    सकल कर प्राप्तियां- 14.49 लाख करोड़ रुपए.
•    गैर-योजनागत व्यय 1312200 करोड़ रुपए.
•    रक्षा आवंटन 246,727 करोड़ रुपए.
•    मनरेगा के लिए 34,699 करोड़ रुपये का आरंभिक आवंटन.
•    इनकम टैक्स में कोई बदलाव नहीं किया है, मौजूदा टैक्स छूट बरकरार रहेगी.
•    जिनकी आमदनी एक करोड़ से ऊपर है, उन पर 2 प्रतिशत सेस लगाया जायेगा.
•    कॉर्पोरेट टैक्स 30 प्रतिशत से कम करके 25 प्रतिशत करने का प्रस्ताव.
•    एक लाख रुपये से ऊपर की खरीद पर पैन नंबर जरूरी.
•    सरचार्ज को 10 फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी किया गया.
•    सेवा कर 12.36 प्रतिशत से बढ़ाकर 14 प्रतिशत किया गया.
•    बुजुर्गों को मेडिकल खर्च पर 30,000 की छूट.
•    मेडिकल इंश्योरेंस पर छूट 15 हजार से बढ़ाकर 25 हजार की गई. वरिष्ठ  नागरिकों के लिए 10 हजार से बढ़ाकर 30 हजार.
•    स्वच्छ भारत कोष में दान पर 100 प्रतिशत रियायत.
•    सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी की नई दर होगी 12.5 प्रतिशत.
•    वेल्थ टैक्स खत्म करने का प्रस्ताव.
•    घरेलू विनिर्माण एवं ‘मेक इन इंडिया’ को प्रोत्साहन के जरिए नए रोजगारों के सृजन पर जोर.
•    स्वच्छ भारत कोष और स्वच्छ गंगा निधि में अंशदान पर 100 फीसदी कटौती की घोषणा.
•    केंद्र प्रायोजित 8 योजनाओं को केंद्रीय सहायता से मुक्त करने की घोषणा.
•    24 योजनाएं परिवर्तित हिस्सेदारी के साथ चलाई जाएंगी जबकि 31 योजनाओं को सरकार से पूरी सहायता मिलेगी.
•    देशभर में फैले डाक नेटवर्क का उपयोग औपचारिक वित्तीय प्रणाली तक पहुंच बढ़ाने के लिए किया जाएगा.
•    सुकन्या समृद्धि खाता योजना के तहत बालिकाओं के लिए धारा-80सी के तहत कर लाभ.
•    बुनियादी ढांचे में निवेश 70,000 करोड़ रुपये बढ़ा, पांच नई अल्ट्रा मेगा पावर परियोजनाएं स्थापित होगी.
•    कुडानकुलम नाभिकीय बिजली स्टेाशन की दूसरी इकाई वर्ष 2015-16 में शुरू होगी.
•    बजट भाषण में सरकार की प्राथमिकताओं में प्राकृतिक संसाधनों का प्रभावी और अधिकतम आवंटन और वित्तीय समावेषण पर जोर दिया गया.
•    आम लोगों के विकास के लिए नीलामी के माध्यम से कोयला और खनिज जैसे प्राकृतिक संसाधनों का प्रभावी और अधिकतम पारदर्शी आवंटन पर जोर.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

7 + 4 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now