एआईआईबी के निदेशक मंडल में भारत का चयन

चीन द्वारा प्रायोजित एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) ने 17 जनवरी 2016 को भारत के दिनेश शर्मा को 12 सदस्यीय निदेशक मंडल में शामिल कर लिया गया.

Jan 21, 2016 13:04 IST

चीन द्वारा प्रायोजित एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (एआईआईबी) ने 17 जनवरी 2016 को भारत के दिनेश शर्मा को 12 सदस्यीय निदेशक मंडल में शामिल कर लिया गया. भारत बैंक के संस्थापक सदस्यों में से एक है. इस पद के लिए गुप्त मतदान 16 जनवरी 2016 को आयोजित किया गया.

  • भारत सहित 57 राष्ट्र इसके संस्थापक सदस्य हैं, एआईआईबी निदेशक मंडल का यह पहला बोर्ड है. इस वर्ष बैंक द्वारा अन्य देशों को ऋण स्वीकृत कर देने की उम्मीद है. जिन लिक्यून को इस बैंक का प्रमुख नियुक्त किया गया.
  • औपचारिक शुभारंभ के बाद एआईआईबी के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की बैठक का उद्घाटन बीजिंग में आयोजित किया गया. बैठक में बैंक के नियम - कानून, और आचार संहिता को मंजूरी दी गयी. अरुण जेटली इस बैंक में भारत की ओर से मनोनीत गवर्नर हैं. इस बैठक में शर्मा ने उनका प्रतिनिधित्व किया. शर्मा वर्तमान में वित्त मंत्रालय के अपर सचिव के रूप में सेवारत है.
  • एआईआईबी के पास 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर की अधिकृत पूंजी और 50 अरब अमरीकी डॉलर अभिदत्त पूंजी है. यह पूंजी ऊर्जा, परिवहन, शहरी निर्माण और रसद के साथ-साथ शिक्षा और स्वास्थ्य सहित अन्य क्षेत्रों में निवेश की  जाएगी.

  • चीन एआईआईबी में 26.06 प्रतिशत शेयरों के साथ सबसे बडा शेयरधारक है. 7.5 प्रतिशत के साथ भारत दूसरा सबसे बड़ा शेयरधारक है, 5.93 प्रतिशत के साथ रूस और जर्मनी का 4.5 प्रतिशत शेयर है.
  • 16 जनवरी 2016 को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग बीजिंग ने एआईआईबी का शुभारंभ किया. एआईआईबी को अमेरिका के नेतृत्व वाली विश्व बैंक के प्रतिद्वंद्वी के रूप में देखा जा रहा है.
  • वाशिंगटन के विरोध के बावजूद अमेरिका के सहयोगी दलों ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, जर्मन, इटली, फिलीपींस और दक्षिण कोरिया ने चीन के बढ़ते आर्थिक प्रभाव के चलते एआईआईबी में शामिल होने के लिए सहमत हो गए.


एशियाई बुनियादी ढांचा निवेश बैंक के बारे में-

• अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्था एशियाई बुनियादी ढांचा निवेश बैंक एशिया-प्रशांत क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के निर्माण में सहयोग के लिए है.
• एशिया-प्रशांत क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के निर्माण में सहयोग के लिए बैंक का प्रस्ताव चीन सरकार द्वारा किया गया. दूरदर्शिता के आधार पर 37 क्षेत्रीय और 20 गैर क्षेत्रीय संस्थापक सदस्यों ने इसका समर्थन किया. सभी संस्थापक सदस्यों ने बैंक के लिए कानूनी आधार पर समझौते पर हस्ताक्षर किए.
• एआईआईबी की पूंजी 100 अरब अमरीकी डॉलर है. जो एशियाई विकास बैंक की पूंजी का दो-तिहाई और विश्व बैंक की पूंजी का आधे के बराबर है.
• बैंक की स्थापना के समय ही चीन को अध्यक्ष पद दिया जाना और बैंक का मुख्यालय चीन में होने की बात तय हुई थी.
• इसके अलावा भारत को उपाध्यक्ष पद मिलना तय हुआ था.
• बैंक ने कहा कि उपाध्यक्ष पद का चयन योग्यता के अधार पर किया जाएगा.

 

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Whatsapp IconGet Updates

Just Now