क्रिकेट विश्व कप 1983: प्रूडेंशियल कप 1983 का विजेता कप्तान कपिल देव की भारतीय टीम

करेंट अफेयर्स 2011...क्रिकेट विश्व कप (Cricket World Cup: एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की सबसे बड़ी प्रतियोगिता) का आयोजन अंतराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC: आईसीसी: International Cricket Council) के द्वारा वर्ष 1975 के बाद प्रत्येक चार वर्षों के बाद किया जाता है. टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले देश और क्रिकेट विश्व कप के लिए.....

Created On: Apr 5, 2011 20:26 ISTModified On: Apr 5, 2011 20:26 IST

क्रिकेट विश्व कप (Cricket World Cup: एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की सबसे बड़ी प्रतियोगिता) का आयोजन अंतराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC: आईसीसी: International Cricket Council) के द्वारा वर्ष 1975 के बाद प्रत्येक चार वर्षों के बाद किया जाता है. टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले देश और क्रिकेट विश्व कप के लिए क्वालीफाई करने वाली अन्य देशों की टीमों के बीच लीग चरण और फिर नॉक-आउट चरण (क्वाटर फाइनल, सेमीफाइनल और फाइनल) की प्रक्रिया के तहत क्रिकेट विश्व कप खेला जाता है. ऑस्ट्रेलिया (4 बार), भारत (2 बार), वेस्ट इंडीज (2 बार) और पाकिस्तान तथा श्रीलंका एक-एक बार क्रिकेट विश्व कप का विजेता बने हैं.


तीसरा क्रिकेट विश्व कप (प्रूडेंशियल कप: Prudential Cup): वर्ष 1983
क्रिकेट विश्‍व कप (Cricket World Cup 1983) का आयोजन एक बार फिर इंग्लैंड में ही हुआ. तीसरे क्रिकेट विश्व कप का नाम भी इस के प्रायोजक प्रूडेंशियल पब्लिक लिमिटेड कंपनी के नाम पर प्रूडेंशियल कप रखा गया था. इसी विश्व कप में पहली बार क्षेत्ररक्षण में 30 गज के घेरे का प्रयोग किया गया था. इसके तहत इस घेरे के अंदर हर समय कम से कम चार क्षेत्ररक्षक खिलाड़ी अनिवार्य रूप से होने चाहिए थे. उस समय 60 ओवर की एक पारी होती थी. खिलाड़ियों को सफेद रंग की पारंपरिक पोशाक पहन कर मैच खेलना अनिवार्य था. साथ ही मैच में लाल रंग की क्रिकेट गेंद का प्रयोग किया जाता था.


क्रिकेट विश्‍व कप 1983 (Cricket World Cup 1983) में सात टेस्ट क्रिकेट खेलने वाली टीमों (इंग्लैंड, पाकिस्तान, न्यूजीलैंड, श्रीलंका, वेस्टइंडीज, भारत और ऑस्ट्रेलिया) के अलावा जिम्‍बाब्‍वे ने आईसीसी ट्रॉफी के तहत प्रतियोगिता में क्वालीफाई किया था. चार-चार के दो ग्रुपों में टीमों को बांटा गया था. तीसरे क्रिकेट विश्‍व कप में एक ग्रुप की टीमों को आपस में पहले की तरह एक-एक नहीं बल्कि दो-दो मैच खेलने थे.


ग्रुप बी में भारत ने इस विश्व कप की शानदार शुरुआत की थी. भारत ने पहले ही मैच में गत विश्व चैम्पियन वेस्टइंडीज की टीम को 34 रनों से हराया था. भारत ने ऑस्ट्रेलिया और जिम्बाब्वे को भी मात दी थी. जिम्बाब्वे के विरुद्ध मैच में भारतीय टीम के कप्तान कपिल देव ने नाबाद 175 रन बनाए थे. लीग चरण में भारत ने छह में से चार मैच जीते और वेस्टइंडीज के साथ सेमीफाइनल में पहुंचने का गौरव हासिल किया.


पहले सेमीफाइनल में मेजबान इंग्लैंड को भारत ने छः विकेट से हराया था. क्रिकेट विश्‍व कप 1983 के फाइनल में भारत और वेस्टइंडीज का मुकाबला हुआ. वेस्टइंडीज ने भारत को सिर्फ़ 183 रनों पर ऑल-आउट कर दिया. जवाब में वेस्टइंडीज की पूरी टीम 140 रन बनाकर आउट हो गई और भारत पहली बार क्रिकेट विश्व कप का विजेता बना. भारत के हरफनमौला खिलाड़ी मोहिंदर अमरनाथ को 26 रन बनाने और तीन विकेट लेने के लिए फाइनल का मैन ऑफ द मैच चुना गया था. क्रिकेट विश्‍व कप 1983 (Cricket World Cup 1983) में मैन ऑफ द सीरीज की व्यवस्था नहीं थी.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

4 + 5 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now