यूरो क्षेत्र के देशों द्वारा साइप्रस को 10 अरब यूरो की वित्तीय सहायता देने का निर्णय.

यूरो क्षेत्र के देशों ने ऋणग्रस्त देश साइप्रस को दिवालिया होने से बचाने के लिए 10 अरब यूरो (702 अरब रुपये) का वित्तीय सहायता देने का निर्णय लिया.

Created On: Mar 17, 2013 16:34 ISTModified On: Mar 17, 2013 16:39 IST

यूरो क्षेत्र के देशों ने ऋणग्रस्त देश साइप्रस को दिवालिया होने से बचाने के लिए 10 अरब यूरो (13 अरब डॉलर, 702 अरब रुपये) की वित्तीय सहायता (राहत पैकेज) देने का निर्णय लिया. यह निर्णय ब्रसेल्स में यूरो जोन देशों के वित्तमंत्रियों की बैठक में 16 मार्च 2013 को लिया गया. निकोस एनास्टेसिएड को साइप्रस का राष्ट्रपति चुने जाने और देश में बैंकों पर मनीलांड्रिंग के आरोपों की जांच के लिए स्वतंत्र रूप से ऑडिट कराए जाने की मांग को नई सरकार द्वारा मंजूरी दिए जाने के बाद यह बैठक आयोजित की गई. वित्तीय सहायता के बदले में साइप्रस सरकार अपने बैंकिंग क्षेत्र के पुनर्गठन, कंपनी कर 2.5 प्रतिशत बढ़ाकर 12.5 प्रतिशत करने जैसे उपाय अपनाने पर सहमत हुई है.

भूमध्यसागर में स्थित साइप्रस यूरोजोन का सदस्य है. यूनान में 2010 में सरकारी ऋण संकट में दी गई मदद के बाद साइप्रस पांचवां देश है जिसे यूरोपीय संघ तथा अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से प्रोत्साहन राशि मिलेगी. इससे पहले यूरोपीय संघ और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) द्वारा ग्रीस सहित चार देशों को राहत पैकेज दिया गया था. पहला राहत पैकेज यूनान को मई 2010 में दिया गया था.

साइप्रस ने जून 2012 में देश के बैंकिंग तंत्र को संकट से बचाने के लिए वित्तीय सहायता की मांग की थी. ग्रीस सरकार के कर्ज और नुकसान उठा रहे बैंकों और कारोबार में साइप्रस की बड़ी हिस्सेदारी है. फरवरी 2013 में साइप्रस में राष्ट्रपति चुनाव और मनीलांड्रिंग के आरोपों के चलते वित्तीय सहायता की मांग पर फैसला टाल दिया गया था. रूस के अमीरों की रकम साइप्रस के बैंकों में जमा कराए जाने के आरोप लगे थे.

यूरो क्षेत्र के अध्यक्ष जेरोन डिजेसलब्लोम के अनुसार राजकोषीय संतुलन, संरचनात्मक सुधार और निजीकरण के विभिन्न उपायों पर बनी सहमति के आधार पर इस पैकेज को मंजूरी दी गई है. साइप्रस एकदम अलग तरह की समस्या से जूझ रहा है इसे संकट से निपटने के लिए कुछ खास उपायों की जरूरत है. साइप्रस का कर्ज वर्ष 2020 तक सकल घरेलू उत्पाद का करीब 100 प्रतिशत होने के का अनुमान है.

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Related Stories

Post Comment

5 + 5 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now