Search

वित्तवर्ष 2011-12 में बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर बढ़कर 7.8 प्रतिशत हुई

Economy Current Affairs 2011. आठ आधारभूत उद्योगों की वृद्धि दर जुलाई 2011 में बढ़कर 7.8 प्रतिशत हो गई है, जो जुलाई 2010 में यह 5.7 प्रतिशत थी. बिजली, सीमेंट और इस्पात क्षेत्रों का उत्पादन बढ़ने से बुनियादी उद्योगों...

Aug 31, 2011 16:43 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

आठ आधारभूत उद्योगों की वृद्धि दर जुलाई 2011 में बढ़कर 7.8 प्रतिशत हो गई है, जो जुलाई 2010 में यह 5.7 प्रतिशत थी. बिजली, सीमेंट और इस्पात क्षेत्रों का उत्पादन बढ़ने से बुनियादी उद्योगों की गति बढ़ी है. जून 2011 में बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर 5.2 प्रतिशत थी. यह आंकड़े उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय द्वारा 30 अगस्त 2011 को जारी किया गया.
 
कुल औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में आधारभूत उद्योगों की हिस्सेदारी 37.90 प्रतिशत है. जुलाई 2011 में सबसे अधिक तेजी इस्पात के उत्पादन में आई. इस कारण से इस क्षेत्र की वृद्धि दर 15.5 प्रतिशत रही. जबकि बिजली और सीमेंट क्षेत्र का उत्पादन क्रमश: 13 प्रतिशत और 10.6 प्रतिशत बढ़ा. जुलाई 2010 में बिजली उत्पादन की वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही थी, जबकि इस्पात और सीमेंट क्षेत्रों का उत्पादन क्रमश: 2.9 प्रतिशत और 0.2 प्रतिशत घटा था.

 जुलाई 2011 में कच्चे तेल का उत्पादन 1.4 प्रतिशत बढ़ा, जबकि जुलाई 2010 में इसकी  यह वृद्धि दर 15.8 प्रतिशत रही. जुलाई 2011  के दौरान रिफाइनरी उत्पादन में 3.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई. जो जुलाई 2010 में 13.7 प्रतिशत रही थी. हालांकि जुलाई 2011 में प्राकृतिक गैस के उत्पादन में 8.2 प्रतिशत की और उर्वरक उत्पादन में 1.6 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई.

वित्तवर्ष 2011-12 की अप्रैल से जुलाई की अवधि में बुनियादी उद्योगों की रफ्तार घटकर 5.8 प्रतिशत रह गई, वित्तवर्ष 2010-11 की इसी अवधि में इन उद्योगों की वृद्धि दर 6.5 प्रतिशत थी.

विदित हो कि आठ आधारभूत उद्योगों में कच्चा तेल, पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पाद, प्राकृतिक गैस, उर्वरक, कोयला, बिजली, सीमेंट और तैयार इस्पात आते हैं.

Download our Current Affairs & GK app For exam preparation

डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप एग्जाम की तैयारी के लिए

AndroidIOS

Also Read +