वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार 2012 हेतु प्रो. निबिर मंडल का चयन

वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार-2012  हेतु प्रो. निबिर मंडल का चयन. वर्ष 2011 का यह पुरस्कार वैज्ञानिक प्रो. तापस कुमार कुंडू को दिया गया

Created On: Mar 23, 2013 16:20 ISTModified On: Mar 23, 2013 16:30 IST

वर्ष 2012 के वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार के लिए प्रो. निबिर मंडल का  चयन 22 मार्च 2013 को किया गया. क्रम में यह 22वां है. वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार के अंतर्गत विजेता को डेढ़ लाख रुपए नकद व प्रशस्तिपत्र प्रदान किया जाता है. केके बिरला फाउंडेशन की ओर से प्रतिवर्ष दिया जाने वाला यह पुरस्कार 50 वर्ष से कम आयु के भारतीय वैज्ञानिकों को उल्लेखनीय कार्यो को मान्यता देने के उद्देश्य से दिया जाता है.

प्रो. निबिर मंडल जाधवपुर विश्वविद्यालय के भूगर्भ विज्ञान विभाग में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं.  प्रो. निबिर मंडल को यह सम्मान संरचनात्मक भूविज्ञान एवं विवर्तनिकी के क्षेत्र में उनके महत्त्वपूर्ण योगदान के लिए प्रदान किया जाना है. प्रो. निबिर मंडल एक भू-वैज्ञानिक हैं.

वर्ष 2011 यह सम्मान बेंगलुरू के वैज्ञानिक प्रो. तापस कुमार कुंडू को बायोकेमिस्ट्री के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए प्रदान किया गया था. प्रथम वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार प्रो. आशीस दत्त को वर्ष 1991 में दिया गया था. यह पुरस्कार आरए माशेलकर, अशोक सेन और गोवर्धन मेहता को दिया जा चुका है.

विदित हो कि वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार (GD Birla Award for Scientific Research) की स्थापना वर्ष 1991 में केके बिरला फाउंडेशन द्वारा की गई थी.

 

वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए घनश्यामदास बिड़ला पुरस्कार 2010:

Take Weekly Tests on app for exam prep and compete with others. Download Current Affairs and GK app

एग्जाम की तैयारी के लिए ऐप पर वीकली टेस्ट लें और दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा करें। डाउनलोड करें करेंट अफेयर्स ऐप

AndroidIOS
Comment ()

Post Comment

2 + 0 =
Post

Comments

    Whatsapp IconGet Updates

    Just Now