Search
LibraryLibrary

ई-गवर्नेंस पर 21वां राष्ट्रीय सम्मेलन हैदराबाद में आरंभ हुआ

Feb 27, 2018 12:39 IST

    ई-गवर्नेंस पर 21वां राष्ट्रीय सम्मेलन 26 फरवरी 2018 को हैदराबाद में आरंभ हो गया. इस सम्मेलन का आयोजन भारत सरकार का प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत विभाग (डीएआरपीजी), इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय एवं तेलंगाना सरकार के साथ मिल कर कर रहा है.

    इस सम्मेलन का आयोजन 26 फरवरी  से 27 फरवरी 2018 तक किया जायेगा.

    केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री वाई.एस.चौधरी सम्मेलन के उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता किये और तेलंगाना सरकार के आईटी, नगरपालिका प्रशासन एवं शहरी विकास, उद्योग एवं वाणिज्य, लोक उपक्रम, चीनी, खनन एवं भूगर्भ, एनआरआई मंत्री काल्वकुंतल तरक रामा राव उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि रहे.


    CA eBook


    इस वर्ष के सम्मेलन की थीम है, त्वरित विकास के लिए प्रौद्योगिकी. पहले दिन उद्घाटन सत्र के बाद उपयोगकर्ता अनुभव का निर्माण, सार्वभौमीकरण एवं प्रतिकृति, ई-गवर्नेंस का प्रशासन विषयों के आधार पर 3 पूर्ण सत्रों का आयोजन किया गया जबकि दूसरे दिन ई-गवर्नेंस अच्छे एवं बुरे प्रचलन, उभरती प्रौद्योगिकियों के आधार पर 2 पूर्ण सत्रों का आयोजन किया जाएगा.

    वीडियो: इस सप्ताह के करेंट अफेयर्स घटनाक्रम जानने के लिए देखें

    पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, जोक शिकायत एवं पेंशन, परमाणु ऊर्जा विभाग एवं अंतरिक्ष विभाग राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह 27 फरवरी 2018 को ई-गवर्नेंस के विभिन्न पहलुओं से संबंधित आठ वर्गों में राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस पुरस्कार प्रदान किये.

    पृष्ठभूमि:

    यह सम्मेलन एक ऐसे मंच का कार्य करता है जिसमें प्रशासनिक सुधारों के सचिव, राज्य सरकारों के सूचना प्रौद्योगिकी के सचिव, केंद्र सरकार के आईटी प्रबंधक, सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन प्रदाता, उद्योग आदि भाग लेते हैं, आपस में बातचीत करते हैं, विचारों का आदान प्रदान करते हैं, संबंधित मुद्वों, समस्याओं पर चर्चा करते हैं और विभिन्न सॉल्यूशन संरचनाओं का विश्लेषण करते हैं.

    यह भी पढ़ें: केन्द्र सरकार ने औषधीय और सुगंधित पौधों पर अंतर-मंत्रालयी समिति का गठन किया


    Is this article important for exams ? Yes3 People Agreed

    DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.