अमेरिका के सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर ‘ऑरोरा’ की घोषणा

हाल ही में अमेरिका द्वारा अब तक के इतिहास में सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर को बनाने का निर्णय लिया गया है. इस सुपर कंप्यूटर को ऑरोरा (Aurora) नाम दिया गया है. इस सुपरकंप्यूटर को बनाने के लिए इंटेल, यूएस डिपार्टमेंट ऑफ़ एनर्जी तथा क्रे (CRAY) द्वारा समझौता किया गया है.

सभी संस्थाएं मिलकर वर्ष 2021 तक ऑरोरा को डिलीवर करने का प्रयास करेंगी. ऑरोरा सुपर कंप्यूटर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तथा साधारण एचपीसी वर्कलोड को हैंडल करने में सक्षम होगा.

ऑरोरा की प्रमुख विशेषताएं

•    ऑरोरा सुपर कंप्यूटर को शिकागो के बाहर लेमोंट, इलिनॉय (Lemont, Illinois) स्थित आरगॉन नेशनल लेबोरेटरी में स्थापित किया जायेगा.

•    यह विश्व का पहला सुपर कंप्यूटर होगा जो एक्ज़ास्केल अर्थात् प्रति सेकंड एक बिलियन बिलियन गणनाएँ करने में सक्षम होगा.

•    ऑरोरा की गति अब तक बनाए गए सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर से सात गुनी, जबकि 2008 में बनाए गए पेटास्केल से 1,000 गुना अधिक होगी.

•    इस सुपर कंप्यूटर को शोधकर्त्ताओं को दवा, जलवायु परिवर्तन, दहन इंजनों की आंतरिक कार्यप्रणाली और सौर पैनल जैसे विषयों के बारे में अधिक सटीक समझ विकसित करने में सक्षम बनाने के उद्देश्य से किया गया है.

•    इस सुपर कंप्यूटर को संयुक्त राज्य अमेरिका की ओक रिज नेशनल लेबोरेटरी हेतु बनाया गया है.

•    आईबीएम का OLCF-4 विश्व का सबसे तेज़ सुपरकंप्यूटर है. इसकी गति 143.5 पेटाफ्लॉप्स है.

 

भारत में सुपरकंप्यूटर

भारत के पहले सुपरकंप्यूटर PARAM 8000 को 1991 में लॉन्च किया गया था. इसके बाद भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान में सबसे तेज़ सुपरकंप्यूटर लगाया गया है जिसे प्रत्यूष कहा जाता है. इसकी गति 4.0 पेटाफ्लॉप्स है. नेशनल सेंटर फॉर मीडियम-रेंज वेदर फोरकास्टिंग में मिहिर नामक सुपरकंप्यूटर लगाया गया है, जिसकी गति 2.8 पेटाफ्लॉप्स है.

 



सुपर कंप्यूटर की गति के मानक

सुपर कंप्यूटर जिस मानक के हिसाब से गणनाएं करते हैं उन्हें टेराफ्लॉप्स, पेटाफ्लॉप्स और एक्ज़ाफ्लॉप्स के नाम से जाना जाता है. टेराफ्लॉप्स कंप्यूटिंग स्पीड की इकाई है जिसमें एक मिलियन (10 ^ 12) फ्लोटिंग-पॉइंट ऑपरेशंस प्रति सेकंड (FLOPS) होते हैं. इसके बाद पेटाफ्लॉप्स आता है. यह कंप्यूटिंग स्पीड की इकाई है जिसमें एक हज़ार मिलियन (10 ^ 15) फ्लोटिंग-पॉइंट ऑपरेशंस प्रति सेकंड होते हैं. तीसरे स्थान पर एक्ज़ाफ्लॉप्स होता है जिसमें एक बिलियन (10 ^ 18) फ्लोटिंग-पॉइंट ऑपरेशंस प्रति सेकंड होते हैं.

 

यह भी पढ़ें: वाइस एडमिरल करमबीर सिंह नौसेना अध्यक्ष नियुक्त

Related Categories

Popular

View More