प्रधानमंत्री जन धन योजना: छह सालों में 40 करोड़ के पार हुई खातों की संख्या

प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएमजेडीवाई) के तहत अब तक 40 करोड़ से अधिक बैंक खाते खुल चुके है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छह साल पहले इस योजना की शुरुआत की थी. यह वित्तीय समावेशन से जुड़ी केंद्र सरकार की प्रमुख योजना है. केंद्र सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार अब तक लगभग 40.05 करोड़ लोगों के जनधन बैंक खाते खोले जा चुके है.

हालिया आंकड़ों के अनुसार, इन बैंक खातों में 1.30 लाख करोड़ रुपये से अधिक की राशि जमा है. जनधन खातों में यह सफलता योजना की छठी वर्षगांठ से कुछ दिन पहले ही हासिल हुई है. इस योजना का मकसद देश के तमाम लोगों को बैंकिंग सुविधाओं से जोड़ना है.

डीएफएस ने एक ट्वीट किया

वित्त मंत्रालय के तहत आने वाले वित्तीय सेवाओं के विभाग (डीएफएस) ने एक ट्वीट में कहा है कि दुनिया के सबसे बड़ी वित्तीय समावेशी कार्यक्रम, पीएमजेडीवाई के तहत एक और अहम पड़ाव हासिल कर लिया गया है. इस योजना के तहत खोले गए कुल खातों की संख्या 40 करोड़ के पार निकल गई है.

Another milestone achieved under world's largest financial inclusion initiative, PMJDY: Total accounts opened under the scheme crosses 40 Cr. mark.

Committed to take financial inclusion to the last mile!@PMOIndia @FinMinIndia @PIB_India

— DFS (@DFS_India) August 3, 2020

प्रधानमंत्री जन धन योजना

प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई) राष्ट्रीय वित्तीय समावेशन मिशन है. यह योजना का शुभारंभ 28 अगस्त 2014 को किया गया था. योजना का उदेश्य देश के तमाम लोगों को बैंकिंग सुविधाओं से जोड़ना है.

पीएमजेडीवाई के तहत खोले जाने वाले जनधन खाते बुनियादी बचत बैंक खाते हैं. इनके साथ रुपे कार्ड और खाताधारक को ओवरड्राफ्ट देने की अतिरिक्त सुविधा दी जाती है. इस खाते में खाताधारक को खाते में हर समय न्यूनतम राशि बनाये रखने की आवश्यकता नहीं होती है.

दुर्घटना बीमा राशि को बढ़ाया गया

सरकार ने योजना की सफलता के लिये 28 अगस्त 2018 के बाद खोले जाने वाले ऐसे जनधन खातों के साथ दुर्घटना बीमा राशि को बढ़ाकर दो लाख रुपये कर दिया जो कि पहले एक लाख रुपये रखी गई थी. इसके साथ ही खाते में ओवरड्राफ्ट सुविधा की सीमा को भी बढ़ाकर 10,000 रुपये कर दिया गया है.

जनधान खाताधारकों में 50 प्रतिशत से अधिक महिलायें

जनधान खाताधारकों में 50 प्रतिशत से अधिक महिलायें हैं और सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत कोविड-19 संकट में गरीबों को मदद देने के वास्ते तीन समान मासिक किस्तों में 1,500 रुपये उनके खाते में डाले हैं. केंद्र सरकार ने 26 मार्च 2020 को जनधन खाताधारकों के खाते में अप्रैल से तीन महीने तक हर महीने 500 रुपये की सहायता राशि पहुंचाने की घोषणा की.

जनधन खाते से फायदे

जनधन बैंक खातों के जरिये लोगों को मिलने वाले सरकारी लाभों को भी सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में डालने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है. यह केंद्र सरकार की प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) योजना को आगे बढ़ाने का बेहतर जरिया साबित हुआ है.

पीएमजेडीवाई योजना का उद्देश्य सभी की बैंकिंग तंत्र तक पहुंच सुनिश्चित करने के साथ ही समाज के कमजोर और निम्न आयवर्ग के हर वयस्क व्यक्ति का एक बुनियादी बचत बैंक खाता, जरूरत के मुताबिक कर्ज लेने की सुविधा तथा बीमा और पेंशन की सुविधा मुहैया कराना है.

Related Categories

Also Read +
x