Advertisement

मंत्रिमंडल ने सात नये आईआईएम स्थापित करने हेतु मंजूरी प्रदान की

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने अमृतसर, बोध गया, नागपुर, सम्बलपुर, सिरमौर, विशाखापट्टनम और जम्मू स्थित सात नए आईआईएम के स्थायी परिसरों की स्थापना और उनके संचालन को मंजूरी प्रदान की.

इसके साथ ही इन आईआईएम संस्थानों के लिए कुल 3775.42 करोड़ रूपये के पुनरावर्ती खर्च (2999.96 करोड़ रूपये गैर-पुनरावर्ती और 775.46 करोड़ रूपये पुनरावर्ती खर्च) को भी मंजूरी प्रदान की गई है. इन आईआईएम संस्थानों की स्थापना वर्ष 2015-16/2016-17 में की गई थी. वर्तमान में ये संस्थान अस्थायी परिसरों से काम कर रहे हैं.

इन संस्थानों की स्थापना में कुल 3775.42 करोड़ रूपये खर्च होने का अनुमान लगाया गया है, जिनमें से 2804.09 करोड़ रूपये इन संस्थानों के स्थायी परिसरों के निर्माण पर खर्च किए जाएंगे जिनका विवरण इस प्रकार हैं:

आईआईएम का नाम

राशि (करोड़ रुपये में)

आईआईएम अमृतसर

348.31

आईआईएम बोध गया

411.72

आईआईएम नागपुर

379.68

आईआईएम सम्‍बलपुर

401.94

आईआईएम सिरमौर

392.51

आईआईएम विशाखापट्टनम

445.00

आईआईएम जम्‍मू

424.93

कुल

2804.09


नये आईआईएम संस्थानों की विशेषताएं

•    इनमें से प्रत्येक आईआईएम 60384 वर्ग मीटर के क्षेत्र पर निर्माण करेगा.

•    प्रत्येक आईआईएम में 600 छात्रों के लिए संपूर्ण बुनियादी ढांचा सुविधाएं उपलब्ध होंगी.

•    इन संस्थानों को 5 वर्षों के लिए प्रतिवर्ष प्रति छात्र 5 लाख रूपये की मंजूरी दी गई है.

•    इस अवधि के बाद संस्थान अपना संचालन खर्च/रखरखाव खर्च आंतरिक तौर पर धनराशि के सृजन से कर लेंगे.

•    इन संस्थानों के स्थायी परिसरों का निर्माण जून 2021 तक पूरा हो जाएगा. इसके साथ ही सभी 20 आईआईएम के पास अपने स्थायी परिसर हो जाएंगे.

 

यह भी पढ़ें: सुरेश प्रभु ने ‘कॉफ़ी कनेक्ट’ मोबाइल एप्प लॉन्च किया

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement