Advertisement

केंद्र सरकार ने छह संकटग्रस्त सार्वजनिक बैंकों में धन का निवेश किया

केंद्र सरकार ने संकटग्रस्‍त बैंको को बचाने हेतु कई कमजोर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में 7,577 करोड़ रुपए का निवेश किया है. यह पूंजी निवेश उचित समय पर किया गया है और यह इन बैंकों को पूंजी पर्याप्‍ता को बढ़ाने में मदद करेगा ताकि वे दिसंबर तिमाही के लिए अपनी बुक को स्‍वस्‍थ्‍य हालत में प्रस्तुत कर सकें.

यह भी पढ़ें: मेघालय में अंधी मछली की नई प्रजाति मिली

केंद्र सरकार ने 2,257 करोड़ रुपए का निवेश बैंक ऑफ इंडिया में किया है. हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक ने इस बैंक को तत्‍काल सुधारात्‍मक कार्रवाई (पीसीए) के तहत निगरानी में रखा है. इस नए पूंजी निवेश में दूसरा सबसे ज्‍यादा फायदा आईडीबीआई बैंक को हुआ है. केंद्र सरकार ने इसमें 2,729 करोड़ रुपए का निवेश किया है.

केंद्र सरकार से सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को 323 करोड़ रुपए की मदद मिली है. केंद्र सरकार से देना बैंक को 243 करोड़ रुपए प्राप्‍त हुए हैं. केंद्र सरकार ने यूको बैंक को 1375 करोड़ रुपए की मदद दी है. सरकार से बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र को 650 करोड़ रुपए की पूंजी प्राप्‍त हुई है. यह पूंजी मदद इन कमजोर बैंकों को तत्‍काल समस्‍या से निपटने में मदद करेगी.

पृष्ठभूमि:

केंद्र सरकार ने 24 अक्टूबर 2017 को एनपीए की मार झेल रहे सार्वजनिक बैंकों को मजूबत करने हेतु 2.11 लाख करोड़ रुपए की पूंजी बैंकों को देने की घोषणा की थी. यह पूंजी दो सालों में दी जाएगी.

Advertisement

Related Categories

Advertisement