Advertisement

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स: 11 अप्रैल 2018

टॉप हिन्दी करेंट अफ़ेयर्स, 11 अप्रैल 2018 के अंतर्गत आज के शीर्ष करेंट अफ़ेयर्स को शामिल किया गया है जिसमें मुख्य रूप से बान की-मून और वर्ल्ड एक्सपो-2020 शामिल है.

बान की-मून को बाओ फोरम का अध्यक्ष चुना गया

संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव बान की-मून को 09 अप्रैल 2018 को बाओ फोरम फॉर एशिया का अध्यक्ष चुना गया. बान की-मून जापान के यासुओ फुकुदा का स्थान लेंगे. पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के पूर्व गर्वनर झाउ शिओचुअन को उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है. दोनों नियुक्तियां बाओ फोरम की ओर से आयोजित सम्मेलन के दूसरे सत्र के दौरान हुई हैं. यह फोरम वर्तमान में चीन के हैनान प्रांत में चल रहा है.

 

यूआईडीएआई ने ई-आधार के लिए एक नया क्यूआर कोड शुरू किया

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने ई-आधार के लिए एक नया क्यूआर कोड शुरू किया है. इस क्यूआर कोड में अब आधार धारक की जानकारी के साथ साथ-साथ फोटो भी होगी. ऑफलाइन सत्यापन की इस सुविधा से एक और विकल्प उपलब्ध होगा और यह सुनिश्चित होगा कि धारक को आधार से जुड़ी किसी सेवा से वंचित नहीं किया जाए.

 

 

भारत ने वर्ल्ड एक्सपो-2020 दुबई के साथ अनुबंध हस्ताक्षर किया

भारत और दुबई वर्ल्ड एक्सपो 2020 ने 10 अप्रैल 2018 को भारत के पेविलियन के संदर्भ में एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किये. वर्ल्ड एक्सपो 2020 का आयोजन दुबई में होगा. यह अनुबंध मनोज के द्विवेदी (वाणिज्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव) तथा नजीब मुहम्मद अल अली (एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, दुबई एक्सपो 2020 ब्यूरो) के मध्य किये गये.

 

प्रोजेक्ट धूप: बच्चों में Vitamin-D की कमी पूरी करने हेतु FSSAI की पहल

भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) ने एनसीईआरटी, एनडीएमसी, उत्तरी एमसीडी और क्वालिटी लि. के साथ मिलकर स्कूलों में ‘प्रोजेक्ट धूप’ की शुरुआत की है. इसके तहत स्कूलों में सुबह की असेम्बली को 11:00 बजे से 1:00 बजे करने का आग्रह करते हुए 'प्रोजेक्ट धूप' की शुरुआत की गई है. एफएसएसएआई द्वारा कराये गये अध्ययन में पता चला है कि भारत के 90 प्रतिशत स्कूली बच्चों में विटामिन डी की कमी है तथा उनकी हड्डियाँ सामान्य की अपेक्षा कमजोर हैं.

 

नोबेल पुरस्कार विजेता जर्मन भौतिकविद पीटर ग्रुएनबर्ग का निधन

नोबेल पुरस्कार विजेता जर्मन भौतिकविद पीटर ग्रुएनबर्ग का अप्रैल 2018 में निधन हो गया. वे 78 वर्ष के थे. पीटर ग्रुएनबर्ग ने डिजिटल डेटा स्टोरेज के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाने का काम किया था. पीटर ग्रुएनबर्ग और अल्टबर्ट फेर्ट की खोज के कारण ही गीगा बाइट हार्ड डिस्क का निर्माण संभव हो सका है. इस खोज के बाद स्टोरेज की क्षमता अचानक से बढ़ गई थी. इसी के साथ जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए डिवाइस का साइज भी छोटा हो गया.

 

Advertisement

Related Categories

Advertisement