Next

तमिलनाडु और पुडुचेरी में चक्रवात निवार का खतरा मंडराया, आज शाम बरपेगा इस तूफान का कहर

आज 25 नवंबर, 2020 को तमिलनाडु और पुडुचेरी में चक्रवात निवार आने की उम्मीद है. अभी, यह चक्रवाती तूफान चेन्नई के तट से लगभग 450 किलोमीटर की दूरी के आस-पास स्थित है.

तमिलनाडु और पुडुचेरी की सरकारों ने निवार चक्रवात के मद्देनजर कई किस्म के प्रतिबंधों की घोषणा की है. तमिलनाडु राज्य और केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी के कई हिस्सों में भारी बारिश की उम्मीद है. राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया (NDRF) बल ने भी सावधानी बरतने के बारे में जरुरी निर्देश जारी किये हैं, जबकि इसके कई कर्मी तटीय क्षेत्रों में सावधानीपूर्वक निगरानी कर रहे हैं.

NDRF के DG ने बताया कि, NDRF की 12 टीमों को तमिलनाडु में, 2 टीमों को पुडुचेरी में और 1 टीम को कराईकल में तैनात किया गया है. इसके अलावा, 3 टीमें नेल्लोर में, 3 विजाग में और 1 टीम चित्तूर में तैनात की गई है. कुल मिलाकर, NDRF की 22 टीमें जमीन पर उपलब्ध हैं और अन्य आठ टीमें स्टैंडबाय मॉड (बिलकुल तैयार) पर हैं. दोनों राज्यों के संवेदनशील क्षेत्रों में सहायता प्रदान करने के लिए कुल 30 टीमें प्रतिबद्ध हैं.

लैंडफॉल पॉइंट

आज अर्थात 25 नवंबर को चक्रवाती तूफान निवार महाबलीपुरम और कराईकल के बीच भारी तबाही मचा सकता है.

चक्रवात निवार के लिए तमिलनाडु राज्य ने क्या बचाव व्यवस्था की है?

चक्रवात निवार के लिए पुडुचेरी में बचाव के क्या प्रबंध किये गये हैं?

भारत के अन्य राज्यों में, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने 24 नवंबर को चक्रवात निवार से बचाव के लिए चित्तूर, कडप्पा, कुरनूल, अनंतपुरमू, नेल्लोर और प्रकाशम जिलों के कलेक्टरों के साथ एक आभासी बैठक की.

पृष्ठभूमि

बंगाल की खाड़ी में एक गहरे निम्न दबाव ने बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिम में एक चक्रवाती तूफान, निवार को तेज कर दिया है. इसी चक्रवात के लिए भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) द्वारा अलर्ट जारी किया गया था. इसी तरह का एक गहरा निम्न दबाव अदन और सोमालिया की खाड़ी पर एक दबाव के तौर पर कमजोर हो गया है.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now