Advertisement

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक अकाउंट और डाक घर बचत खाते में अंतर: फैक्ट बॉक्स

भारत में 01 अप्रैल 2018 से पोस्ट ऑफिस पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) ने अपनी सेवाएं आरंभ की हैं. इसे इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के नाम से जाना जाता है तथा यह देश का सबसे बड़ा भुगतान बैंक नेटवर्क बन गया है.

इसके लाभार्थियों में बहुत से वे लोग शामिल हैं जो कि भारत के ग्रामीण इलाकों में रहते हैं, जिनकी आमदनी बहुत कम है और असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं. आरंभ में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की 650 शाखाएं और 3250 केंद्र बनाए जाएंगे. सभी 1.55 लाख डाक घरों को इससे 31 दिसंबर, 2018 तक जोड़ दिया जाएगा. इस कदम से देश के सुदूर इलाकों को भी बैंकिंग सेवा से जोड़ा जा सकेगा.

डाकघरों में पहले से ही लोगों को बचत खाता खोलने की सुविधा है. दोनों में ही 4% की दर से तिमाही ब्याज देने का प्रावधान है. इंडिया पोस्ट पमेंट बैंक का बचत खाता किस प्रकार भिन्न है, इसके बारे में कुछ तथ्यों द्वारा जाना जा सकता है.

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) बचत खाता


•    इसे भारत का कोई भी नागरिक खुलवा सकता है.

•    इसमें बचत खाता अर्थात सेविंग्स अकाउंट जीरो बैलेंस के साथ खोला जा सकता है.

•    इसके साथ कई अन्य सुविधाएं भी दी जायेंगी और उपभोक्ता को किसी प्रकार का अतिरिक्त शुल्क नहीं देना होगा.

•    खाताधारकों को बचत खातों में न्यूनतम राशि बनाए रखने की आवश्यकता नहीं है.

•    आईपीपीबी में तीन प्रकार के बचत खाते हैं, नियमित, डिजिटल और बेसिक.

•    बचत खाते में एक लाख रुपये तक की रकम जमा कराई जा सकती है लेकिन यदि राशि एक लाख से अधिक हो जाती है तो वह स्वतः ही डाकघर के बचत खाते में चली जायेगी.

•    इसमें बैंकिंग सेवाएं घर तक दी जायेंगी तथा इसके लिए अतिरिक्त भुगतान करना होगा.

सामान्य डाक घर बचत खाता (POSA)


•    भारत का कोई भी नागरिक यह बचत खाता खुलवा सकता है.

•    डाकघर में साधारण बचत खाता खोलने के लिए न्यूनतम 20 रुपये की आवश्यकता होती है जबकि चेक सुविधा के साथ खाता खोलने के लिए न्यूनतम 500 रुपये की जरूरत होती है.

•    खाताधारकों को 50 रुपये प्रति माह (चेक सुविधा के बिना) और 500 रुपये (चेक सुविधा के साथ) की न्यूनतम राशि बनाए रखनी होगी.

•    खाते में राशि जमा करने की कोई सीमा नहीं है. अर्थात् कोई भी व्यक्ति कितनी भी धनराशि जमा कर सकता है.

•    सामान्य डाक घर बचत खाते में घर तक बैंक सेवा का प्रावधान नहीं है.

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक खाते में विशेष

आईपीपीबी खाता खोलते समय ग्राहकों को एक क्यूआर कोड दिया जाएगा, जिससे ग्राहकों को खाता संख्या याद रखने की जरूरत नहीं होगी. क्यूआर कोड की मदद से ग्राहक कई दूसरे तरह के वित्तीय लेनदेन भी कर सकेंगे. इस सुविधा की मदद से आइपीपीबी ग्राहकों को लुभा सकता है. इन सुविधाओं को ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए डाकियों को जरूरी उपकरण और स्मार्टफोन दिए जाएंगे.

 

यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार द्वारा जन-धन योजना जारी रखने की घोषणा

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement