JagranJosh Education Awards 2022 - Nominations Open!
Next

DRDO ने पिनाक रॉकेट के अपग्रेड रेंज का सफल परीक्षण किया

Vikash Tiwari

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने हाल ही में ओडिशा तट के पास चांदीपुर में एकीकृत परीक्षण केंद्र (आईटीआर) से स्वदेशी पिनाक रॉकेट के उन्नत संस्करण का परीक्षण किया. डीआरडीओ ने स्वदेश में विकसित पिनाक रॉकेट की रेंज बढ़ा दी है. डीआरडीओ ने ट्वीट कर ये जानकारी दी.

डीआरडीओ के अनुसार, परीक्षण के दौरान लगातार 25 रॉकेट छोड़े गए और लक्ष्य पूरा करने में सफलता हासिल हुई है. स्वदेशी तकनीक से निर्मित पिनाका गाइडेड रॉकेट लांच सिस्टम का अपग्रेड संस्करण है, जो मौजूदा पिनाका एमके-I रॉकेट की जगह लेगा जिनका मौजूदा समय में उत्पादन किया जा रहा है. इस सिस्टम की मदद से 45 किलोमीटर तक की दूरी पर लक्ष्य को नष्ट किया जा सकता है.

#WATCH | DRDO successfully test fired the extended-range version of indigenously developed Pinaka rocket from a Multi-Barrel Rocket Launcher (MBRL) on 24th and 25th June 2021 at Integrated Test Range (ITR), Chandipur off the coast of Odisha. pic.twitter.com/6Qb0XN3VZD

— ANI (@ANI) June 25, 2021

रक्षा मंत्री ने दी बधाई

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पिनाका रॉकेट के सफल परीक्षण पर डीआरडीओ को बधाई दी है. वहीं रक्षा अनुसंधान और विकास विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष जी सतीश रेड्डी ने परीक्षणों की सफलता पर सभी के प्रयासों को सराहा है.

रॉकेट को किसकी मदद से लॉन्च किया गया

122 मिमी कैलिबर के पिनाका रॉकेट को मल्टी बैरल रॉकेट लॉन्चर (MBRL) की मदद से लॉन्च किया गया था. लक्ष्य से टकराने वाले रॉकेटों की सटीकता की जांच करने के लिए, सभी उड़ान को विभिन्न रेंज उपकरणों द्वारा ट्रैक किया गया.

इस रॉकेट को किसने बनाया

इस रॉकेट सिस्टम को पुणे स्थित आयुध अनुसंधान एवं विकास स्थापना (ARDE) और उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL) दोनों ने मिलकर बनाया है. इसमें निर्माण से जुड़ी मदद इकॉनोमिक एक्सप्लोसिव लिमिटेड, नागपुर के द्वारा की गई थी.

उद्देश्य

इसके एडवांस वर्जन बनाने का उद्देश्य इसका प्रयोग लंबी दूरी तक के टारगेट तक के लिए करना है. पिनाका रॉकेट के इस एनहांस वर्जन की खास बात यह है कि 45 किलोमीटर दूर के टारगेट को भी आसानी से भेद सकता है.

इससे पहले पिनाका रॉकेट की रेंज

बता दें, इससे पहले इस रॉकेट की रेंज 37 किलोमीटर थे. पिनाका रॉकेट के ऊपर हाई एक्सप्लोसिव फ्रेगमेंटेशन (HMX), क्लस्टर बम, एंटी-पर्सनल, एंटी-टैंक और बारूदी सुरंग उड़ाने वाले हथियार लगाए जा सकते हैं. यह रॉकेट 100 किलोग्राम तक के वजन के हथियार उठाने में सक्षम हैं.

पिनाका रॉकेट की स्पीड

पिनाका रॉकेट की स्पीड 5757.70 किलोमीटर प्रति घंटा है. यानी एक सेकेंड में 1.61 किलोमीटर की गति से हमला करता है. पिनाका रॉकेट मल्टी बैरल रॉकेट लॉन्चर है.

पिनाका रॉकेट: एक नजर में

यह एक स्वदेशी मल्टी बैरल रॉकेट लॉन्च सिस्टम है. इसे भारतीय सेना के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित किया गया है. इसकी हथियार प्रणाली में अत्याधुनिक गाइडेंस किट शामिल है. इस रॉकेट में एडवांस्ड नेविगेशन और नियंत्रण प्रणाली है. इस मिसाइल को नेविगेशन प्रणाली भारतीय क्षेत्रीय नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) द्वारा सहायता प्रदान की गयी है.

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश

Related Categories

Live users reading now