पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डीन जोन्स का निधन

महान पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डीन जोन्स का 24 सितंबर, 2020 को कार्डियक अरेस्ट के कारण निधन हो गया. वे 59 वर्ष के थे.

स्टार इंडिया ने अपने एक आधिकारिक बयान में, डीन जोन्स के निधन की खबर साझा की और यह बताया कि, अचानक दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई. उन्होंने यह भी बताया कि वे आवश्यक व्यवस्था करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई उच्चायोग के संपर्क में हैं.

इन दिनों डीन जोन्स स्टार स्पोर्ट्स की कमेंट्री टीम का हिस्सा थे और मुंबई के सात सितारा होटल में बायो-सिक्योर बबल में थे. वे खेल के महानतम एम्बेसडर्स में से एक थे जिन्होंने दक्षिण एशिया में क्रिकेट के विकास के साथ खुद को जोड़ा था.

जोन्स युवा क्रिकेटरों को ट्रेंड करने और नई प्रतिभाओं की खोज करने के लिए बहुत उत्साही थे. वे एक चैंपियन कमेंटेटर भी थे जिनकी उपस्थिति और क्रिकेट कमेंटरी ने हमेशा लाखों प्रशंसकों को खुशी प्रदान की.

क्रिकेट बिरादरी के जाने-माने नामों ने दिग्गज बल्लेबाज के आकस्मिक देहांत पर अपना शोक व्यक्त किया है.

डीन जोन्स - क्रिकेट रिकॉर्ड्स

•    1980-1990 के दशकों में ऑस्ट्रेलियाई पक्ष के लिए आक्रामक तरीके से खेलकर डीन जोन्स अपने देश की विशेष पहचान बन गये थे.

•    उन्हें वर्ष 1984 के वेस्टइंडीज दौरे के लिए चुना गया था क्योंकि ग्राहम यलोप को सर्जरी के कारण उस मैच दौरे से बाहर होना पड़ा था.

•    डीन जोन्स ने अपने पहले ही मैच में 48 रन बनाए और मैच से पहले बीमार पड़ने के कारण, इसे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन माना.

•    वर्ष 1984 से 1992 तक, उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के लिए 52 टेस्ट मैच खेले, जिसमें 46.55 की औसत से 11 शतकों सहित कुल 3,631 रन बनाए थे.

•    जोन्स की सबसे उल्लेखनीय पारी भारत के खिलाफ चेन्नई (मद्रास) के टाई टेस्ट में केवल उनके द्वारा खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में थी, जोकि वर्ष 1986 में खेला गया था.

•    उन्होंने इस मैच में 210 रन बनाए और भारत में उनकी यह 210 रन की पारी अभी तक, एक ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर द्वारा बनाया गया उच्चतम स्कोर है.

•    उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के लिए 164 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (ODIs) भी खेले, जिसमें उन्होंने 44.61 की औसत से 6,068 रन बनाए.

डीन जोन्स के बारे में

डीन जोन्स एक ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर, कोच और कमेंटेटर थे जिन्होंने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के लिए कई वन डे इंटरनेशनल (ODIs) और टेस्ट मैच खेले. उन्हें एकदिवसीय मैचों में अपनी फील्डिंग और बल्लेबाजी के लिए और टेस्ट मैचों में उनके शानदार रिकॉर्ड के लिए याद किया जाता है.

1980 के दशक के अंत और 1990 के दशक की शुरुआत में, जोन्स को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ एकदिवसीय बल्लेबाजों में से एक माना जाता था, जिसे ICC प्लेयर रैंकिंग में भी मान्य प्रदान की गई है. वर्ष 2019 में उन्हें ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट हॉल ऑफ फेम में भी शामिल किया गया था.

वर्ष 1998 में अपने क्रिकेट खेल करियर से संन्यास लेने के बाद, जोन्स एक प्रतिष्ठित कमेंटेटर बन गए. इस पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ने पाकिस्तान सुपर लीग में भी कोचिंग की थी.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now