मानव विकास सूचकांक 2019: भारत की रैंकिंग में एक पायदान का सुधार, 129वें स्थान पर

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा हाल ही में मानव विकास सूचकांक 2019 जारी किया गया. इस सूचकांक में भारत ने एक पायदान का सुधार करते हुए 129वां स्थान हासिल किया है. यूएनडीपी की भारत में स्थानीय प्रतिनिधि शोको नोडा द्वारा जारी बयान में कहा गया कि भारत में 2005-06 से 2015-16 के बीच 27.1 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला गया जिसके चलते यह रैंकिंग प्राप्त हुई.

पिछले तीन दशकों में हुए विकास कार्यों की वजह से भारत को एक रैंकिंग का फायदा हुआ. भारत की रैंकिंग पिछले वर्ष 130 थी. भारत में जीवन प्रत्याशा, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच में बढ़ोतरी के कारण भी रैंकिंग में सुधार हुआ है.

मानव विकास सूचकांक क्या है?

मानव विकास सूचकांक एक सांख्यिकीय सूचकांक है जिसमें जीवन प्रत्याशा, शिक्षा, और आय सूचकांकों को शामिल किया जाता है. इन विभिन्न श्रेणियों को मिलाकर तैयार किये जाने वाले मानव विकास सूचकांक के तरीके को अर्थशास्त्री महबूब-उल-हक ने तैयार किया था. संयुक्त राष्ट्र द्वारा पहला मानव विकास सूचकांक 1990 में जारी किया गया था. प्रत्येक वर्ष इसे संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा प्रकाशित किया जाता है.

यह भी पढ़ें: विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2019: भारत ने 2018 में मलेरिया के मामलों में सबसे बड़ी कमी दर्ज की

मानव विकास सूचकांक में टॉप-10 देश

रैंकिंग

देश

1

नॉर्वे

2

स्विट्ज़रलैंड

3

ऑस्ट्रेलिया

4

आयरलैंड

5

जर्मनी

6

आइसलैंड

7

हॉन्गकॉन्ग

8

स्वीडन

9

सिंगापुर

10

नीदरलैंड

रैंकिंग में टॉप देश

मानव विकास सूचकांक में नॉर्वे, स्विटजरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड और जर्मनी टॉप पर हैं. रिपोर्ट के अनुसार, 1990-2018 में दक्षिण एशिया मानव विकास की प्रगति में सबसे तेजी से बढ़ने वाला क्षेत्र रहा, जिसके बाद पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र में 43% की वृद्धि हुई. रिपोर्ट में कहा गया है कि महिलाओं के प्रति असमानताएं आज भी बनी हुई हैं. लैंगिक समानताओं के लिए विश्व भर में अभी और कदम उठाये जाने चाहिए.

पाकिस्तान की स्थिति

मानव विकास सूचकांक में पाकिस्तान ने तीन पायदान की बढ़ोतरी दर्ज की है. इसके अनुसार, पाकिस्तान की एच डी आई वैल्यू 0.562 है जबकि बांग्लादेश की वैल्यू 0.608 आंकी गई है. यूएनडीपी द्वारा जारी सूचकांक में बांग्लादेश की रैकिंग जहां 134 है, वहीं पाकिस्तान की रैकिंग 147 है.

यह भी पढ़ें: ग्लोबल माइग्रेशन रिपोर्ट 2020 जारी, विश्व में सबसे अधिक भारतीय प्रवासी

यह भी पढ़ें: Road Accidents in India: सड़क हादसों में तमिलनाडु पहले स्थान पर

Related Categories

Also Read +
x