Advertisement

आईसीसी ने गेंद से छेड़छाड़ पर मौजूद नियमों में बदलाव किया

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने गेंद के साथ छेड़छाड़ और स्लेजिंग की बढ़ती घटनाओं के मद्देनज़र अब दोषी क्रिकेटरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का फैसला किया है जिसके लिये वह अपने नियमों को और सख्त बनाने जा रहा है.

यह फैसला डबलिन में हुए आईसीसी की मीटिंग में लिया गया. पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में निर्णय लिया गया कि आईसीसी अब आचार सहिंता के उल्लंघन मामले में कड़ी कार्रवाई करेगा. बैठक में मुख्य कार्यकारी डेविड रिचर्डसन भी मौजूद थे.

गेंद से छेड़छाड़ पर मौजूद नियमों में बदलाव:

  • बैठक में इसके आचार सहिंता में भी बदलाव किया गया है.
  • नए नियम के मुताबिक लेवल-2 के अपराध को अपग्रेड कर अब लेबल-3 का अपराध कर दिया गया है.
  • पहले आठ निलंबन अंक मिलने पर खिलाड़ी पर चार टेस्ट या आठ वनडे मैचों का प्रतिबंध लगाया जाता था. लेकिन अब इसे बढ़ाकर 12 निलंबन अंक कर दिया गया है.
  • नए नियम के मुताबिक अब बॉल टेंपरिंग करने वाले खिलाड़ी पर छह टेस्ट मैच या 12 वनडे मैचों के लिए बैन किया जाएगा.
  • क्रिकेट समिति ने यह भी कहा कि मैच रेफरी अब लेवल-1, 2 और लेवल-3 के अनुसार लगाए गए आरोपों की भी सुनवाई करेगा. इसके अलावा खिलाड़ियों के खराब व्यवहार के लिए कड़े प्रतिबंध लागाने का निर्णय किया गया है.
  • आईसीसी के आचार संहिता नियमों में बदलाव के मद्देनज़र अब वैश्विक संस्था दोषी खिलाड़ियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा जिसे इस वर्ष के आखिर तक लागू कर दिया जाएगा.
  • इसमें गेंद के साथ छेड़छाड़ के अलावा धोखाधड़ी, व्यक्तिगत छींटाकशी, भद्दी टिप्पणियां, अंपायर के निर्देशों की अवहेलना, गेंद की स्थिति में बदलाव शामिल हैं.

पृष्ठभूमि:

पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया के साउथ अफ्रीका दौरे पर केपटाउन टेस्ट के दौरान ऑस्ट्रेलिया टीम के तीन खिलाड़ियों को गेंद से छेड़छाड़ का दोषी पाया गया था. इसमें कप्तान स्टीव स्मिथ, उप कप्तान डेविड वॉर्नर और कैमरून बेनक्रॉफ्ट ने अपना गुनाह कबूल किया था. हालांकि आईसीसी उन्हें ज्यादा सजा नहीं दे सकी थी लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें कड़ी सजा दी थी.

इसके अतिरिक्त हाल ही में खेले गए वेस्टइंडीज- श्रीलंका टेस्ट के दौरान श्रीलंकाई कप्तान दिनेश चंडीमल पर भी बॉल से छेड़छाड़ के आरोप लगे जिसके बाद उन पर आईसीसी ने एक टेस्ट मैच की पाबंदी लगाई. ऐसे में अब गेंद से छेड़छाड़ करने पर लगाम लगाने के लिए आईसीसी ने यह कड़ा फैसला लिया है.

यह भी पढ़ें: राहुल द्रविड़ आईसीसी हॉल ऑफ फेम में शामिल होने वाले पांचवें भारतीय बने

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement