Are you worried or stressed? Click here for Expert Advice
Next

Covid-19 में लोगों की मदद हेतु IFFCO लगा रहा ऑक्सीजन प्लांट, अस्पतालों को मुफ्त में होगी सप्लाई

Vikash Tiwari

इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव (IFFCO) ने कोरोना संकट के बीच देश में ऑक्सीजन (Oxygen) की दिक्कत को देखते हुए एक अच्छी पहल की है. इफको (IFFCO) गुजरात के कलोल स्थित अपने कारखाने में 200 क्यूबिक मीटर प्रति घंटे की उत्पादन क्षमता वाला एक ऑक्सीजन प्लांट लगा रहा है.

इफको (IFFCO) यह ऑक्सीजन अस्पतालों को म़ुफ्त में देगा. इस कारखाने से तैयार होने वाले एक ऑक्सीजन सिलेंडर में 46.7 लीटर ऑक्सीजन होगी. मांग होने पर इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव (IFFCO) के इस कारखाने से हर दिन 700 बड़े डी टाइप और 300 मीडियम बी टाइप सिलेंडर में मेडिकल ग्रेड के ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाएगी.

अस्पतालों को मुफ्त में होगी सप्लाई

यह ऑक्सीजन अस्पतालों को मुफ्त में मुहैया किया जाएगा. यही नहीं, IFFCO महामारी में देश की मदद के लिए ऐसे तीन और प्लांट स्थापित करेगा.

आपूर्ति कैसे होगी?

अस्पतालों को इसके लिए अपना खाली सिलेंडर भेजना होगा. यदि कोई अस्पताल अपना सिलेंडर नहीं भेजता है तो उसे सिलेंडर के लिए एक सिक्योरिटी राशि जमा करनी होगी. सिलेंडर की कुछ अस्पताल जमाखोरी न कर लें उसके लिए यह व्यवस्था बनाई गई है. IFFCO के एमडी एवं सीईओ डॉ. यू.एस. अवस्थी ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है.

ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी किल्लत

गौरतलब है कि कोविड-19 के मरीजों के लिए बेहद उपयोगी ऑक्सीजन सिलेंडर की देश में भारी दिक्कत देखी जा रही है. इसे दूर करने के लिए सरकारी और गैर सरकारी दोनों स्तर से प्रयास जारी हैं. कुछ दिनों पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज ने भी गुजरात के अपने प्लांट से 100 टन ऑक्सीजन महाराष्ट्र सरकार को भेजी थी.

बीपीसीएल ने क्या कहा?

सरकारी कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने भी कहा कि वह अपने कोच्चि स्थित रिफाइनरी से केरल के लिए चिकित्सकीय ऑक्सीजन की सप्लाई करेगा, ताकि कोविड-19 के गंभीर मरीजों का समुचित इलाज हो सके.

प्रतिदिन 1.5 टन ऑक्सीजन

बीपीसीएल का कहना है कि वह प्रतिदिन 1.5 टन ऑक्सीजन कोच्चि के सरकारी अस्पतालों को देगी. इंडस्ट्री के अनुमानों के अनुसार देश में फिलहाल लगभग 7,200 मीट्रिक टन (MT) ऑक्सीजन का डेली उत्पादन होता है.

Related Categories

Live users reading now