Advertisement

आईआईटी मद्रास ने भारत का पहला स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर ‘शक्ति’ तैयार किया

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास ने भारत का पहला स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर विकसित और डिजाईन किया है. इस माइक्रोप्रोसेसर को ‘शक्ति’ नाम दिया गया है.

यह स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर जल्द मोबाइल फोन, सर्विलांस कैमरा और स्मार्ट मीटर्स को ताकत देने में सहायता करेगा. इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन, चंडीगढ़ की सेमी कंडक्टर लैब में माइक्रोचिप के साथ इसे बनाया गया है..

स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर के बारे में

•    आईआईटीएम की राइज लैब के लीड रिसर्चर प्रफेसर कामकोटी वीजीनाथन का कहना है कि वर्तमान डिजिटल इंडिया में बहुत सारी एप्स को कस्टमाइज्ड प्रोसेसर कोर की आवश्यकता रहती है.

•    हमारे नए डिजाइन के साथ ये सभी चीजें काफी आसान हो जाएंगी.

•    इससे आयात की गई माइक्रो चिप पर निर्भरता कम होगी. साथ ही इन माइक्रो चिप की वजह से होने वाले साइबर अटैक का खतरा भी कम होगा.

•    सभी कंप्यूटिंग और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का मस्तिष्क ऐसे कई माइक्रोप्रोसेसरों से जुड़ा है, जो उच्च गति प्रणालियों और सुपर कंप्यूटरों को संचालित करने के लिए उपयोग किए जाते हैं.

•    जुलाई में आईआईटी मद्रास के शुरुआती बैच ने 300 चिप डिजाइन की थी, जिन्हें अमेरिका के ऑरेगन में इंटेल की फैसिलिटी में जोड़ा गया था.

•    अब यह देश में ही तैयार किया गया माइक्रो प्रोसेसर पूरी तरह भारतीय है.

•    भारत में बना माइक्रोप्रोसेसर 180 एनएम का है, जबकि अमेरिका में बना प्रोसेसर 20 एनएम का है.

माइक्रोप्रोसेसर क्या होता है?

माइक्रोप्रोसेसर एक ऐसी डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक युक्ति है जिसमें लाखों ट्रांजिस्टरों को एकीकृत परिपथ (इंटीग्रेटेड सर्किट या आईसी) के रूप में प्रयोग कर तैयार किया जाता है. इससे कंप्यूटर के केन्द्रीय प्रक्रमण इकाई (सीपीयू) की तरह भी काम लिया जाता है. इंटीग्रेटेड सर्किट के आविष्कार से ही आगे चलकर माइक्रोप्रोसेसर के निर्माण का रास्ता खुला था. माइक्रोप्रोसेसर के अस्तित्व में आने के पूर्व सीपीयू अलग-अलग इलेक्ट्रॉनिक अवयवों को जोड़कर बनाए जाते थे या फिर लघुस्तरीय एकीकरण वाले परिपथों से. सबसे पहला माइक्रोप्रोसेसर 1970 में बना था.

 

यह भी पढ़ें: भारतीय रेलवे ने ब्रॉड गेज मार्ग पर मानव रहित क्रॉसिंग को समाप्त किया

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement