भारत और पुर्तगाल ने सात समझौतों पर हस्ताक्षर किए

भारत और पुर्तगाल ने समुद्री, बौद्धिक संपदा अधिकार, हवाई क्षेत्र और वैज्ञानिक अनुसंधान क्षेत्र में सात समझौतों पर हस्ताक्षर किए. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पुर्तगाल के राष्ट्रपति मार्सेलो रेबेलो डी सूसा से राष्ट्रपति भवन में मुलाकात की. पुर्तगाल के राष्ट्रपति सूसा पहली बार भारत की यात्रा पर आए हैं. किसी पुर्तगाली राष्ट्रपति की भारत की अंतिम यात्रा साल 2007 में हुई थी.

भारत और पुर्तगाल ने अपनी रक्षा साझेदारी मजबूत करने का फैसला किया है. भारत और पुर्तगाल ने रक्षा सहयोग की कड़ी में मानव रहित विमानों की नई ड्रोन तकनीक पर भी आपसी मदद का फैसला किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही पुर्तगाल के राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने पर व्यापक चर्चा की.

भारत और पुर्तगाल के बीच ये समझौते हुए

 गुजरात के लोथल में राष्ट्रीय नौवहन धरोहर संग्रहालय स्थापित करने को पुर्तगाल के रक्षा मंत्रालय और भारत के पोत परिवहन मंत्रालय के बीच समझौता हुआ.

 भारत और पुर्तगाल ने नौवहन परिवहन और बंदरगाह विकास को लेकर सहयोग समझौता किया.

 दोनों देशों ने भारत और पुर्तगाल के बीच आवाजाही गठजोड़ को लेकर भी संयुक्त घोषणा की.

 इसके अतिरिक्त इन्वेस्ट इंडिया और स्टार्टअप पुर्तगाल के बीच भी समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया.

 भारत और पुर्तगाल के बीच औद्योगिक एवं बौद्धिक संपदा अधिकार के क्षेत्र में सहयोग को लेकर भी एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए.

 दोनों देशों ने दृश्य श्रव्य सह उत्पादन में सहयोग को लेकर भी समझौता किया.

 पुर्तगाल के डिप्लोमेटिक इंस्टीट्यूट और विदेश सेवा प्रशिक्षण संस्थान के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया.

पुर्तगाल के राष्ट्रपति की यह यात्रा दोनों देशों के लिए द्विपक्षीय संबंधों के विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति की समीक्षा करने तथा आम हित के अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर सहयोग के दृष्टिकोण से नई दिशा में आगे बढ़ाने अवसर प्रदान करेगी. पुर्तगाल के राष्ट्रपति सूसा 13 फरवरी 2020 को चार दिवसीय यात्रा पर भारत पहुंचे हैं.

यह भी पढ़ें:पुलवामा अटैक का एक साल: CRPF ने अपने शहीदों को कुछ इस तरह से किया याद 

भारत-पुर्तगाल संबंध

भारत और पुर्तगाल के बीच अर्थव्यवस्था और व्यापार, विज्ञान, संस्कृति और शिक्षा के क्षेत्र में सक्रिय और विकासपरक सहयोग है. दोनों देश अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर काफी अहम साझेदार हैं. पुर्तगाल के साथ भारत के संबंध जोशपूर्ण और मित्रतापूर्ण रहे हैं और हाल के वर्षों में इनमें काफी बढ़ोतरी हुई है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि पुर्तगाल के साथ भारत का संबंध विशिष्ट है और दोनों देश 500 सालों का इतिहास साझा करते हैं.

यह भी पढ़ें:सुषमा स्वराज Birth Anniversary: प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर किया गया Sushma Swaraj भवन

यह भी पढ़ें:कैबिनेट ने कीटनाशक प्रबंधन विधेयक 2020 के मसौदे को मंजूरी दी

FAQ

Section 1

Content in section 1.

Section 2

Content in section 2.

Section 3

Content in section 3.

Related Categories

Also Read +
x