Advertisement

संयुक्त राष्ट्र के ई-गवर्नेंस इंडेक्स में भारत टॉप 100 देशों में शामिल

भारत संयुक्त राष्ट्र के ई-गवर्नेंस इंडेक्स में टॉप 100 देशों में शामिल हो गया है. संयुक्त राष्ट्र के ई-गवर्नेंस इंडेक्स में भारत बीते 4 साल के दौरान 22 अंकों की छलांग लगा चुका है, जिसमें से 11 अंकों की छलांग तो उसने बीते दो सालों में ही लगाई है.

भारत साल 2014 में इस इंडेक्स में 118 अंक पर काबिज था, लेकिन वो अब उछलकर 96वें पायदान पर आ गया है.

सर्वे हर दो साल में जारी:

संयुक्त राष्ट्र की ओर से यह सर्वे हर दो साल में जारी किया जाता है.  भारत ने ई-पार्टिसिपेशन सब इंडेक्स में 100 फीसदी स्कोर किया है, वहीं दूसरे चरण में इसने 95.65 फीसदी और तीसरे चरण में 90.91 फीसदी स्कोर किया है.

0.9551 के ओवरऑल स्कोर ने 193 काउंटी के सूची सर्वेक्षण में भारत को शीर्ष 15 देशों में रखा है. इस श्रेणी में, भारत सब-रीजन के लीडर के रुप में उभरा है. गौरतलब है कि डेनमार्क ई-गवर्नेंस इंडेक्स और ई-पार्टिसिपेशन सब इंडेक्स दोनों के ही मोर्चे पर वर्ल्ड लीडर है.

गौरतलब है कि भारत अक्टूबर 2017 में ही ईज ऑफ डूइंग इंडेक्स के टॉप 100 देशों में शामिल हो गया था.

                    ई-गवर्नेंस इंडेक्स में टॉप 10 देश

क्र.सं.

देश

इंडेक्स

1.

डेनमार्क

0.9150

2.

ऑस्ट्रेलिया

0.9053

3.

कोरिया गणराज्य

0.9010

4.

यूनाइटेड किंगडम

0.8999

5.

स्वीडन

0.8882

6.

फ़िनलैण्ड

0.8815

7.

सिंगापुर

0.8812

8.

न्यूजीलैंड

0.8806

9.

फ्रांस

0.8790

10.

जापान

0.8783

 

संयुक्त राष्ट्र ई-गवर्नेंस इंडेक्स क्या है?

ई-सरकारी विकास सूचकांक (E-Government Development Index) तीन सामान्यीकृत सूचकांक के भारित औसत के आधार पर एक समग्र सूचकांक है:

दूरसंचार इंफ्रास्ट्रक्चर इंडेक्स (Telecommunication Infrastructure Index): सूचकांक अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (International Telecommunication Union) द्वारा प्रदान किए गए आंकड़ों पर आधारित है.

मानव पूंजी सूचकांक (Human Capital Index): यह संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) द्वारा प्रदान किए गए आंकड़ों पर आधारित है.

ऑनलाइन सेवा सूचकांक (Online Service Index): यह यूएनडीईएसए द्वारा आयोजित एक स्वतंत्र सर्वेक्षण प्रश्नावली से एकत्रित आंकड़ों पर आधारित है, जो सभी 193 संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों की राष्ट्रीय ऑनलाइन उपस्थिति का आकलन करता है.

यह मुख्य रूप से राष्ट्रीय स्तर पर ई-सरकारी विकास का आकलन करता है. यह सार्वजनिक सेवाओं को वितरित करने के लिए देशों के सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों के उपयोग को मापता है. सूचकांक ऑनलाइन सेवाओं के दायरे और गुणवत्ता, दूरसंचार बुनियादी ढांचे की स्थिति और मौजूदा मानव क्षमता को कैप्चर करता है.

 

हाल ही बनी है दुनिया की छठी अर्थव्यवस्था:

हाल ही वर्ल्ड बैंक की ओर से रिपोर्ट जारी की थी. इसमें भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनी थी. भारत ने फ्रांस को पीछे छोड़ा था.

यह भी पढ़ें: पब्लिक अफेयर्स इंडेक्स में केरल लगातार तीसरे साल शीर्ष स्थान पर

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement