Next

भारत 35 साल बाद बना आईएलओ का अध्यक्ष, जानें विस्तार से

भारत को 35 साल के अंतराल के बाद अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) के संचालक मंडल की अध्यक्षता मिली है. इस पद के लिए श्रम सचिव अपूर्व चंद्र को चुना गया है. श्रम मंत्रालय ने 23 अक्टूबर 2020 को एक बयान में कहा कि 35 साल बाद भारत को आईएलओ के संचालक मंडल की अध्यक्षता मिली है.

श्रम सचिव अपूर्व चंद्र को आईएलओ के संचालक मंडल का चेयरमैन चुना गया है. वे इस पद पर अक्टूबर 2020 से जून 2021 तक रहेंगे. बयान के अनुसार आईएलओ के संचालक मंडल की अध्यक्षता मिलना एक अंतरराष्ट्रीय उपलब्धि है. यह भारत और आईएलओ के 100 वर्ष से अधिक फलदायी रिश्तों की कड़ी में एक और मील का पत्थर है.

वर्तमान में आईएलओ के 187 सदस्य

यह पद अंतर्राष्ट्रीय स्तर का है. गवर्निंग बॉडी, आईएलओ का शीर्ष कार्यकारी निकाय है जो नीतियों, कार्यक्रमों, एजेंडे, बजट का निर्धारण करता है और महानिदेशक का चुनाव का कार्य भी करता है. वर्तमान समय में आईएलओ के 187 सदस्य हैं.

भारत-आईएलओ: एक नजर में

भारत आईएलओ के संस्थापक सदस्यों में से एक है. यह साल 1919 में वर्साय की संधि के तहत बनाया गया था और यह साल 1946 में एक विशेष एजेंसी बन गई थी.

अपूर्व चन्द्रा आगामी बैठक की अध्यक्षता

अपूर्व चन्द्रा नवंबर 2020 में होने वाली शाषी निकाय की आगामी बैठक की अध्यक्षता करेंगे. जिनेवा में, उनके पास सदस्य देशों के वरिष्ठ अधिकारियों और सामाजिक भागीदारों के साथ बातचीत करने का अवसर होगा. यह संगठित या असंगठित क्षेत्र में सभी श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा के सार्वभौमिकरण के बारे में मंशा स्पष्ट करने के अलावा श्रम बाजार की कठोरता को दूर करने के लिए सरकार द्वारा की गई परिवर्तनकारी पहलों के प्रतिभागियों को भी एक मंच प्रदान करेगा.

अपूर्व चंद्रा कौन है?

अपूर्व चंद्रा 1988 बैच के महाराष्ट्र कैडर के आईएएस अधिकारी हैं. भारत सरकार के पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय में सात साल से अधिक समय तक अपूर्व चंद्रा ने कार्य किए हैं. चंद्रा ने महाराष्ट्र सरकार में प्रधान सचिव (उद्योग) के रूप में 2013 से 2017 के बीच चार वर्षों तक काम किया है.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now