Are you worried or stressed? Click here for Expert Advice
Next

भारत और कुवैत ने किए भारतीय कामगारों की भर्ती पर सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

Anjali Thakur

भारत और कुवैत ने 10 जून, 2021 को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं, जो भारतीय घरेलू कामगारों को इस खाड़ी देश में एक कानूनी ढांचे के भीतर लाता है ताकि उन्हें कानून की सुरक्षा प्रदान की जा सके और उनकी भर्ती को सुव्यवस्थित किया जा सके.

भारतीय राजदूत सिबी जॉर्ज और कुवैत के विदेश मामलों के उप मंत्री मजदी अहमद अल-धफिरी ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और कुवैत राज्य के विदेश मामलों के मंत्री और कैबिनेट मामलों के राज्य मंत्री शेख अहमद नासिर अल-मोहम्मद अल-सबाह की उपस्थिति में इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए.

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर इस खाड़ी देश की द्विपक्षीय यात्रा के लिए 10 जून, 2021 को कुवैत पहुंचे.

Productive discussions with FM @anmas71 of Kuwait. Aimed at taking forward our traditional friendship. Appreciate the presence of Commerce Minister Dr. Abdullah Issa Al-Salman in the talks. pic.twitter.com/nFTf8GMhON

— Dr. S. Jaishankar (@DrSJaishankar) June 10, 2021

भारतीय कामगारों की भर्ती में सहयोग के लिए भारत-कुवैत समझौता ज्ञापन

• भारत और कुवैत के बीच 10 जून, 2021 को हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन, भारतीय घरेलू कामगारों को एक कानूनी ढांचे के भीतर लाता है जो उन्हें कानून की सुरक्षा प्रदान करता है और उनकी भर्ती को सुव्यवस्थित करता है.
• यह समझौता ज्ञापन घरेलू कामगारों और नियोक्ताओं के अधिकारों और दायित्वों को सुनिश्चित करेगा.
• यह समझौता ज्ञापन भारतीय घरेलू कामगारों के लिए 24 घंटे सहायता तंत्र स्थापित करेगा.
• वर्तमान में लगभग दस लाख भारतीय कुवैत में रहते हैं.

विदेश मंत्री एस जयशंकर द्विपक्षीय यात्रा पर पहुंचे कुवैत

• विदेश मंत्री एस जयशंकर इस खाड़ी देश की तीन दिवसीय द्विपक्षीय यात्रा पर 10 जून, 2021 को कुवैत पहुंचे.
• यह यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब वर्ष, 2021-22 में भारत और कुवैत के बीच द्विपक्षीय संबंधों की स्थापना की 60वीं वर्षगांठ है.
• विदेश मंत्री जयशंकर ने COVID-19 की दूसरी लहर के दौरान भारत को तरल चिकित्सा ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सा आपूर्तियों के लिए अपने कुवैती समकक्ष को धन्यवाद दिया.
• दोनों पक्षों ने इस COVID-19 महामारी के दौरान उत्पन्न हुई अनेक समस्याओं के साथ ही कुवैत में भारतीय कार्यबल के सामने आने वाले मुद्दों, साइबर सुरक्षा, खाद्य सुरक्षा और ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग पर चर्चा की.

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी की खाड़ी सहयोग परिषद सम्मेलन की अध्यक्षता

• बाद में, अपनी इस यात्रा के दौरान, विदेश मंत्री जयशंकर ने खाड़ी सहयोग परिषद देशों में भारतीय राजदूतों के एक गोलमेज सम्मेलन की भी अध्यक्षता की.
• खाड़ी सहयोग परिषद (गल्फ कोऑपरेशन काउंसिल) छह देशों - ओमान, बहरीन, कतर, संयुक्त अरब अमीरात, कुवैत और सऊदी अरब - का एक आर्थिक और राजनीतिक गठबंधन है.

Related Categories

Live users reading now