स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं में भारत 145वें स्थान पर: लांसेट रिपोर्ट

हाल ही में लांसेट द्वारा जारी सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार भारत स्वास्थ्य सेवाओं के संबंध में 145 नंबर पर है. लांसेट द्वारा कुल 195 देशों पर किये गये इस सर्वेक्षण में भारत 145वें स्थान पर है. भारत इस सर्वेक्षण में चीन, बांग्लादेश, श्रीलंका एवं भूटान से भी पीछे है.

द ग्लोबल बर्डन ऑफ़ डीसीज़ स्टडी द्वारा कहा गया है कि वर्ष 1990 की तुलना में प्रत्येक भारतीय तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच सुनिशिचित करना भारत में अभी भी चुनौती है. वर्ष 2016 के अध्ययन में भारत में स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता तथा गुणवत्ता की रैंकिंग 41.2 थी जो कि 1990 (24.7) की तुलना में काफी बेहतर है.

भारत के संदर्भ में रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

•    भारत का स्वास्थ्य देखभाल और गुणवत्ता रैंकिंग में वर्ष 2000 से 2016 तक तेजी से सुधार देखा गया.

•    इस दौरान भारत के उच्चतम और निम्नतम स्कोर में भारी अंतर देखा गया. वर्ष 1990 में यह अंतर 23.4 था जबकि 2016 में यह अंतर बढ़कर 30.8 हो गया.

•    रिपोर्ट के अनुसार गोवा और केरल के वर्ष 2016 में सबसे अधिक (60 से अधिक) अंक थे जबकि असम और उत्तर प्रदेश के सबसे कम (40 से कम) अंक थे.

•    भारत के पड़ोसी देशों की तुलना में भी भारत की स्थिति अच्छी नहीं है. इसमें चीन (48), श्रीलंका (71), बांग्लादेश (133) एवं भूटान (134) देश शामिल हैं.

•    सूची के अनुसार भारत नेपाल (149), पाकिस्तान (154) और अफगानिस्तान (191) से बेहतर स्थिति में है.


यह भी पढ़ें: निपाह वायरस के बारे में संपूर्ण जानकारी

 

कम रैंकिंग के कारण
अध्ययन के अनुसार, भारत में तपेदिक के मामलों, हृदय रोग, स्ट्रोक, टेस्टिकुलर कैंसर, कोलन कैंसर और क्रोनिक किडनी रोग पर नियंत्रण नहीं किया जा सका है जिसके चलते भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी रही है. चीन और भारत जैसे देशों में सामाजिक असमानताओं के कारण भी यह रैंकिंग प्रभावित होती है जबकि इंग्लैंड और अमेरिका जैसे देशों में स्थानीय स्तर पर अंतर देखने को मिलते हैं.

सबसे अधिक रैंकिंग वाले 5 देश

सबसे कम रैंकिंग वाले 5 देश

आइसलैंड (97.1)

सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक (18.6)

नॉर्वे (96.6)

सोमालिया (19.0)

नीदरलैंड (96.1)

गुएना-बिसाऊ (23.4)

लक्सम्बर्ग (96.0)

चाड (25.4)

फ़िनलैंड और ऑस्ट्रेलिया (95.9)

अफगानिस्तान (25.9)

 

Related Categories

Popular

View More