Next

भारतीय वायु सेना ने 8 अक्टूबर को 88वां वायु सेना दिवस मनाया

भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) ने 08 अक्टूबर 2020 को नई दिल्ली में 88वां वायु सेना दिवस मनाया. इस मौके पर आकाश मिसाइल, ध्रुव हेलिकॉप्टर, मिराज-2000, जगुआर, तेजस, सुखोई-30 एमकेआई, रोहिणी रडार सिस्टम, अपाचे हेलिकॉप्टर और सी-130जे सुपर हरक्यूलिस परिवहन विमान शामिल हुए.

इस दौरान राफेल की उड़ान ने लोगों को रोमांचित किया. एयर शो के दौरान सारंग हेलिकॉप्टर ने डॉल्फिन लीप का प्रदर्शन किया. इससे पहले राफेल और तेजस ने उड़ान भरी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को 88वें भारतीय वायु सेना (आईएएफ) दिवस के अवसर पर देश को शुभकामनाएंदीं और साथ ही भारतीय वायु सेना के जवानों की भी सराहना कीं.

एयर फोर्स डे पर भारतीय वायुसेना के सभी वीर योद्धाओं को बहुत-बहुत बधाई। आप न सिर्फ देश के आसमान को सुरक्षित रखते हैं, बल्कि आपदा के समय मानवता की सेवा में भी अग्रणी भूमिका निभाते हैं। मां भारती की रक्षा के लिए आपका साहस, शौर्य और समर्पण हर किसी को प्रेरित करने वाला है।#AFDay2020 pic.twitter.com/0DYlI7zpe6

— Narendra Modi (@narendramodi) October 8, 2020

इस कार्यक्रम में वायुसेना के नए एयरचीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने भी पहली बार वायुसेनाध्यक्ष के तौर पर परेड की सलामी ली. आरकेएस भदौरिया ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का जिक्र करते हुए कहा कि आतंकवादी हमलों से निपटने के सरकार के तरीके में बहुत बड़ा बदलाव आया है.

उद्देश्य

यह दिवस आधिकारिक रूप से एवं सार्वजनिक रूप से, राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए किसी भी संगठन में भारतीय वायु सेना के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से मनाया जाता हैं.

IAF Chief Air Chief Marshal Rakesh Kumar Singh Bhadauria inspects the 88th Indian Air Force Day parade at Hindon airbase pic.twitter.com/EjzmmavRnk

— ANI UP (@ANINewsUP) October 8, 2020

भारतीय वायु सेना दिवस

भारतीय वायुसेना की स्थापना 08 अक्टूबर 1932 को हुई थी. इसी मौके को याद करते हुए हर साल इस दिन को भारतीय वायु सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है. वायु सेना दिवस को आधिकारिक तौर पर सर्वप्रथम 08 अक्टूबर 1932 को भारतीय साम्राज्य की सहायक वायु सेना के रूप में मनाया गया था. ऑपरेशन राहत और ऑपरेशन मेघदूत जैसे विभिन्न महत्वपूर्ण अभियानों में तैनात विमान और हेलीकाप्टर भी प्रदर्शित किये जाते हैं. इसके साथ-साथ, विभिन्न अभियानों के लिए तैयार किये गए नए विमान भी प्रदर्शित किए जाते हैं, साथ ही इसकी विशेषताओं और इसके उद्देश्यों को भी समझाया जाता है.

भारतीय वायु सेना में लगभग 1,70,000 कर्मियों की ताकत है और 1,400 से अधिक विमान हैं और इसे दुनिया के अग्रणी वायु सेना में से एक माना जाता है. भारतीय क्षेत्रों को सभी जोखिमों से बचाना और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान प्रभावित क्षेत्रों में सहायता प्रदान करना इसकी जिम्मेदारी है.

देशभक्ति, वीरता, त्याग, सामर्थ्य एवम् साहस के प्रतीक - भारतीय वायुसेना के जाँबाज़ वायु योद्धा।

भारतीय वायु सेना गान ।#AFDay2020 pic.twitter.com/7eURlNWmoq

— Indian Air Force (@IAF_MCC) October 7, 2020

भारतीय वायुसेना के बारे में

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) भारतीय सशस्त्र सेना का एक अंग है जो वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, एवं वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है. आजादी (1950 में पूर्ण गणतंत्र घोषित होने) से पूर्व इसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था और 1945 के द्वितीय विश्वयुद्ध में इसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. आजादी (1950 में पूर्ण गणतंत्र घोषित होने) के पश्च्यात इसमें से "रॉयल" शब्द हटाकर सिर्फ "इंडियन एयरफोर्स" कर दिया गया.

भारत के राष्ट्रपति भारतीय वायु सेना के कमांडर इन चीफ के रूप में कार्य करते है. वायु सेनाध्यक्ष, एयर चीफ मार्शल, एक चार सितारा कमांडर है और वायु सेना का नेतृत्व करते है. भारतीय वायुसेना का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है. भारतीय वायु सेना दुनिया की चौथी सबसे बडी वायुसेना होने का दर्जा दिलाती है.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now