LAC पर अत्यधिक ठंडे मौसम से बचाव हेतु भारतीय सेना देगी टेंटों के लिए अविलंब आदेश

भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तैनात सैनिकों के अत्यधिक ठंडे मौसम से बचाव के लिए सैनिक टेंटों का अविलंब आदेश देने जा रही है. चीनी आक्रामकता का मुकाबला करने के लिए, लद्दाख सेक्टर में 30,000 से अधिक अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया गया है.

सेना के शीर्ष सूत्रों के अनुसार, इन टेंटों की तुरंत आवश्यकता महसूस की जा रही है क्योंकि एलएसी पर सैनिकों की तैनाती लंबे समय तक रहने की उम्मीद है क्योंकि सेना के वरिष्ठ अधिकारियों को उम्मीद है कि यह गतिरोध कम से कम सितंबर-अक्टूबर तक जारी रह सकता है.

पूर्वी लद्दाख में भारतीय मोर्चे पर भारी हथियारों के साथ चीन के 20,000 से अधिक सैनिकों के तैनात होने के बाद लद्दाख में चीनी सीमा पर मौजूदा संकट की शुरुआत हुई.

सीमा पर ठंडे मौसम से बचाव के लिए टेंटों की अविलंब जरूरत

सेना के शीर्ष सूत्रों ने यह जानकारी दी है कि, यदि चीनी सैनिक उन स्थानों से हट जाते हैं, तो भी भारत भविष्य के लिए कोई ऐसी गुंजाइश नहीं छोड़ सकता है. सुरक्षा का हमेशा ध्यान रखना पड़ता है और यही कारण है कि भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख सेक्टर में अत्यधिक ठंड के मौसम में जीवित रहने के लिए हजारों टेंट लगाने का आदेश देने जा रही है.

उन्होंने आगे यह कहा कि, सीमा पर पर्याप्त गोला-बारूद और हथियार उपलब्ध करवाने के अलावा सैनिकों के लिए निवास स्थान उपलब्ध कराने पर भी प्रमुख ध्यान केंद्रित किया जाएगा. सूत्रों ने यह भी बताया कि चीनी सैनिकों ने पहले ही अपने विशेष विंटर टेंटों सहित डेरा डालना शुरू कर दिया है और भारतीय पक्ष की तरफ़ से, जिसमें सियाचिन ग्लेशियर में जरुरी निर्माण और इसी तरह के टेंट भी शामिल हैं, इनमें से कुछ का इस्तेमाल पूर्वी लद्दाख सेक्टर में किया जाता है, लेकिन अब यहां इन टेंटों की बड़ी संख्या में आवश्यकता है.

सेना ऐसे टेंटों के लिए यूरोपीय और भारतीय बाजारों से जानकारी हासिल कर रही है ताकि अत्यधिक ठंडा मौसम शुरू होने से पहले ही इन टेंटों की खरीददारी की जा सके.

भारतीय सेना को मिल रहा है भारत सरकार का पूरा समर्थन

प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ने किसी भी प्रकार के गोला-बारूद, हथियार और निवास स्थान की कमी को दूर करने के लिए रक्षा बलों को 500 करोड़ रुपये प्रति खरीद की वित्तीय सहायता प्रदान की है.

भारतीय सेना अपने एम-77 अल्ट्रा-लाइट हॉवित्जर के लिए एक्सकैलिबर गोला-बारूद और रूस सहित अन्य वैश्विक आपूर्तिकर्ताओं से कई अन्य प्रकार के हथियार और गोला-बारूद खरीदने की योजना भी बना रही है.

Related Categories

NEXT STORY
Also Read +
x