भारतीय नौसेना ने आईएनएस इम्फाल युद्धपोत लॉन्च किया

भारतीय नौसेना ने हाल ही में आईएनएस इम्फाल का समुद्र में जलावतरण किया. भारतीय नौसेना के लिए निर्मित आईएनएस इम्फाल गाइडेड मिसाइलों को ध्वस्त करने में माहिर है. इसके निर्माण की मुख्य बात यह है कि इसे भारत में ही डिजाइन किया व बनाया गया है. भारतीय नौसेना द्वारा आईएनएस इम्फाल का मुंबई के मंझगांव डॉक्स में जलावतरण किया गया.

परंपरा के अनुसार जिन विध्वंसक हथियारों या युद्धपोतों का निर्माण देश में किया जाता है उनका नाम या तो राज्य की राजधानी या फिर बड़े शहर के नाम पर रखा जाता है. यह आईएनएस विध्वंसक आकार और विनाश करने के मामले में एयरक्राफ्ट कैरियर्स के बाद दूसरे नंबर पर आते हैं.

आईएनएस इम्फाल की विशेषताएं

  • इस युद्धपोत का वजन फिलहाल 3,037 टन है, लेकिन आने वाले दिनों में इस पोत को अत्याधुनिक हथियारों और ताकतवर ब्रह्मोस सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइलों से लैस किया जाएगा, तब इसका वजन 7,300 टन तक पहुंच सकता है.
  • इसकी लंबाई 163 मीटर और चौड़ाई 17.4 मीटर है।
  • चार गैस टरबाइन से चलने वाला यह पोत 30 नॉट की गति से आगे बढ़ सकता है. इसके अलावा एक साथ इस पर दो हेलिकॉप्टरों को तैनाती हो सकती है.
  • आईएनएस इम्फाल न सिर्फ गाइडेड मिसाइलों को ध्वस्त कर सकता है बल्कि उन्हें चकमा भी दे सकता है.
  • भारतीय नौसेना के पास फिलहाल 140 युद्धपोत, 220 एयरक्राफ्ट हैं और 32 युद्धपोतों का अभी निर्माण चल रहा है.
  • आईएनएस इंफाल दुनिया के दूसरे देशों में निर्मित अपनी श्रेणी के युद्धपोतों को हर मामले में टक्कर देने में सक्षम है.

आर्टिकल अच्छा लगा? तो वीडियो भी जरुर देखें

प्रोजेक्ट 15-बी

प्रोजेक्ट 15बी के तहत भारतीय नौसेना के लिए लॉन्च किया गया युद्धपोत आईएनएस विशाखापत्तनम था. इसे 20 अप्रैल 2015 को लॉन्च किया गया था. प्रोजेक्ट 15बी श्रेणी के तहत आने वाले अन्य युद्धपोत हैं – मोरमुगाओ, इम्फाल एवं पोरबंदर. इस श्रेणी के सभी युद्धपोत गाइडेड मिसाइलें ध्वस्त करने में माहिर हैं तथा अत्याधुनिक हथियारों से लैस हैं.

 

यह भी पढ़ें: विश्व भर में 22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस मनाया गया

Related Categories

Popular

View More