अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2020: जानिए इसका इतिहास और महत्व

समाज में संग्रहालय की भूमिका के बारे में जागरूकता बढ़ाने हेतु प्रत्येक साल 18 मई को अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस (International Museum Day) मनाया जाता है. यह दिवस विश्वभर में संग्रहालयों की भूमिका के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए प्रतिवर्ष मनाया जाता है.

इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य आम जनता में संग्रहालयों के प्रति जागरुकता फैलाना और उन्हें संग्रहालयों में जाकर अपने इतिहास को जानने के प्रति जागरुक बनाना है. इस दिन को मनाने का उद्देश्य ऐतिहासिक तथ्य के बारे में जागरूकता बढ़ाना है ताकि देश विदेश की संस्कृति से लोगों को रूबरू कराया जा सके.

भारत में संग्रहालय दिवस

भारत में इस दिन कई संग्रहालयों में कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिनमें लोगों को संग्रहालय के बारे में विस्तार से बताया जाता है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के तहत देश में 40 से अधिक संग्रहालय हैं. आज के दिन 'भारत सरकार' के सभी संग्रहालयों में प्रवेश निःशुल्क कर दिया जाता है.

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय का महत्व

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस विशेष महत्व रखता है, क्योंकि सभ्यता और संस्कृति हमारी धरोहर है, जिसे संग्रहालय संजोए रखता है. अगर संग्रहालय न होती तो आज हमारी सभ्यता और संस्कृति विलुप्त होने की कगार पर होती. इन संग्रहालयों से हमें न केवल अपने इतिहास को जानने का मौका मिलता है, बल्कि सभ्यता और संस्कृति का भी ज्ञान प्राप्त होता है. इसमें कोई शक नहीं कि संग्रहालय प्राचीन कलाकृतियों, नक्काशियों, मूर्तिकला, अन्य चीज, इतिहास आदि का भंडार गृह है.

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का इतिहास

संयुक्त राष्ट्र संघ ने 18 मई 1983 को संग्रहालय की अहमियत को समझते हुए एक प्रस्ताव पारित किया, जिसमें हर साल अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाने की बात थी. इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को जागरूक करने के अतिरिक्त विभिन्न देशों की पुरातन संस्कृति और इतिहास को जीवित रखना भी है. इसका आयोजन अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय परिषद करती है. यह दुनियाभर के सभी देशों की संस्कृति और सभ्यता के संरक्षण के लिए कटिबद्ध है. इस परिषद की स्थापना 1977 में की गई थी.

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का आयोजन

साल 1977 से हर साल अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का आयोजन किया जाता है, जो संग्रहालय समुदाय के लिए एक अनूठा दिन होता है. इस आयोजन में साल 2019 में लगभग 158 देशों और क्षेत्रों के 37,000 से अधिक संग्रहालयों ने भाग लिया था. संग्रहालय का महत्व और जागरूकता फैलाने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.

Related Categories

Also Read +
x

Live users reading now