जानिए कौन थे जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड, जिनकी याद में गूगल ने बनाया डूडल

गूगल (Google) ने डूडल बनाकर बेल्जियम के भौतिक विज्ञानी जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड को याद किया है. जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड का 14 अक्टूबर 2019 को 218वीं जयंती है. जोसेफ एंटोनी द्वारा विजुअल पर किए गए रिसर्च ने उन्हें फेनाकिस्टिस्कोप नामक एक उपकरण को बनाने हेतु प्रेरित किया था.

गूगल ने जाने-माने भौतिक विज्ञानी जोसेफ को एक विशेष सांकेतिक डूडल के साथ याद किया. जोसेफ एंटोनी को फेनाकिस्टोस्कोप के आविष्कार के लिए जाना जाता है. यह वह उपकरण है जिसने चलती छवियों की मदद से सिनेमा को जन्म दिया.

फेनाकिस्टिस्कोप ने एक मूविंग इमेज का भ्रम पैदा किया जो मोशन पिक्चर के जन्म और विकास हेतु जरूरी था. उनके पिता एक कलाकार थे, जो फूलों की पेंटिंग बनाने में बहुत ही माहिर थे. फेनाकिस्टिस्कोप ने एक मूविंग इमेज का भ्रम पैदा किया जो मोशन पिक्चर के जन्म और विकास हेतु जरूरी था.

जोसेफ एंटोनी फर्डिनेंड के बारे में

• जोसेफ एंटोनी का जन्म 14 अक्टूबर 1801 को बेल्जियम के ब्रसेल्स में हुआ था.

• उन्होंने साल 1829 में भौतिक एवं गणितीय विज्ञान के एक डॉक्टर के रूप में स्नातक की उपाधि हासिल की थी.

• वे साल 1835 में गेंट यूनिवर्सिटी में फिजिक्स और एप्लाइड फिजिक्स के प्रोफेसर बन गये थे.

• उन्होंने विशेष रूप से मानव रेटिना पर प्रकाश एवं रंग के प्रभाव पर जोर दिया, जिसने उन्हें 19वीं शताब्दी के सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिकों में से एक बना दिया.

फेनाकिस्टिस्कोप क्या है?

जोसेफ एंटोनी ने फिनेकिस्टिस्कोप का आविष्कार किया था. ये एक ऐसा उपकरण था जो सिनेमा, वीडियो के जन्म का आधार बना था. फेनाकिस्टिस्कोप ने एक मूविंग इमेज का भ्रम पैदा किया जो मोशन पिक्चर के जन्म और विकास के लिए बहुत ही जरूरी था.

उन्होंने इन सभी निष्कर्षों के आधार पर साल 1832 में एक स्ट्रोबोस्कोपिक उपकरण बनाया जिसमें दो डिस्क लगे थे. वे उपकरण एक दूसरे के विपरीत दिशा में घूमते थे. इस उपकरण में एक डिस्क में समान दूरी पर छोटी खिड़कियां बनी थीं, जबकि दूसरी पर चित्र लगे थे. दोनों डिस्क को जब उचित गति पर घुमाया गया, तो वो चलचित्र की तरह दिखने लगे थे.

करेंट अफेयर्स ऐप से करें कॉम्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी,अभी डाउनलोड करें| Android|IOS

Related Categories

Popular

View More