Advertisement

भारत में 21.40 लाख लोग एड्स से पीड़ित हैं: नाको रिपोर्ट

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) द्वारा 14 सितंबर 2018 को एचआईवी आकलन 2017 रिपोर्ट जारी की गई. इस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2017 तक भारत में 21.4 लाख लोग एचआईवी से ग्रस्त थे, जिनमें करीब 40 प्रतिशत महिलाएं थीं.

एचआईवी आकलन 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल एचआईवी के करीब 87580 नए मामले दर्ज किये गए और 69110 लोगों की एड्स की वजह से मृत्यु हो गई. भारत में एचआईवी आकलन का पहला संस्करण 1998 में आया था, जबकि पिछला संस्करण वर्ष 2015 में जारी हुआ था.

नाको द्वारा जारी एचआईवी एड्स रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

•    नाको ने कहा कि वर्ष 2000 के बाद से एचआईवी संक्रमण के सालाना नए मामलों में 60 प्रतिशत से अधिक की कमी आई है, लेकिन 2010 और 2017 के बीच गिरावट की दर 27 प्रतिशत रही.

•    यह संक्रमण के नए मामलों में 2020 तक 75 फीसदी कमी लाने के लक्ष्य पर पहुंचने के लिहाज से बहुत पीछे है.

•    रिपोर्ट के अनुसार 2017 में भारत में एचआईवी पीडि़त लोगों (पीएलएचआईवी) की संख्याा लगभग 21.40 लाख थी, इनमें वयस्क  पीडि़तों की संख्याव 0.22 फीसदी थी

•    साल 2000 के मुकाबले एचआईवी संक्रमण की दर 60% कम हुई है.

•    व्यस्कों में एचआईवी संक्रमण की दर जम्मू-कश्मीर में सबसे कम 0.03% है, जबकि महाराष्ट्र 15% के साथ सबसे आगे है, यहां 3.30 लाख एड्स के मरीज हैं.

पांच राज्यों में बढ़ोतरी

पांच राज्यों को छोड़कर राष्ट्रीय स्तर पर नए संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं. इन पांच राज्यों में अरुणाचल प्रदेश, असम, मिजोरम, मेघालय और उत्तराखंड हैं. इन राज्यों में 2010 की तुलना में पिछले साल इन मामलों में बढ़ोतरी हुई. संसद के एक पैनल ने स्वास्थ्य मंत्रालय से एचआईवी संक्रमितों के लिए देश भर में एंटी-रेट्रोवायरल उपचार केंद्र स्थापित करने और इसे जोड़ने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए आवश्यक कदम उठाने को कहा था. इससे एचआईवी प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए ‘सस्ती और प्रभावकारी’ दवाएं उपलब्ध हो सकेंगी.

रिपोर्ट में दर्ज की गई कमी

रिपोर्ट में बताया गया है कि 1995 में एड्स महामारी की अधिकता की तुलना में कार्यक्रम के प्रभाव में इसके संक्रमण में 80 फीसदी से अधिक की कमी आई है. इसी तरह 2005 में एड्स से संबंधित मौत की अधिकता की तुलना में 71 फीसदी की कमी आई है. यूएन-एड्स 2018 की रिपोर्ट के अनुसार एड्स के नये संक्रमण और एड्स से संबंधित मौतों का वैश्विक औसत घटकर क्रमश: 47 फीसदी और 51 फीसदी तक आ गया है.

 

यह भी पढ़ें: आइएनएमएएस ने पहली स्वदेशी एंटी न्यूक्लियर मेडिकल किट तैयार की

 
Advertisement

Related Categories

Advertisement