इतिहास में पहली बार नासा का ओसीरिस-रेक्स यान क्षुद्रग्रह बेन्नू पर पहुंचा

नासा का महत्वकांक्षी यान ओसीरिस-रेक्स (OSIRIS-Rex) 03 दिसंबर 2018 को लगभग दो वर्ष की यात्रा के बाद क्षुद्र ग्रह (asteroid) बेन्नू पर पहुंचा. ओसीरिस-रेक्स ने यहां पहुंच कर हीरे के आकार की एक चट्टान का चित्र लिया तथा उसे धरती पर भेजा.

यह अंतरिक्ष यान आने वाले दिनों में 31 दिसंबर तक को बेन्नू की कक्षा के चारों ओर चक्कर लगाएगा. गौरतलब है कि अभी तक कोई भी अंतरिक्ष यान इस तरह के एक छोटे से क्षुद्रग्रह की कक्षा तक नहीं पहुँच पाया है. वैज्ञानिकों के अनुसार, बेन्नू एक खगोलीय समय कैप्सूल के समान है.

 

क्षुद्र ग्रह किसे कहते हैं?

मंगल और बृहस्पति की कक्षाओं के मध्य सूर्य की परिक्रमा करने वाले छोटे-छोटे पिंडों को क्षुद्र ग्रह कहा जाता है. अनियमित आकार वाले ये क्षुद्र ग्रह सूर्य की परिक्रमा दीर्घवृत्तीय कक्षा में करते हैं. क्षुद्र ग्रह निर्माणकारी तत्त्वों के अवशेष हैं जिनमें जल, कार्बनिक तत्त्व, धातुएँ आदि प्राकृतिक संसाधन निहित होते हैं. बेन्नू भी एक क्षुद्र ग्रह है जिसे ‘1999 RQ36’ के नाम से भी जाना जाता है.



इस मिशन से जुड़े मुख्य बिंदु

•    किसी भी क्षुद्र ग्रह के नमूने को एकत्रित कर पृथ्वी पर भेजने और लौटने लौटने के लिये अमेरिका द्वारा किया गया पहला प्रयास है. इससे पूर्व केवल जापान ने इस क्षेत्र में प्रयास किये हैं.

•    वर्ष 2020 में वैज्ञानिक इस यान द्वारा जुटाए गए नमूने एकत्र करेंगे और 2023 तक यह पृथ्वी पर लौट आएगा.

•    वैज्ञानिक, बेन्नू जैसे कार्बन समृद्ध क्षुद्र ग्रह की सामग्री का अध्ययन करने के लिये उत्सुक हैं, जो 4.5 अरब साल पहले हमारे सौर मंडल की शुरुआती निर्माण का प्रमाण है.

•    हाल ही में जापानी अंतरिक्ष यान ‘रायगु’ के बारे में भी घोषणा की गई है जो जून के बाद क्षुद्र ग्रहों के नमूने एकत्रित करने के लिये पृथ्वी से रवाना होगा. यह जापान का दूसरा क्षुद्र ग्रह मिशन है.

 

ओसीरिस-रेक्स के बारे में जानकारी

•    नासा द्वारा फ्लोरिडा के केप केनेवरल एयरफोर्स स्टेशन से 8 सितंबर 2016 को अंतरिक्ष यान ओसीरिस-रेक्स को एटलस-यू रॉकेट से प्रक्षेपित किया गया.

•    इस अंतरिक्ष यान का निर्माण लॉकहीड मार्टीन स्पेस सिस्टम्स द्वारा किया गया है.

•    ओसीरिस-रेक्स का पूरा नाम-ओरिजिंस, स्पेक्ट्रल इंटरप्रीटेशन, रिसोर्स आईडेंटीफिकेशन, सिक्योरिटी-रेगोलिथ एक्सफ्लोरर एस्टेरॉयड सैंपल रिटर्न मिशन है.

•    नासा के इस अंतरिक्ष मिशन के द्वारा पृथ्वी के समीप के क्षुद्रग्रह बेन्नू से नमूने का संग्रहण एवं उनका अध्ययन किया जाएगा.

 

यह भी पढ़ें: जानें फोर्ब्स की 100 शक्तिशाली महिलाओं की सूची में 4 भारतीय कौन हैं?

Related Categories

Popular

View More