नीरव मोदी लंदन में गिरफ्तार

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के आरोपी नीरव मोदी को लंदन में गिरफ्तार किया गया है. ब्रिटेन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने 18 मार्च को ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अनुरोध पर नीरव मोदी के खिलाफ गिरफ्तारी वॉरंट जारी किया था.

नीरव मोदी पर आरोप है कि उन्होंने पंजाब नेशनल बैंक को धोखा देकर 13,600 करोड़ रुपए का कर्ज लिया था. केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पीएनबी घोटाले के संबंध में नीरव मोदी, मेहुल चोकसी तथा अन्य के खिलाफ जांच कर रही है.

पीएनबी द्वारा किया गया खुलासा:

पीएनबी द्वारा किये गये खुलासे में देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के बारे में जानकारी सामने आई है. मीडिया में प्रकाशित जानकारी के अनुसार यह घोटाला करीब 11500 करोड़ रुपये का है. पीएनबी ने शेयर बाज़ार को मुंबई स्थित शाखा में घोटाले की जनाकारी दी है.

पीएनबी घोटाले में हीरा कारोबारी नीरव मोदी का नाम लिया जा रहा था. पीएनबी ने यह घोटाला सामने आने के बाद अपने 10 अधिकारियों को निलंबित कर दिया था. पीएनबी ने बताया कि कुछ खाताधारकों को लाभ पहुंचाने के लिए इतनी बड़ी रकम का लेन-देन किया गया था. इस लेन-देन के आधार पर ग्राहकों को दूसरे बैंकों ने विदेशों में क़र्ज़ दिए हैं.

कैसे हुआ घोटाला?

पीएनबी ने सीबीआई के पास एलओयू से सम्बंधित 280.7 करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े की एफआईआर कराई थी. उस समय पीएनबी के अधिकारियों ने कहा था कि वे अभी इस घोटाले के स्तर की जांच कर रहे हैं.

पीएनबी ने अपनी शिकायत में कहा कि डायमंड्स आर अस, सोलर एक्सपोर्ट्स एवं स्टेलर डायमंड्स नामक तीन हीरा कम्पनियां 16 जनवरी को उनके पास आईं और उनसे क्रेडिट के लिए अनुरोध किया.

पीएनबी ने खरीदार ऋण को बढ़ाने के लिए ऋणदाताओं को पैसा जारी करने हेतु 100 प्रतिशत नकदी मार्जिन की मांग की थी. नीरव मोदी उनके भाई निशाल, पत्नी एमी और मेहुल चीनूभाई चौकसी इन कम्पनियों में भागीदार हैं. इनके न्यूयॉर्क, हॉगकॉग तथा लंदन में हीरे के आभूषणों के शोरूम हैं.

एलओयू क्या है?

यह घोटाला लेटर ऑफ़ अंडरटेकिंग (एलओयू) पर ही आधारित है. यह पत्र एक तरह की गारंटी होती है जिसके आधार पर दूसरे बैंक खातेदार को रकम उपलब्ध करा देते हैं. ऐसे में यदि खातेदार पैसे जमा नहीं कराता है या पैसा लेकर भाग जाता है तो एलओयू जारी करने वाले बैंक की जिम्मेदारी होती है कि वह संबंधित बैंक को भुगतान करे.

नीरव मोदी के बारे में:

नीरव मोदी डायमंड कैपिटल के रूप में प्रसिद्ध बेल्जियम के एंटवर्प शहर की विख्यात डायमंड ब्रोकर कंपनी के परिवार से संबंधित हैं.

नीरव मोदी के विश्व भर के अहम शहरों में ज्वेलरी शोरूम हैं. इनमें दिल्ली मुंबई, न्यूयॉर्क, हॉगकॉग, लंदन, मकाउ आदि शामिल हैं. उनके सबसे चर्चित डिजायन एंडलेस कट, जैस्मीन कट, ऐनरा कट और मुगल कट विशेष लोकप्रिय हैं.

नीरव मोदी द्वारा डिजायन किए गए आभूषण की कीमत 5 लाख रुपये से लेकर 50 करोड़ रुपये तक है, जिसे तमाम दिग्गज हस्तियां पहनती हैं.

नीरव मोदी का नाम फोर्ब्स की सबसे अमीर लोगों की सूची में भी आ चुका है. वर्ष 2017 की सूची में वे 57वें नंबर पर थे. उनकी कुल संपत्ति 1.73 अरब डॉलर यानि 110 अरब रुपये है, जबकि उनकी कंपनी का राजस्व 149 अरब रुपये बताई जाती है.

 

यह भी पढ़ें: ब्रिटिश सरकार ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण को दी मंज़ूरी

Related Categories

Popular

View More