नोबेल पुरस्कार विजेता जॉन ह्यूम का निधन

आयरलैंड के पूर्व राजनीतिज्ञ और नोबेल पुरस्कार विजेता जॉन ह्यूम का हाल ही में निधन हो गया. वे 83 साल के थे. यह जानकारी उनके परिवार ने एक बयान में दी है. वे कई साल से बीमार चल रहे थे. उन्होंने लंबी बीमारी के बाद लंदनडेरी के एक नर्सिंग होम में आखिरी सांस ली.

तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने आयरलैंड के नेता और नोबेल पुरस्कार विजेता जॉन ह्यूम के निधन पर शोक व्यक्त किया. दलाई लामा ने कहा कि ह्यूम की संघर्ष को सुलझाने के लिए शांति और अंहिसा के प्रति प्रतिबद्धता थी. इससे उन्हें फर्क नहीं पड़ता था कि वह कितना जटिल एवं कठिन है. उन्होंने जो सार्थक जीवन जीया वह दूसरों के लिए एक उदाहरण है.

आयरलैंड के प्रधानमंत्री ने क्या कहा?

आयरलैंड के प्रधानमंत्री मिशेल मार्टिन ने कहा कि ह्यूम एक महान नायक और एक सच्चे शांति कार्यकर्ता थे. पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर ने उन्हें एक पॉलिटिकल टाइटन, एक विजनरी बताया, जिन्होंने यह मानने से इंकार कर दिया था कि भविष्य को अतीत के जैसा होना चाहिए.

नोबेल पुरस्कार से क्यों सम्मानित किया गया था?

जॉन ह्यूम अपने देश उत्तरी आयरलैंड में विद्रोहियों के साथ समझौता कराने में अहम भूमिका के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इस समझौते की वजह से उत्तरी आयरलैंड में हिंसा खत्म हुई. उदारवादी सोशल डेमोक्रेटिक एंड लेबर पार्टी के कैथोलिक नेता ह्यूम को उत्तरी आयरलैंड में साल 1998 के शांति समझौते का मुख्य सूत्रधार माना जाता है.

उन्हें कब प्रसिद्धि मिली?

पूर्व शिक्षक और उत्तरी आयरलैंड में 30 सालों से अधिक समय तक सर्वोच्च प्रोफाइल वाले नेता रहे ह्यूम को 1968 में नागरिक अधिकार आंदोलन के दौरान प्रसिद्धि मिली.

जॉन ह्यूम के बारे में

जॉन ह्यूम का जन्म 18 जनवरी 1937 को उत्तरी आयरलैंड के लंदनडेरी शहर में हुआ था. जॉन ह्यूम 1970 में स्थापित सोशल डेमोक्रटिक एंड लेबर पार्टी के संस्थापक सदस्यों में थे. वे 1979 में पार्टी के नेता बन गए और नवंबर 2001 में उन्होंने इस पद को छोड़ दिया. जॉन ह्यूम को साल 1998 में नोबेल पुरस्कार प्राप्त हुआ और वे कई सालों से डिमेंशिया से पीड़ित थे.

उन्होंने 1998 में कहा था कि मैं आयरलैंड को एक उदाहरण के तौर पर देखना चाहता हूं जहां स्त्री-पुरुष सभी अपने विचारों के साथ कहीं भी आसानी से जी सकें, न कि एक-दूसरे से लड़ें और हर व्यक्ति एक-दूसरे को सम्मान के साथ देखे.

Related Categories

Also Read +
x